Speak English Easily : बेहतर कम्युनिकेशन के लिए इंग्लिश में सोचें, गलतियां करने से न डरें, अच्छी इंग्लिश बोलना सीख सकते हैं

5 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 30 अगस्त 2022 | जयपुर : अगर आपकी अंग्रेजी कमजोर है, तो भी इससे घबराने की बिल्कुल जरूरत नहीं है। अंग्रेजी बोलना इतना मुश्किल भी नहीं. बेसिक से शुरुआत करके आप अच्छी इंग्लिश बोलना (English Speaking) सीख सकते हैं। इसके लिए कोई कोचिंग संस्थान या इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स (English Speaking Course) ज्वाइन करके मोटी फीस देने की भी जरूरत नहीं है। बस जरूरत है ऐसे शब्दों और वाक्यों से शुरुआत करने की जिन्हें हम रोज के इस्तेमाल में ला सकते हैं।

कुछ आसान शब्दों और छोटे-छोटे वाक्य सीखना (Learn English) शुरू कीजिए। जब भी हम ऐसे ही बैठे होते हैं तभी हमारे मन में कुछ ना कुछ चलता रहता है, तभी हम हिंदी में विचार करते हैं। यह आदत बदल दे और इंग्लिश में विचार करना शुरू कर दें। इंग्लिश में बोलना कैसे सीखे ? इससे आपको यह फायदा होगा कि आपके विचार को आप अच्छे से बोल पा ओगे और सामने वाले को समझा पा ओगे साथ ही आपकी अंग्रेजी भी अच्छी हो जायेगी।

भारत में अधिकांश लोग बोलनें में हिंदी भाषा का प्रयोग करते है, परन्तु यदि आप अंग्रेजी लिखना सीखना चाहते है तो सबसे पहले इंग्लिश ग्रामर का ज्ञान होना आवश्यक है । अंग्रेजी लिखनें के लिए शब्दों की स्पेलिंग याद होना अत्यंत अवश्यक है, इसलिए आप बेसिक इंग्लिश शब्दों की स्पेलिंग अवश्य याद करे। यदि आपको स्पेलिंग अच्छी तरह से आती है, तो आप लिखनें में मिस्टेक नही करेंगे और आप बहुत ही जल्द अंग्रेजी लिखनें लगेंगे ।

बेहतर ढंग से अंग्रेजी पढ़नें के लिए आप अंग्रेजी समाचारपत्र की मदद ले सकते है । सबसे खास बात यह है कि अंग्रेजी समाचारपत्र हमें आसानी से उपलब्ध हो जाते है । आप प्रतिदिन नियमित रूप से समाचार पत्रों को पढ़नें आदत डाले, जिससे आपकी पढ़नें कि स्पीड बढ़ने के साथ ही अंग्रेजी शब्दावली में वृद्धि होगी।

अग्रेंजी एक ऐसा भाषा है जो काम में मदद तो करती है। साथ ही, अंग्रेजी बोलने पर अच्छा इम्प्रेशन भी पड़ता है। हालांकि, आज भी कई लोग इसे मुश्किल भाषा मानते हैं और इससे बचते हैं। ये इतनी मुश्किल नहीं है कि इसे सीखा ना जा सके। थोड़ी सी मेहनत और टाइम देकर आप अंग्रेजी को को आसानी से सीख सकते हैं। हम आपको बता रहे हैं कुछ एेसी ही बातों के बारे में जिन पर ध्यान देने से आप आसानी से इंग्लिश सीख सकते हैं।

इंग्लिश सीखने के बेनिफिट –

1) जॉब्स के अधिक अवसर: यदि आप केवल अपनी लोकल भाषा बोलते हैं, तो आपके नौकरी के अवसर लिमिटेड हो सकते हैं। जब आप अंग्रेजी बोलते हैं, तो आप बड़ी कंपनियों में और अपने देश के बाहर जॉब्स तलाश कर सकते हैं।

2) इंटरनेशनल कंपनियों को इंग्लिश बोलने वालों की जरूरत है: बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियां जो मल्टीपल कन्ट्रीज में काम करती हैं, उन्हें इंग्लिश बढ़िया बोलने वाले बहुत काम आते हैं।

3) प्रमोशन के अधिक अवसर: यदि आप इंग्लिश पढ़ते, लिखते और बोलते हैं तो कंपनियों में आपके प्रमोशन के अवसर अधिक होते हैं।

4) बेहतर कम्युनिकेशन: ज्यादातर बड़ी कंपनियों में और सरकार में भी, हाई लेवल पर इंग्लिश बढ़िया आना आपके लिए एक एसेट ही होता है।

5) बिजनेस की भाषा: अंग्रेजी को अक्सर ‘बिजनेस की भाषा’ के रूप में जाना जाता है क्योंकि यह बिजनेस वर्ल्ड में सबसे व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा है। इंग्लिश में फ्लूएंट होने से आप व्यावसायिक बैठकों में भाग ले सकते हैं और नए देशों में अपनी कंपनी के उत्पादों की मार्केटिंग कर सकते हैं।

6) हायर स्टडीज के लिए जरूरी: अधिकांश प्रतिष्ठित इंटरनेशनल यूनिवर्सिटीज इंग्लिश में एजुकेशन देते हैं। इसलिए किसी स्टूडेंट को दुनिया भर के टॉप यूनिवर्सिटीज में प्रवेश पाने के लिए जीआरई, जीमैट, आईईएलटीएस और टीओईएफएल जैसी परीक्षा देनी होती है, जो इंग्लिश में ही होती है।

7) साइंस की भाषा: इंग्लिश साइंस की फील्ड में व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली भाषाओं में से एक है। इंग्लिश में प्रवीणता एसटीईएम – साइंस, टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग – यहां तक कि मैथ्स के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण है। इसका नॉलेज आपको वर्ल्ड के कुछ सबसे इंटेलेक्चुअल रिसोर्सेज तक पहुंचा देगा।

8) पॉप कल्चर के साथ जुड़ाव: अगर आप हॉलीवुड फिल्मों और पॉप कल्चर शो के सब-टाइटल्स पढ़ कर देखते हुए थक गए हैं? इंग्लिश की समझ बढाकर आप ट्रेंडिंग पॉप कल्चर और अंग्रेजी फिल्मों से जुड़ सकते हैं!

मैं बहुत लोगों को इंग्लिश बोलना सिखा चुका हूं और कुछ सिंपल टिप्स ये रहे 

1) गलतियां करने से न डरें: आपका गोल सही ग्रामर और वोकैब्युलरी के साथ मैसेज देना है, न कि 100% सही अंग्रेजी बोलना। खुद इंग्लिश देशों में रहने वाले लोग भी इंग्लिश बोलने में गलती करते हैं!

2) इंग्लिश में सोचें: पहली बार में आपको यह मुश्किल लगेगा, लेकिन कुछ समय बाद आप सीखेंगे कि अंग्रेजी और अपनी पहली भाषा के बीच कैसे स्विच किया जाए।

3) फिल्में देखकर अंग्रेजी सीखें: एक स्टडी के अनुसार, इंग्लिश फिल्में देखने से सुनने के स्किल्स में सुधार के साथ-साथ बोलने के स्किल्स पर पॉजिटिव प्रभाव पड़ता है। इंग्लिश फिल्में देखने से सही उच्चारण भी बढ़ता है। अंग्रेजी फिल्में वोकैब्युलरी (शब्दावली) बढ़ाने में भी मदद करती हैं। जितना अधिक आप सुनेंगे, आपके लिए बेहतर इंग्लिश बोलना उतना ही आसान होगा।

4) जोर से पढ़ें: शुरुआती दौर में, आप जोर से पढ़कर आसानी से बोलने की प्रैक्टिस कर सकते हैं। इससे आपको अपने उच्चारण और इंटोनेशन का अभ्यास करने में मदद मिलेगी। यदि आप सुनिश्चित नहीं हैं कि कुछ कैसे कहा जाए, तो उसे देखें, या अपने कंप्यूटर पर सुनें।

5) छोटे छोटे वाक्य बनाएं: शुरुआत में आप लंबे और कॉम्प्लेक्स सेंटेंस बनाने से बचें।

6) अपने आप को रिकॉर्ड करें: यह अच्छा आइडिया है, आप इसे स्वयं कर सकते हैं। हो सकता है कि आप स्वयं के साथ बातचीत कर रहे हों या किसी कठिन शब्द के उच्चारण का अभ्यास कर रहे हों।

7) अच्छा टीचर, बढ़िया एप और अच्छी बुक्स: अपने लिए इंग्लिश का अच्छा टीचर ढूंढे, बढ़िया एप्स यूज करें और सही किताबें पढ़ें।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This