जयपुर में हुई डेढ़ करोड़ की डकैती का मास्टरमाइंड गिरफ्तार दिल्ली से गिरफ्तार, लूट के 26 लाख रुपए हुए बरामद

3 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो I 5 सितंबर 2022 I जयपुर-दिल्ली : इनकम टैक्स अधिकारी बनकर आटा व्यापारी के घर 1.25 करोड़ रुपए की डकैती मामले में पुलिस ने मास्टरमाइंड सहित 7 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। डकैत गिरोह का सरगना संजय पांचाल है। सभी को दिल्ली से पकड़ गया है। इन्हें जयपुर लाकर पूछताछ की जा रही है। इस पूरी वारदात को लेकर एडिशनल कमिश्नर अजयपाल लांबा आज सोमवार दोपहर 4 बजे खुलासा करेंगे।

सूत्रों के मुताबिक डकैती की साजिश में दिल्ली के हार्डकोर क्रिमिनल शामिल रहे। मास्टरमाइंड ने दिल्ली से ही पूरी वारदात को ऑपरेट किया। करीब 2 महीने पहले जयपुर के अलग-अलग इलाकों में रेकी कराई। रेकी करने वाले दो बदमाश 2 महीने पहले आटा व्यापारी सत्यनारायण तांबी​​​ के घर में इलेक्ट्रीशियन बनकर भी गए थे। 24 अगस्त को जयपुर में हुई इस सनसनीखेज वारदात के बाद पुलिस को कारोबारी के परिचितों पर भी शक था। जांच के दौरान सभी से पूछताछ की गई थी।

लूट के 26 लाख रुपए हुए बरामद
बता दें कि 24 अगस्त को सूरजपोल अनाज मंडी रोड पर आटा व्यापारी के घर से करीब 60 लाख रुपए की नकदी और डेढ़ किलो सोने के जेवरात लेकर लूटकर ले गए थे। सूत्रों के अनुसार, पुलिस ने उसमें से 26 लाख रुपए बरामद कर लिया है। जेवरात और अन्य कीमती सामानों की रिकवरी अभी तक नहीं हो पाई है। मास्टरमाइंड संजय दिल्ली में पांचाल महासभा का अध्यक्ष है।

2 महीने पहले रैकी फिर 10 लोगों को बंधक बनाकर डकैती
आरोपियों ने करीब 2 माह पहले कुछ लोगों से जयपुर के अलग-अलग इलाकों में रेकी कराई थी। इसके आधार पर पूरी डकैती का प्लान बनाया गया। रेकी करने वाले दो बदमाशों ने इलेक्ट्रीशियन बनकर घर में एंट्री की थी। घर में आ रही नकदी के बारे में सरगना को जानकारी दी थी। संजय ने दिल्ली में बैठे-बैठे गैंग को सक्रिय किया और डकैती की साजिश रची।

चोरी की कार से व्यापारी के घर रेकी
सूत्रों ने बताया कि बदमाशों ने जिस कार से तांबी फैमिली की रेकी की, उस कार को एक घर में छिपा रखा था। वह चोरी की थी। जयपुर कमिश्नरेट पुलिस पहले ट्रेडिशनल पुलिसिंग के जरिए कार तक पहुंची। फिर व्हीकल के आधार पर मास्टरमाइंड तक। डकैती करने आए पांचों बदमाशों को पुलिस ने वीडियो कॉल के जरिए तांबी परिवार को दिखाया। पुष्टि होने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया।

गनपॉइंट पर होने के बावजूद बच्चे ने जानकारी देने से मना किया था

डकैतों ने 13 साल के बच्चे श्रेयांश तांबी को गनपॉइंट पर लिया था। भास्कर ने उससे बातचीत की तो उसने बताया कि डकैती कैसे हुई थी। श्रेयांश के मुताबिक, ‘पहले दो जने आए। उन्होंने हमारा फोन ले लिया और टीवी बंद कर दी। फिर बोले कि हम लोग इनकम टैक्स से आये हैं। हमने पूछा कि आपका आईडी कहां है तो बदमाशों ने गन दिखाकर बोला कि आपको आईडी की जरूरत है क्या?

हम एक कमरे में चार जने थे, मैं, मेरा भाई, मेरी मम्मी और मेरी दादी। हम चारों को उठाकर मेरे चाचा के कमरे में लेकर गए। सबसे पहले उनके भी सारे फोन ले लिये, फिर उसके बाद उन्हें भी गन पॉइंट पर रखकर हम सबको एक कमरे में ले आये। हमको गन दिखाकर दादी के कमरे तक ले गये। फिर हमसे कहा गया कि कोई भी हमारी तरफ नहीं देखेगा, सब दीवार की तरफ देखेंगे। सबके मुंह पर टेप लगा दिया और हाथ बांध दिये।’

उन्हें पता था कि मोटा माल कहां रखा है
हाथ पीछे से बांधकर 5 मिनट तक बैठा दिया। फिर मेरे को उठाया और कहा- बेटा इधर आना। मुझे हमारे कमरे में ले गये। उन्होंने सबसे पहले पूछा CCTV और डीवीआर कहा है। गन दिखाकर मुझे ये सब कुछ पूछ रहे थे, तो मैंने सब बता दिया। वे मुझे वहां से दादी के कमरे में ले गये। उनको पता था कि यहां मोटा माल होगा।’

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This