सोनिया गाँधी की मेडिकल सीटों में ओबीसी आरक्षण की माँग, पीएम मोदी को लिखा पत्र

3 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो । नई दिल्ली- जयपुर : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राज्यों तथा केंद्रशासित प्रदेशों के मेडिकल कॉलेजों में ओबीसी अभ्यर्थियों के लिए आरक्षण सुनिश्चित कराने का आग्रह किया है। पीएम मोदी को लिखे पत्र में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने कहा कि ओबीसी छात्रों को अखिल भारतीय कोटा के तहत राज्य के चिकित्सा संस्थानों में आरक्षण नहीं दिया जाना भारत सरकार के आदेश और 93वें संवैधानिक संशोधन का उल्लंघन है। साथ ही योग्य ओबीसी छात्रों को चिकित्सा की पढ़ाई करने से रोकने जैसा है। कोरोना संकट और चीन के साथ सीमा पर बने तनाव के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। पिछले दिनों लगातार बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर पत्र लिखने के बाद अब अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) छात्रों को आरक्षण के मसले पर उन्होंने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र में लिखा, ‘मैं राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के चिकित्सा शिक्षण संस्थानों में राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) के माध्यम से भरे जा रहे सीटों में अखिल भारतीय कोटा के तहत ओबीसी छात्रों के लिए आरक्षण से इनकार किए जाने से मसले पर आपका ध्यान खींचना चाहती हूँ। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य तथा केंद्र शासित प्रदेशों के चिकित्सा शिक्षण संस्थानों में अखिल भारतीय कोटा के तहत 15 फीसदी अनुसूचित जाति, 7.5 फीसदी अनुसूचित जनजाति और 10 फीसदी आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (EWS) के लिए सीट आरक्षित हैं। हालांकि ओबीसी छात्रों के लिए अखिल भारतीय कोटा की व्यवस्था केंद्रीय संस्थानों में प्रतिबंधित है। राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों के मेडिकल शिक्षण संस्थानों में ओबीसी आरक्षण लागू नहीं होने से वर्ष 2017 के बाद से ओबीसी छात्रों को 11000 से अधिक सीटें गंवानी पड़ी हैं। पत्र में उन्होंने कहा है कि राष्ट्रीय पात्रता एवं प्रवेश परीक्षा (NEET) के माध्यम से होने वाले दाखिले में अखिल भारतीय कोटे के तहत अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) को दिया जाने वाला लाभ सिर्फ केंद्रीय संस्थानों तक सीमित है। सोनिया गांधी के पत्र का समर्थन करते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व उनके पुत्र राहुल गाँधी ने ट्विटर पर लिखा कि ‘सामाजिक न्याय के लिए सकारात्मक कार्रवाई जरूरी है।’ केंद्र के आदेश का उल्लंघन उन्होंने लिखा कि ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ अदर बैकवर्ड क्लासेज (AIFOBC) की ओर से 2017 से एकत्र किए गए आंकड़ों के मुताबिक ओबीसी उम्मीदवार छात्रों को अखिल भारतीय कोटा के तहत 11 हजार से ज्यादा सीटों पर राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के मेडिकल संस्थाओं में आरक्षण नहीं दिया गया। पीएम मोदी को लिखे पत्र में सोनिया गाँधी ने कहा कि ओबीसी छात्रों को अखिल भारतीय कोटा के तहत राज्य के चिकित्सा संस्थानों में आरक्षण नहीं दिया जाना भारत सरकार के आदेश और 93वें संवैधानिक संशोधन का उल्लंघन है। साथ ही योग्य ओबीसी छात्रों को चिकित्सा की पढ़ाई करने से रोकने जैसा है। उन्होंने कहा कि समानता और सामाजिक न्याय को देखते हुए केंद्र सरकार से ओबीसी छात्रों के लिए अखिल भारतीय कोटा के तहत केंद्र और केंद्र शासित प्रदेशों के मेडिकल शिक्षण संस्थानों में मेडिकल और डेंटल सीटों के आरक्षण बढ़ाने का अनुरोध करती हूँ।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This