संडे बिग स्टोरी : गुजरात-महाराष्ट्र में बिक रहीं है राजस्थान की आदिवासी बेटियाँ, बिकने से मना करने की सजा रेप

6 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो I 4 सितंबर 2022 I जयपुर-मुंबई : सुप्रसिद्ध साहित्यकार हरिराम मीणा ने अपने नवीनतम उपन्यास ‘डांग’ में दस्यु एवं महिलाओं की खरीद फ़रोख्त तथा वैश्यावृत्ति जैसे मुद्दों को प्रमुखता से उजागर करते हुए इस कृति में अंचल की अन्य समस्याओं यथा गरीबी, कन्या वध, खनन स्थलों की समस्या, दलित एवं जातिवाद, गुजर-मीणा विवाद, राजनीति, विकास, पर्यटन आदि को छूते हुए संस्कृति के विभिन्न पक्षों को स्थान देने का महत्वपूर्ण कार्य किया है।

राजस्थान देशभर में महिला सरकारी में दुसरे पायदान पर है जहाँ से लड़कियों को खुलेआम खरीदा-बेचा जा रहा है। दूसरे राज्यों में बैठे ऐसे गैंग्स के सरगना अपने एजेंट्स के जरिए इस पूरे गोरखधंधे को चला रहे हैं। यहाँ नाबालिग बच्चियों को गुजरात से लेकर महाराष्ट्र तक फैले सीक्रेट बाजारों में लाखों रुपए में बेचा जाता है।

गुजरात से सटे 4 जिलों सिरोही, उदयपुर, बांसवाड़ा और डूंगरपुर की बच्चियाँ इन गैंग्स का सॉफ्ट टारगेट हैं। यहाँ के कई गाँवों की लड़कियों को किडनैप कर या नौकरी का लालच देकर दलाल अपने जाल में फंसा लेते हैं। कई महीनों तक बंधक बनाकर रखते हैं। जब तक खरीदार नहीं मिलता, दलाल इनके साथ रेप करते हैं।

डील होने के बाद ही बच्चियों से टॉर्चर की असली कहानी शुरू हो जाती है। खरीदने वाले दरिंदे दिन-रात उन्हें अलग-अलग मर्दों को सौंप देते हैं। मूकनायक मीडिया रिपोर्टर ने ऐसी ही 2 लड़कियों से बात की, जिन्हें हाल में राजस्थान पुलिस ने गुजरात जाकर दलालों के चंगुल से छुड़ाया।

ये बेटियाँ इतनी सहमी थीं कि कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हुईं। काफी समझाइश के बाद बात करने को तैयार हुईं और अपना दर्द बयाँ किया। बातचीत में जो सच सामने आया वो बेहद डरावना था। यहाँ मौजूद सबसे बड़ी गैंग के गुजरात में बैठे मुख्य सरगना नागजी के एक इशारे पर तस्कर राजस्थान से बच्चियों को उठा रहे हैं। ये सरगना गाँवों में ‘छोकरियों के सेठ’ नाम से भी कुख्यात हैं।

इस बार संडे बिग स्टोरी में पढ़िए बेटियों की दलाली का सच बयाँ करती रिपोर्ट

Untitled 300x246 संडे बिग स्टोरी : गुजरात महाराष्ट्र में बिक रहीं है राजस्थान की आदिवासी बेटियाँ, बिकने से मना करने की सजा रेप
गुजरात-महाराष्ट्र में बिक रहीं है राजस्थान की आदिवासी बेटियाँ

केस 1 : काम के बहाने गुजरात ले जाकर कई बार रेप
मेरा नाम मुस्कान (20) (बदला हुआ नाम) है। सिरोही जिले के पिंडवाड़ा क्षेत्र के आदिवासी इलाके के पहाड़ों में बसे एक गाँव में रहती हूं। कुछ दिन पहले पिंडवाड़ा बाजार में देविका नाम की महिला से मुलाकात हुई। जिसे मैं जानती नहीं थी। उसने काम दिलाने के बहाने मेरे मोबाइल नंबर लिए।

6 जुलाई को देविका ने नौकरी दिलाने के बहाने फोन कर बुलाया। वहाँ पहुँची तो उसने अपने पति वनराज के साथ मुझे ट्रेन में बैठाकर रवाना कर दिया। वो मुझे सिद्धपुर इलाके के एक होटल में ले गया। वहाँ वनराज ने मेरे साथ रेप किया। इसके बाद उसने मेरे साथ मारपीट की और टेबलेट देकर बेहोश कर दिया।

होश आया तो मैं गुजरात के एक सुनसान इलाके में एक मकान में बंद थी। वहाँ और भी कई लड़कियाँ कैद थीं। वहाँ भी वनराज ने मेरे साथ रेप किया। फिर दलपत नाम के एक और आदमी ने मुझे नये-नये कपड़े दिलवाये। दलपत और वनराज दोनों मिलकर हर बार कपड़े बदलकर वहाँ आए दूसरे मर्दों के सामने पेश करते, लेकिन मेरा रंग सांवला था, तो किसी ने भी मुझे पसंद नहीं किया।

मैंने इस बर्बादी को ही अपनी किस्मत मान लिया था, लेकिन तभी 13 जुलाई को वहाँ पुलिस की रेड हुई। पुलिस टीम में हेड कॉन्स्टेबल सुमन राठौड़ भी थीं, जो आदिवासी भाषा में बात कर रही थीं। मैं उनसे लिपट गयी और अपनी पूरी आपबीती बताई। पुलिस ने मुझे और दूसरी लड़कियों को छुड़ाकर अपने घरों तक पहुँचाया। वनराज और दलपत को भी गिरफ्तार कर लिया।

केस 2 : 15 साल की मासूम का अपहरण, पुलिस ने मामला ही दर्ज नहीं किया
दो महीने पहले सिरोही जिले के पिंडवाड़ा क्षेत्र के आदिवासी इलाके की 15 साल की मासूस दीया (बदला हुआ नाम) पिंडवाड़ा बाजार से गायब हो गयी। पिता ने थाने में गुमशुदगी की शिकायत दी। शिकायत का पत्र थाने में गुम हो गया और पुलिस ने मामला ही दर्ज नहीं किया।

दो महीने तक माँ-बाप दिन-रात बेटी की याद में रोते रहे। हाल में ही पुलिस ने मासूम को तस्करों से छुड़ाया।

मासूस की जुबानी पढ़िए दो महीने तक उसके साथ क्या-क्या हुआ
दीया ने बताया- 2 महीने पहले वो कपडे़ खरीदने गाँव से पिंडवाड़ा बाजार गयी थी। इस दौरान उसे वहाँ एक महिला मिली और उसने उसके नंबर माँगे। जान-पहचान नहीं होने पर उसने नंबर देने से मना कर दिया। इसके बाद वो महिला बातों में फंसाकर एक दुकान में ले गयी।

वहाँ नये-नये कपडे़ दिखाए। वहाँ मौजूद वनराज नाम का युवक उसे काम दिलाने के बहाने अपने साथ ले गया। शाम हुई तो उसने घर जाने की बात कही। वनराज ने मना कर दिया और एक सुनसान इलाके में उसके साथ रेप किया। होश आया तो वो एक नई जगह पर थी।

कुछ दिन बाद वनराज उसे रमिला नाम की एक महिला के पास ले गया। जहाँ रमिला ने उसे 30 हजार रुपए में खरीद लिया। इसके बाद उसे गुजरात के खेरालु गाँव के बाहर एकांत में बने एक मकान में शिफ्ट कर दिया। वहाँ उसके अलावा एक दूसरी महिला रहती थी, जो 24 घंटे उस पर नजर रखती थी।

इधर 13 जुलाई को वनराज और दलपत को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। पूछताछ के बाद पुलिस ने रमिला के घर पर रेड मारते हुए उसे भी गिरफ्तार कर लिया। 14 जुलाई को रमिला की निशानदेही पर पुलिस ने उसे गुजरात के खेरालु गाँव से छुड़ाया और उसके माँ-बाप के पास पहुँचाया।

इस पूरे रैकेट का सरगना नागजी
सिरोही के पिंडवाड़ा सर्कल के डिप्टी जेठू सिंह करणोत ने बताया कि इस गिरोह का सरगना मेहसाणा (गुजरात) का रहने वाला नागजी है। वह अपने गाँव डोबड़ा से पूरा रैकेट चलाता है। उसे पकड़ने के लिए पुलिस ने कई बाद दबिश भी दी, लेकिन वह हाथ नहीं लगा। वहीं, गुजरात में खेरालु थाना पुलिस ने बताया कि राजस्थान पुलिस की सूचना पर नागजी की तलाश की जा रही है, लेकिन आरोपी अभी पकड़ में नहीं आया है।

3 तरीकों से बेचा जाता है लड़कियों को

खूबसूरत लड़कियों की मनमानी कीमत : पकडे़ गए दलालों से हुई पुलिस पूछताछ में सामने आया कि नागजी कम उम्र की खूबसूरत लड़कियों को ऐसे खरीदारों के सामने पेश करता है, जो कोई भी कीमत देने के लिए तैयार होते हैं।

रुपए लेकर शादी करा देते हैं : जिन लड़कियों को कोई नहीं खरीदता, उनका दलाल इतना शोषण करते हैं कि वो उनके हर ऑर्डर को फॉलो करने लगती हैं। इसके बाद इन लड़कियों की पैसे लेकर शादी करा दी जाती है।

लड़कियों को ऑर्डर दिया जाता है कि 5-10 दिन में वहाँ से गहने-रुपए लेकर भाग आना है। दूल्हा अगर गलती से दुल्हन की तलाश में आ जाता है तो उसे मुकदमे की धमकी देकर भगा दिया जाता है। कई लड़कियाँ तो ऐसी हैं, जिनकी कई बार शादी कराई जा चुकी है।

प्रॉस्टिट्यूशन में धकेल देते हैं : नाबालिग और हर जगह से रिजेक्ट हुई लड़कियों से रुपए कमाने के लिए भी नागजी के पास तीसरा तरीका है। नागजी उन्हें देह व्यापार के बाजार में बड़े ठेकेदारों को एकमुश्त रकम लेकर बेच देता है।

पुलिस के पास फोटो तक नहीं
नागजी कुछ समय पहले तक तो गोदाम में नौकरी करता था, लेकिन रातों रात अमीर बनने के लालच में नौकरी छोड़ लड़कियों की तस्करी से जुड़ गया। धीरे-धीरे उसने बड़ा नेटवर्क तैयार कर लिया। अब उसके एक इशारे पर दलाल राजस्थान के गाँवों से आदिवासी लड़कियों को बहला-फुसलाकर, खरीदकर और किडनैप कर गुजरात ले आते हैं।

जानवरों की तरह कैद रखते हैं
नागजी के ठिकानों पर दबिश देकर छुड़वाने गयी पुलिस टीम ने भास्कर को बताया कि तस्करी कर लाई गयी बच्चियों को वहाँ अंधेरी बस्तियों के खंडहर नुमा मकान में जानवरों की तरह कैद करके रखा जाता है। पुलिस टीम वहाँ पहुँची तो कई बच्चियाँ कैद थीं। सभी अलग-अलग थाना क्षेत्र की थीं। इसके चलते संबंधित पुलिस को सूचना देकर उन बच्चियों को भी उनके घरों तक पहुँचाया गया।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This