RUSU Election 2022 : राजस्थान विश्वविद्यालय में डीएसडब्ल्यू की तानाशाही, कई उम्मीदवारों के नामांकन वापस करने से किया इंकार, लिंगदोह समिति की उड़ाई धज्जियाँ

2 min read
(RUSU Election 2022: DSW’s dictatorship in Rajasthan University, refusing to return nominations of many candidates, flouting Lyngdoh committee)

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 23 अगस्त 2022 | जयपुर : राजस्थान यूनिवर्सिटी में आज नामांकन वापसी के दिन जबरदस्त हंगामा हो गया। राजस्थान विश्वविद्यालय में डीएसडब्ल्यू तानाशाही पर उतर आयीं और खुलेआम लिंगदोह समिति की धज्जियाँ उड़ाई । लिंगदोह समिति की शिफरिशों और राजस्थान विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव अधिनियम 2011 और संशोधित अधिनियम 2022 के अनुसार यदि कोई उम्मीदवार चुनाव प्रक्रिया से अपना नामांकन वापस लेना चाहता है तो उसे ऐसा करने का पूर्ण अधिकार है।

किंतु राजस्थान विश्वविद्यालय की छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रोफ़ेसर सरीना कालिया और चुनाव अधिकारी प्रोफ़ेसर हर्ष द्विवेदी की तानाशाही और मनमानी चरम पर देखी गयी क्योंकि उन्होंने किसी ख़ास और चहेते उम्मीदवारों को लाभ पहुँचाने की नियत से कई उम्मीदवारों के नामांकन वापस करने से साफ इंकार किया। गौरतलब है कि राजस्थान विश्वविद्यालय में छात्रसंघ अध्यक्ष के चुनाव 2018 में उपजे विवाद के बाद डीएसडब्ल्यू डॉ. सरीना कालिया ने मंगलवार को अपने पद से स्तीफा दे दिया था।

7ca6509c 4f4f 40fd 8791 41087f63c75d RUSU Election 2022 : राजस्थान विश्वविद्यालय में डीएसडब्ल्यू की तानाशाही, कई उम्मीदवारों के नामांकन वापस करने से किया इंकार, लिंगदोह समिति की उड़ाई धज्जियाँ
DSW’s dictatorship in Rajasthan University, refusing to return nominations of many candidates, flouting Lyngdoh committee

वहीं, स्क्रूटनी कमेटी ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् ( ABVP) के महासचिव और उपाध्यक्ष पद के प्रत्याशियों के नामांकन खारिज कर दिये। इस बात से भड़के उम्मीदवार और एबीवीपी के कार्यकर्ता मुख्य चुनाव अधिकारी के कक्ष में पहुंचे और जमकर हंगामा किया।

हंगामा इतना बढ़ गया कि ABVP के राष्ट्रीय मंत्री होशियार मीणा मुख्य चुनाव अधिकारी को मारने तक के लिए दौड़ पड़े, लेकिन पुलिस ने मीणा को पहले ही रोक लिया। इस दौरान एबीवीपी के कार्यकर्ताओं की भीड़ डीएसडब्ल्यू (डिपार्टमेंट ऑफ स्टूडेंट वेलफेयर) ऑफिस का घेराव करने पहुंची।

वहीं, मौके पर मौजूद पुलिस ने भीड़ को आगे नहीं बढ़ने दिया। उधर स्टूडेंट की भीड़ को देखते हुए मुख्य चुनाव अधिकारी ने अपने दफ्तर को अंदर से बंद कर लिया और किसी के भी प्रवेश पर रोक लगा दी।

मुख्य चुनाव अधिकारी (राजस्थान यूनिवर्सिटी) हर्ष द्विवेदी के अनुसार महासचिव के एबीवीपी उम्मीदवार अरविंद झा ने कोर्ट के नियमों के विपरीत नामांकन दाखिल किया था, वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए साक्षी ने गलत दस्तावेज पेश किए थे।

ऐसे में दोनों प्रत्याशियों का नामांकन खारिज हो गया है। जिसको लेकर एबीवीपी के कार्यकर्ता डीएसडब्ल्यू (डिपार्टमेंट ऑफ स्टूडेंट वेलफेयर) आफिस में हंगामा कर रहे हैं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This