Science Research : उत्तरी ध्रुव कनाडा से खिसकते हुए 60 किमी की स्पीड से पहुँचा रूस, 7 हजार किलोमीटर की दूरी तय

3 min read
(The North Pole slipped from Canada and reached Russia at a speed of 60 km, covered a distance of 7 thousand kilometers)

मूकनायक मीडिया ब्यूरो I 5 सितंबर 2022 I जयपुर-मास्को-ओटावा : ये बात सभी जानते हैं कि पृथ्वी के एक हिस्से में उत्तरी ध्रुव है, एक हिस्से में दक्षिणी ध्रुव यानी North Pole और South Pole। हमें ये भी पता है कि पृथ्वी का एक ही नॉर्थ और साउथ पोल है। लेकिन, हमारी ये ‘धारणा’ बदलने वाली है, दरअसल पृथ्वी का उत्तरी ध्रुव खिसक रहा है।

012 017 notas 277 info 051120024342 300x222 Science Research : उत्तरी ध्रुव कनाडा से खिसकते हुए 60 किमी की स्पीड से पहुँचा रूस, 7 हजार किलोमीटर की दूरी तय
उत्तरी ध्रुव के खिसकने से क्या होगा (North Pole Moving)

साइंस जर्नल (Science Journal) के अनुसार धरती का नॉर्थ पोल जो अभी तक कनाडा में है, वो धीरे-धीरे हर साल 60 किलोमीटर तक रूस की तरफ़ खिसक रहा है. इससे पहले आप हैरानी से खुला हुआ अपना मुंह बंद करें, ये भी बताते चलें कि पृथ्वी के तीन उत्तरी ध्रुव हैं, जिनमें एक खिसक रहा है।

क्या आपको पता है कि उत्तरी ध्रुव (North Pole) लगातार अपनी जगह बदल रहा है। ये सच है। पिछले 120 सालों में यह करीब 7 हजार किलोमीटर की दूरी तय कर चुका है। यह 50 से 60 किलोमीटर प्रति साल की गति से आगे बढ़ रहा है। यह कनाडा से खिसककर रूस के पास साइबेरिया तक पहुँच गया है। लेकिन यह भौगोलिक उत्तरी ध्रुव नहीं है। जो खिसक रहा है उसे चुंबकीय उत्तरी ध्रुव कहते हैं।

उत्तरी ध्रुव के खिसकने से क्या होगा (North Pole Moving)

उत्तरी ध्रुव की सहायता से कंपास पर दिशा देखी जाती है लेकिन चुंबकीय ध्रुव के खिसकने के कारण अब समुद्री यात्रा के दौरान एवं हवाई यात्रा के दौरान दिशा का पता लगाना मुश्किल हो रहा है। पृथ्वी का चुंबकीय उत्तरी ध्रुव पिछले कुछ दशकों में इतनी तेजी से खिसक रहा है कि वैज्ञानिकों के पूर्व में लगाए गए अनुमान अब जलमार्ग के लिए सही नहीं बैठ रहे। वैज्ञानिकों ने 04 फरवरी 2019 को एक अपडेट जारी किया जिसमें बताया गया है कि उत्तरी ध्रुव असल में कहां है।

कॉलाराडो यूनिवर्सिटी के भूभौतिकीविद और नए वर्ल्ड मैगनेटिक मॉडल के प्रमुख शोधकर्ता अर्नोड चुलियट के अनुसार लगातार बदल रहे इसके स्थान की वजह से स्मार्टफोन और उपभोक्ता के इस्तेमाल वाले कुछ इलेक्ट्रॉनिक्स के कंपासेज में समस्या आ रही है। सेना नौवहन और पैराशूट उतारने के लिए इस बात पर निर्भर रहती है कि चुंबकीय उत्तर ध्रुव कहां है जबकि नासा, संघीय विमानन प्रशासन एवं अमेरिकी वन सेवा भी इसका इस्तेमाल करती है।

क्यों खिसक रहा है नार्थ पॉल  (North Pole) ? 

मैरीलैंड यूनिवर्सिटी के भूभौतिकीविद डेनियल लेथ्रोप द्वारा जारी जानकारी के अनुसार, इसका कारण पृथ्वी के बाहरी कोर में हलचल है। ग्रह के कोर में लोहे और निकेल का गर्म तरल महासागर है जहां हलचल से विद्युतीय क्षेत्र (Magnetic Field) पैदा होता है। चुंबकीय ध्रुव के इतने तेज़ी से खिसकने का सटीक कारण फिलहाल वैज्ञानिकों के लिए रहस्य ही है लेकिन उनका अनुमान पृथ्वी की सतह के नीचे होने वाले परिवर्तन इसका कारण है।  वैसा ऐसा नहीं है कि उत्तरी ध्रुव के खिसकने की बात दुनिया में पहली बार सामने आ रही हो। इससे सबसे पहले कनाडा के एक एक्स्प्लोरर जेम्स क्लार्क रॉस ने 1830 में देखा था। लेकिन तब से अभी तक काफ़ी तेज़ी से खिसक चुका है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This