गौ तस्करी : भारत में 30 हजार में खरीदी गाय बांग्लादेश में डेढ़ लाख तक बिकती है, जालंगी ड्रग्स तस्करी का भी अड्‌डा

2 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 8 सितंबर 2022 | जयपुर – अजमेर : मूकनायक मीडिया की ख़ुफ़िया टीम की खोजबीन कोलकाता से शुरू हुई। हमारे सोर्स ने बताया कि मुर्शिदाबाद जिले में बॉर्डर के पास बसा गांव है जालंगी। इसकी बांग्लादेश से दूरी 5 किमी से भी कम है। यहां से कई साल से कैटल स्मगलिंग हो रही है। इसीलिए हमने पड़ताल के लिए जालंगी को चुना।

तस्करी की इकोनॉमी: हर साल डेढ़ लाख गायों की स्मगलिंग
BSF के अफसरों और मुखबिर के मुताबिक, गायों की कीमत साइज और तादाद के हिसाब से तय होती है। बड़ी गाय 30 हजार से 70 हजार रुपए तक में खरीदी जाती हैं। कोई मिडिलमैन किसानों से इन्हें खरीदता है। वह 15 से 20 हजार रुपए का कमीशन लेकर उन्हें तस्करों को दे देता है। बांग्लादेश में यह एक से डेढ़ लाख रुपए तक में बिकती है। ईद के समय तो कीमतें कई गुना बढ़ जाती हैं।

तस्करी कर लाई गई 100 में से 15-20 गाय-भैंस पकड़कर यह दिखाने की कोशिश होती है कि तस्करों को पकड़ा जा रहा है। इस बारे में हमने जालंगी पुलिस स्टेशन के स्टाफ, BSF के जवानों और अफसरों से बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने ऑन रिकॉर्ड बात नहीं की। ऑफ रिकॉर्ड इसे सही बताया।

BSF के DIG अमरीश आर्या, मुर्शिदाबाद जिले के SP के सबरी राज कुमार और जालंगी पुलिस स्टेशन के इंचार्ज ने कैटल स्मगलिंग पर कहा कि तस्करी तो हो रही है, लेकिन पहले से इसमें कमी आयी है। अब कैटल से ज्यादा ड्रग्स की तस्करी हो रही है।

गाय ही नहीं, जालंगी ड्रग्स तस्करी का भी अड्‌डा
भारत-बांग्लादेश बॉर्डर से कैटल स्मगलिंग के अलावा ड्रग्स की तस्करी भी हो रही है। ड्रग्स तस्करी का रूट भी जालंगी से ही गुजरता है। अगली एक्सक्लूसिव स्टोरी इसी पर होगी। इसमें हम बताएंगे कैसे सीमा पार ड्रग्स पहुंचाई जा रही है। तस्कर कितना कमा रहे हैं। कौन सी ड्रग्स भेजी जा रही है और लड़कियां कैसे इसमें कैरियर बना रही हैं।

गाय-बछड़ों को इसी तरह पश्चिम बंगाल से बांग्लादेश भेजा जा रहा है। हर चीज के लिए कोडनेम तय हैं। तस्कर गाय के बछड़े को पेप्सी बुलाते हैं। तस्करी का मास्टरमाइंड अनुब्रत मंडल को बताया जाता है। बीरभूम के अनुब्रत TMC के नेता और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खास हैं। CBI ने 11 अगस्त को अनुब्रत मंडल को अरेस्ट किया था।

तस्करी का कारोबार समझने के लिए हम भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पहुंचे। यहां पता चला कि भारत में 30 हजार में खरीदी गई गाय बांग्लादेश में डेढ़ लाख तक में बिकती है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This