जातिवादी जहर : भारोड़ी गांव के राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में दलित छात्राओं ने मिड डे मील परोसा, कुक ने बच्चों से कहा खाना मत, फेंक दो

4 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो I 3 सितंबर 2022 I जयपुर-उदयपुर : दलित छात्राओं ने मिड डे मील परोसा तो कुक ने खाना फिंकवा दिया। शर्मसार करने वाला यह मामला उदयपुर के एक सरकारी स्कूल का है। दोनों बच्चियों ने कुक के खिलाफ पुलिस में शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की, इस पर आरोपी कुक को गिरफ्तार कर लिया गया है।

दरअसल, गोगुंदा थाना क्षेत्र के भारोड़ी गांव के राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में शुक्रवार को छात्रा डिंपल मेघवाल(13) और नीमा मेघवाल(14) ने स्कूल में मिड डे मील के दौरान दाल और रोटी परोसी थी। डिंपल सातवीं और नीमा आठवीं कक्षा में पढ़ती हैं।

आरोपी है कि कुक लालूराम गुर्जर ने भेदभाव करते हुए छात्रों से कहा, ये नीची जाति की हैं, खाना क्याें खा रहे हो? कुक ने कई बच्चों से खाना भी फिंकवा दिया। SC-ST से जुड़े इस मामले की जांच डिप्टी एसपी भूपेंद्र सिंह कर रहे हैं। आरोपी कुक 55 वर्षीय लालूराम गुर्जर को गिरफ्तार कर लिया गया है। आगे बढ़ने से पहले नीचे दिए गए पोल में हिस्सा लेकर आप इस खबर पर अपनी राय दे सकते हैं।

डिप्टी एसपी बताया कि प्रारंभिक जांच में आरोप सही लग रहा है। लालूराम गुर्जर यहां कई वर्षों से काम कर रहा था। अब तक वह अपने चुने हुए बच्चों से ही खाना सर्व कराता था। मगर शुक्रवार को इन दो बच्चियों के दाल परोसने पर उसे आपत्ति थी। आरोपी कुक लालूराम गुर्जर को गिरफ्तार कर लिया गया है। जो सालों से इसी स्कूल में काम कर रहा था।

छात्राएं बोलीदाल परोसे जाने से कुक नाराज
उधर, डिंपल और नीमा मेघवाल का कहना है कि स्कूल के बाद भोजन के समय बच्चे खाना खा रहे थे।हमारे दाल परोसने कुक लालूराम गुर्जर नाराज हो गया। उनके साथ गाली-गलौज भी की। छात्र-छात्राओं से कहा कि ये नीची जाति की हैं, इनके छुए खाने को क्यों खा रहे? फेंक दो। इतना कहते ही कई बच्चों ने खाना फेंक दिया। लालूराम ने गुंथे हुए गीले आटे और बची दाल को भी फेंक दिया।

घटना की जानकारी मिलने पर मेघवाल बस्ती के लोग स्कूल में पहुंचे। अध्यापकों से कुक की शिकायत की। स्कूल के स्टाफ ने कुक को गलत ठहराया और उसके सामने कहा कि स्कूल में भेदभाव नहीं होने दिया जाएगा। स्कूल में कई जातियों के बच्चे पढ़ते हैं। गोगुंदा थाना क्षेत्र के भारोड़ी गांव के राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में बाहर फेंका गया मिड डे मील। यह स्कूल उदयपुर जिला मुख्यालय से करीब 50 किलोमीटर दूर स्थिति है।

कुक के कहने पर बच्चों ने खाना फेंकास्कूल प्रिंसिपल
घटनाक्रम को लेकर स्कूल के प्रिंसिपल और मिड-डे मील प्रभारी शिवलाल शर्मा ने बताया कि छात्राओं ने दाल ठीक से नहीं देने की शिकायत करते हुए खुद दाल परोसने की मंजूरी ली थी। डिंपल-नीमा ने सभी को दाल जबकि दो अन्य छात्रों ने रोटियां परोसीं। डिंपल-नीमा के खाना सर्व करने से लालूराम गुस्सा हो गया। उसने सभी को खाना फेंक देने को कह दिया। इस पर 4-5 बच्चों ने खाना फेंक दिया।

आटे में मेंढक गिर जाने के कारण फिंकवाया: प्रिंसिपल
प्रिंसिपल ने कहा कि गीले आटे में मेंढक गिर जाने से उसे मेरे कहने पर फेंका गया था। बाकी स्कूल में अच्छा वातावरण है, बच्चे एक जगह से पानी पीते हैं और एक साथ बैठकर खाना खाते हैं। कुक की पुरानी सोच के कारण बात बढ़ गई, लेकिन हम माहौल नहीं बिगड़ने देंगे। जिन बच्चों ने खाना फेंका, उनके माता-पिता को स्कूल में बुलाया गया है। लालूराम सहित सभी को समझाया जाएगा।

वहीं, स्कूल के शिक्षक रामकिशन बैरवा ने कहा कि मेघवाल समाज की छात्राओं ने कम खाना देने की बात कही थी। जिस पर उन्हें खुद ही खाना परोसने के लिए कहा गया। उसके बाद खाना बनाने वाले ने खाना परोसने पर टोका और कुछ बच्चों को खाना फेंकने के लिए कहा। जिस पर उसे समझाया गया है।

दलित बच्चों से अत्याचार के मामले राजस्थान में पहले भी सामने आये हैं 

दौसा में हाथ तोड़ा
दौसा में भी 8 दिन पहले ऐसा केस सामने आया था। यहां सरकारी स्कूल में एक स्टूडेंट ने टीचर पर हाथ तोड़ने का आरोप लगाया था। घटना पांच अगस्त की है, लेकिन एफआईआर 25 अगस्त को हुई थी। परिजनों का आरोप है कि मामले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। मामला जिले के सिकंदरा थाना क्षेत्र का था।

गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल कैलाई में पढ़ने वाले रोहित महावर (10) के पिता विनोद महावर ने मामला दर्ज कराया है। पिता का आरोप है कि स्कूल शिक्षक रामेश्वर प्रसाद ने पांच अगस्त को उसके बेटे को बेरहमी से लात मारी थी। इससे रोहित गिर गया और उसकी कोहनी में फ्रैक्चर हो गया। उसका आरोप है कि स्कूल हेडमास्टर को जानकारी देने के बाद परिवार और बच्चे को धमकाया गया।

बाड़मेर में टीचर ने दलित स्टूडेंट को पीटा, सिर में लगी चोट
बाड़मेर में करीब 10 दिन पहले भी एक दलित बच्चे को पीटने का मामला सामने आया था। बाड़मेर के सरकारी स्कूल में 7वीं क्लास में पढ़ने वाले स्टूडेंट की टीचर ने पिटाई कर दी। बच्चे के सिर में चोट आई और हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा था। बच्चे का दोष सिर्फ इतना था कि उसने क्लास टेस्ट में पूरे सवालों का जवाब नहीं दिया था। मामला शहर में स्थित सरकारी स्कूल नंबर- 4 का था।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This