पसीना नैचुरल क्लींजर : पसीना एंटीबायोटिक जूस जो हमारी बॉडी में बैक्टीरिया से लड़ता है, बैक्टीरिया पसीने के मॉलिक्यूल खाते हैं

3 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 30 अगस्त 2022 | जयपुर : आप पसीने की बदबू से परेशान हैं। लोग आपसे दूर भागते हैं, तो जान लीजिए ये पसीना और उसकी बदबू दोनों आपके लिए बहुत फायदेमंद हैं। पसीना आपको हाइड्रेट ही नहीं रखता, बल्कि त्वचा की कई बीमारियों से बचाता है। दरअसल हमारी त्वचा पर 200 से ज्यादा प्रकार के बैक्टीरिया मौजूद होते हैं।

पसीना निकलने पर ये एक्टिव हो जाते हैं। पसीने की अपने आप में कोई गंध नहीं होती, लेकिन हमारी कांख और जांघों के बीच से निकलने वाले पसीने में तेल, फैट और प्रोटीन भी होता है। कुछ खास तरह के बैक्टीरिया यहां ज्यादा एक्टिव हो जाते हैं। इसलिए यहां से ज्यादा बदबू आती है, लेकिन यह बैक्टीरिया एक्जिमा जैसी बीमारियों से बचाता है। पसीना MRSA जैसी बीमारियों को भी दूर रखता है। इसके बैक्टीरिया आमतौर पर अस्पतालों के आसपास पाया जाता है। अमेरिका में बड़ी आबादी इस बीमारी से परेशान है।

बैक्टीरिया पसीने के मॉलिक्यूल खाते हैं
यॉर्क यूनिवर्सिटी के बॉयोलॉजिस्ट गेविन थॉमस कहते हैं, पसीने में बदबू हमारे शरीर पर बैक्टीरिया की वजह से होती है। भूखे बैक्टीरिया पसीने के मॉलिक्यूल खाते हैं, जिनसे दूसरे मॉलिक्यूल बनते हैं। इनकी अलग-अलग गंध होती है।

पसीना एक तरह का एंटीबायोटिक जूस है
डर्मिटलॉजिस्ट रिचर्ड गैलो कहते हैं, हमारा पसीना एक तरह का एंटीबायोटिक जूस है, जो हानिकारक बैक्टीरिया से लड़ने के लिए एक दीवार तैयार कर देते हैं। एंटीबैक्टीरियल साबुन से नहाने के बाद भी ये आपके शरीर पर मौजूद रहते हैं। नहाने के 10 मिनट के अंदर ही ये फिर तैयार हो जाते हैं और आपको स्वस्थ रखते हैं।

डिटॉक्सिफिकेशन
पसीना शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। चीन में किए गए शोध के अनुसार, पसीने और मूत्र में उच्च मात्रा में भारी धातुएं होती हैं जो दर्शाती हैं कि ये प्रक्रिया शरीर से भारी धातु सांद्रता से छुटकारा पाने का एक शानदार तरीका है। www.myupchar.com के डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि गर्मियों में या वर्कआउट करते समय पसीना आना काफी सामान्य है। वास्तव में यह स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है, क्योंकि यह शरीर को ठंडा रखने में मदद करता है और शरीर विषाक्त पदार्थों से मुक्त हो जाता है। लेकिन कुछ लोगों को अत्यधिक पसीना आता है जो हार्मोनल असंतुलन और अन्य कई कारणों से हो सकता है।

रासायनिक उन्मूलन
पसीने के साथ रसायनों का खात्मा भी होता है। शरीर में कई कार्बनिक रसायन मौजूद होते हैं जो स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। पसीना शरीर से इन रसायनों को खत्म करता है, ताकि स्वास्थ्य जोखिम कम हो सके।

नैचुरल क्लींजर

जब पसीना आता है, तो त्वचा के रोम छिद्र खुल जाते हैं, जिससे शरीर से सारी गंदगी और बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं। इसीलिए यह आपके चेहरे को साफ करने में मदद करता है। वर्कआउट के बाद एक जेंटल क्लींजर से चेहरा धोएंगे तो चेहरे पर चमक आ जाती है।

नैचुरल ग्लो
पसीना प्राकृतिक चमक देता है, क्योंकि पसीना शरीर में ब्लड सर्कुलेशन के कारण एक आंतरिक चमक देता है। इसलिए, पसीने के बाद, त्वचा नरम हो जाती है और स्वाभाविक रूप से जीवंत और चमकदार दिखती है।

बालों के लिए फायदेमंद
पसीना न केवल त्वचा बल्कि बालों को भी स्वस्थ रखता है। क्योंकि जब बालों के बीच स्कैल्प में पसीना बहता है, तो आपके रोम छिद्र खुल जाते हैं, जो बालों के विकास को बढ़ावा देते हैं। लेकिन जब बाल बहुत पसीने से तर हो जाते हैं, तो इसे हल्के शैम्पू से धोना चाहिए। क्योंकि इससे स्कैल्प में खुजली भी हो सकती है।

व्यक्ति का मूड चेहरे और त्वचा पर दिखता है क्योंकि मूड कोलेजन उत्पादन को प्रभावित करने में सक्षम है। वर्कआउट के दौरान पसीना आने से मूड बेहतर होता है। भारी व्यायाम शरीर में अधिक एंडोर्फिन छोड़ने में मदद करता है, यह एक हैप्पी हार्मोन है, जो खुशी को दोगुना कर देता है। एक्सरसाइज करने के बाद नींद भी आती है।

इम्यूनिटी को बढ़ावा देता है
पसीना प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। पसीने में 95 प्रोटीन की पहचान की गई, उनमें से 20 नोवल डिफेंस प्रोटीन थे। एक अध्ययन से पता चलता है कि डर्मसीडिन सबसे प्रचूर मात्रा में स्वेट प्रोटीन छोड़ता है। डर्मसीडिन में विशेष रूप से पसीने की ग्रंथियां है जो पसीने का स्राव करती हैं और त्वचा की सतह तक पहुंचते हैं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This