क्यों जला दी गई अंकिता, जैसे हम तड़प तड़प कर मर रहे हो वैसे ही वह भी तड़प तड़प कर मरे

4 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 29 अगस्त 2022 | जयपुर-झारखंड: झारखंड के दुमका जिले में रहने वाली अंकिता को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया। रांची में इलाज के दौरान ही उसकी मृत्यु हो गई। हिंदू संगठन इसे लव जिहाद का मामला बता रहे हैं। विपक्ष हेमंत सरकार पर तुष्टीकरण का आरोप लगा रहे हैं। झारखंड के कई शहरों में इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए झारखंड सरकार ने गुनहगार को जल्द से जल्द सजा दिलवाने के लिए स्पीडी ट्रायल का आश्वासन दिया हैं।

अंकिता की उम्र 17 साल थीं, वह कक्षा 12वीं की छात्रा थी। अंकिता के परिवार का कहना हैं की कई दिनों से शाहरुख से परेशान कर रहा था। 22 अगस्त की रात करीब 9 बजे अंकिता को शाहरुख कॉल आया। शाहरुख ने उससे फोन पर कॉल का जवाब देने को कहा, अंकिता के इनकार करने पर शाहरुख ने धमकी दी थी।

अगली सुबह करीब 4:00 बजे शाहरुख अंकिता के घर आया और खिड़की से कमरे में सो रही अंकिता पर पेट्रोल डालकर उसे आग के हवाले कर देता है। अंकिता की नींद खुलती है खुद को जलता हुआ देख वह कमरे से बाहर की ओर भागती है और अपने ऊपर पानी से भरा बाल्टी डालती है लेकिन इससे आग नहीं बुझती, इतने घरवाले पहुंच कर कंबल के जरिए आग बुझाते हैं। इसके बाद उसे दुमका के फूलो झानो मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालांकि डॉक्टरों के अनुसार अंकिता का शरीर 90% जल चुका था। 

23 अगस्त को अंकिता को प्राथमिक इलाज के बाद रांची के रिम्स अस्पताल में उसे रेफर कर दिया गया। इस घटना में अंकिता के दोनों हाथ, पैर और पेट का हिस्सा काफी बुरी तरह से जल चुका था। 28 अगस्त को इलाज के दौरान ही अंकिता की मौत हो गई। 

क्यों जलाया अंकिता को?

अंकिता के पिता कहते हैं कि शाहरुख पिछले 3 साल से उसे परेशान कर रहा था अंकिता ने जब यह बात अपने पिता को बताई तो पहले तो उन्होंने नजरअंदाज कर दिया। पर शाहरुख ने उसे और परेशान करना शुरू कर दिया। फिर उन्हें पुलिस में शिकायत करवानी पड़ी हालांकि शाहरुख के बड़े भाई ने माफी मांगी और कहा अब से ऐसा नहीं होगा। लेकिन कुछ दिनों बाद ही वह फिर से अंकिता को परेशान करना शुरू कर देता हैं।

घटना के ठीक 1 दिन पहले आरोपी कहीं से अंकिता का फोन नंबर पता कर उसे फोन कर बात करने को कहता है और ऐसा न करने पर जान से मार देने की धमकी देता हैं। अंकिता यह सब अपने पिता को बताती है और उसके पिता सुबह पुलिस के पास जाने का फैसला करते हैं। किन्तु किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि सुबह होने से पहले ही यह दरिंदगी भरी घटना घट चुकी होगी।

अंकिता का बयान।

अंकिता की मृत्यु के कुछ घंटे पहले उसने पुलिस को बताया की 23 अगस्त की सुबह अचानक मैंने कमरे की खिड़की के पास आग की लपटें देखी जब मैंने खिड़की खोली तो मैंने देखा शाहरुख हाथ में पेट्रोल का केन लेकर मेरे घर की तरफ से भाग रहा था उसी वक्त मुझे काफी जलन महसूस होने लगी।जब तक मैं कुछ समझ पाती मेरा शरीर पर आग लग चुकी थीं।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो बहुत वायरल हो रहा है जिसमें अंकिता ने कहा जिस तरह मैं तड़प तड़प कर मर रही हूं उसी तरह वह भी तड़प तड़प कर मारेगा। बताया जा रहा है कि यह वीडियो उस वक्त का है जब अंकिता पुलिस बयान दे रही थी।

सरकार पर आरोप।

पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास हेमंत सरकार पर तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप लगा रहे हैं रघुवर दास ने कहा एक और  हेमंत सरकार नदीम जैसे उपद्रवी को एयर एंबुलेंस से भेजकर सरकारी खर्चे पर इलाज करवा रही है वहीं दूसरी ओर झारखंड की बेटी को मरने के लिए छोड़ दिया। भाजपा विधायक बाबूलाल मरांडी भी सरकार पर आरोप लगा रहे, कहा बेहतर इलाज ना मिलने की वजह से अंकिता की जान गई।

महिला आयोग अध्यक्ष रेखा शर्मा ने डीजीपी से मांगा जवाब

महिला आयोग अध्यक्ष रेखा शर्मा कहती हैं यह बेहद दयनीय है आप किसी भी महिला को जबरदस्ती शादी के लिए नहीं मनवा सकते हैं इसलिए इस बच्ची को अपनी जान गंवानी पड़ी। उन्होंने डीजीपी से एक हफ्ते में रिपोर्ट की मांग की हैं। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर बताया कि मामला फास्ट ट्रैक में चलेगा। जांच की प्रोग्रेस रिपोर्ट एडीजी के अवसर से जल्द मांगी गई है। मुख्यमंत्री अंकिता के परिवार को 10लाख रुपए देने का ऐलान किया हैं।

राज्य में तनाव

अंकिता की मौत की खबर सुनते ही लोग सड़कों पर आ गए हैं घटना के विरोध में लोगों ने सड़कों पर नारेबाजी करते हुए जाम लगाया। यह लोग आरोपी को फांसी देने की मांग कर रहे हैं कई शहरों में स्थिति बहुत तनावपूर्ण है और इसे देखते हुए प्रशासन ने दुमका में धारा 144 लगा दी हैं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This