पहले प्रेमी ने आबरू लुटी, फिर दोस्तों से कराया गैंगरेप, पीड़िता के परिजन मजदूरी कर घर चलाते हैं

6 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 15 सितंबर 2022 | जयपुर-पटना : बिहार के वैशाली की 15 साल की नाबालिग को पहले 5 हैवानों ने अपनी हवस का शिकार बनाया। अभी वो इसके दर्द से सही से संभली भी नहीं थी कि इन दरिंदो ने रेप का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

मामला सामने आते ही पुलिस ने पीड़िता और उसके माता-पिता को गायब कर दिया है। न ही उन्हें लोगों से मिलने दिया जा रहा है और न ही परिजनों से। न्यायिक प्रक्रिया का हवाला देकर पुलिस इनके बारे में कुछ भी बताने से बच रही है।

घटना के 5 दिन बाद पुलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, लेकिन अभी तक पुलिस के पास इन सवालों के कोई जवाब नहीं है कि क्या इस पूरी घटना को प्लानिंग के तहत अंजाम दिया गया था ? घटना का मुख्य आरोपी कौन है ? पीड़िता के परिजनों को क्यों छिपाया जा रहा है? वहीं दूसरी तरफ इस पूरे मामले पर सियासत भी तेज हो गई है।

पूरा मामला क्या है पहले यूँ समझिए

8 सितंबर की सुबह पीड़िता स्कूल जाने के लिए सुबह 8.30 बजे घर से निकली थी। लेकिन 10 बजे वो गांव से 7 किलोमीटर दूर जंगलों में अपने बॉयफ्रेंड अमोद कुमार के साथ पहुंच गई। दोनों यहां साथ बैठे थे, तभी पास के गांव के 5 युवकों (रौशन कुमार, छोटू, कुणाल, अभिनंदन और धीरज) ने उन्हें घेर लिया। दोनों के कपड़े उतरवाये। मारपीट और गाली-गलौज की। पुलिस को बुलाने की धमकी देकर युवकों ने बॉयफ्रेंड के सामने ही लड़की के साथ गैंगरेप किया। साथ ही पूरी घटना का वीडियो भी बना लिया।

वीडियो वायरल होने के बाद सामने आया मामला

पीड़िता की परिजन ने मूकनायक मीडिया को बताया कि 8 सितंबर को घटना के बाद पीड़िता घर आई और घर में बेहोश हो गई। इसके बाद भी वो घर में किसी को कुछ भी नहीं बताई थी। इसके दो दिन बाद 10 सितंबर को अचानक घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा। पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। लोग पीड़िता के घर के आगे जुटने लगे तब मामला सामने आया। इसके बाद पीड़िता ने घटना की पूरी जानकारी परिजनों को दी।

पीड़िता के ठीक सामने है बॉयफ्रेंड का घर, उसी ने दी पुलिस को जानकारी

पीड़िता के परिजन और ग्रामीण इस मामले में पूरी तरह उग्र होने लगे थे। उसके घर के ठीक सामने उसके बॉयफ्रेंड अमोद राम का घर था। परिजन इस मामले के मुख्य आरोपी उसके बॉयफ्रेंड को ही मान रहे हैं। भीड़ की भनक लगते ही बॉयफ्रेंड के परिजनों ने पुलिस को इसकी जानकारी दे दी। पुलिस जब तक पूरा मामला समझती बॉयफ्रेंड अपने परिजनों के साथ घर में अंदर से ताला लगाकर पिछले दरवाजे से फरार हो गया।

परिजनों का आरोप- प्रेमी ही मुख्य आरोपी, उसी ने रची पूरी साजिश

वहीं पीड़िता के एक अन्य परिजन ने बताया कि आमोद के परिजनों का क्राइम से पुराना नाता रहा है। उसकी मां पर डेढ़ साल पहले बच्चा चोरी कर बेचने का आरोप लगा था। अब आमोद ने इस घटना को पूरी प्लानिंग के तहत अंजाम दिया है। उनकी बेटी घर से स्कूल के लिए निकली थी रास्ते में चाकू की नोंक पर वह उसे गांव ले गया। वहां उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर बच्ची के साथ गैंगरेप किया। दैनिक भास्कर ने अमोद का भी पक्ष जानना चाहा। लेकिन न ही उसके घर में कोई मिले और न ही उसका नंबर मिल पाया।

परिजनों को डर- आरोपी पैसे वाला कुछ भी कर सकता है

पीड़िता के परिजनों के मुताबिक दोषी पैसे वाला है। उसकी पहुंच भी ऊपर तक है। वो कुछ भी करवा सकता है। उन्होंने बताया कि केस में फेरबदल करवाना तो उसके लिए आम बात है। वे उनके परिजनों को भी प्रताड़ित कर सकता है। हालांकि फिलहाल उन्हें किसी से किसी प्रकार की कोई धमकी नहीं मिली है।

शनिवार से पीड़िता पुलिस के साथ, थाना प्रभारी बोले मालूम नहीं

मामला सामने आते ही पुलिस ने पीड़िता और उसके माता-पिता को सीक्रेट जगह पर छिपा दिया है। पीड़िता के चाचा ने बताया कि शनिवार शाम को ही पुलिस उन्हें अपने साथ लेकर गई । इसके बाद वो घर नहीं आए हैं। उनसे उन्हें बात भी करने नहीं दिया जा रहा है। जंदाहा थाना प्रभारी ने बताया कि उन्हें थाने में नहीं रखा गया है। कहां रखा गया है इसकी भी उन्हें जानकारी नहीं है। इस मामले में उन्हें इनवॉल्व नहीं किया जाए। न्यायिक प्रक्रिया की जांच चल रही है।

एसडीपीओ ने कहा- सभी की गिरफ्तारी के बाद ही कुछ बता पाऊंगी

वहीं केस की मॉनिटरिंग कर रही एसडीपीओ पूनम केसरी ने बताया कि केस की कार्रवाई के मद्देनजर पीड़िता और परिजनों को पुलिस अभिरक्षा में रखा गाय है। उनकी सुरक्षा के मद्देनजर ये कदम उठाया गया है। उन्होंने बताया कि इस मामले में तीन आरोपी कुणाल कुमार, अभिनंदन और धीरज कुमार की गिरफ्तारी कर ली गई है। अन्य दो आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है। पूरी प्लानिंग क्या थी ? कौन-कौन इसमें शामिल थे? ये सभी की गिरफ्तारी के बाद ही पता चल पाएगा।

गांव में लग रहा है सियासी मजमा, हर पार्टी के नेता लगा रहे हाजिरी

पीड़िता महादलित समाज से आती है। ऐसे में सभी राजनीतिक दल यहां अपनी हाजिरी लगाने में जुटे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि पिछले तीन दिनों में बीजेपी के विजय सिन्हा, हम के जीतन राम मांझी और जदयू के उमेश कुशवाहा समेत दर्जनों नेता यहां पहुंच चुके हैं। हर कोई यहां आते हैं और अपनी विचारधारा के हिसाब से बयान देकर चले जाते हैं। आश्वासन के सिवाय फिलहाल पीडिता के परिजनों को कुछ नहीं मिला है।

ग्रामीणों ने कहा- 70 साल में पहली घटना, दोषी को फांसी मिले

वहीं घटना के बाद पूरे इलाके में आक्रोश है। महिलाएं जहां अपनी बेटियों को बाहर भेजने को लेकर सशंकित हैं तो पुरुष उग्र हैं। उन्होंने बताया कि वे पिछले 60-70 सालों में कभी इस तरह की घटना नहीं हुई है। हर कोई साथ मिलकर रहते हैं। घटना में शामिल सभी आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए और उन्हें फांसी दी जाए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो उग्र आंदोलन करेंगे।

खानदान की पहली बच्ची जो हाईस्कूल तक पहुंची

पीड़िता अपने खानदान की पहली बच्ची है जो हाईस्कूल के दहलीज को लांघी है। अपने परिवार के तीन बच्चों के पढ़ाई की जिम्मेदारी भी उसी के कंधे पर है। पीड़िता के चाचा ने बताया कि उनके खानदान में कोई भी प्राइमरी स्कूल तक की पढ़ाई भी नहीं की है। बड़ी हिम्मत से बेटी को पढ़ा रहे थे। इस घटना ने उनके पूरे सपने पर पानी फेर दिया है।

मजदूरी कर घर चलाते हैं पीड़िता के परिजन

पीड़िता के 8 सदस्यों का पूरा परिवार दो कमरों के मकान में रहता है। पीड़िता के चाचा ने बताया कि वे और उनके भाई दोनों दिहाड़ी मजदूरी करते हैं। कभी काम मिलता भी है और कभी खाली हाथ लौटना पड़ता है। इसी से उनके परिवार का भरण-पोषण होता है। इस घटना ने उनके पूरे परिवार को तोड़ दिया है।

राजपूत बाहुल है पीड़िता का गांव

नेशनल हाइवे से लगभग तीन किलोमीटर दूर बसा पीड़िता का गांव राजपूत बाहुल गांव है। यहां सबसे ज्यादा आबादी लगभग 250 घर इनके हैं। इसके अलावा गांव में पासवान समुदाय के 100 घर, मल्लाह के 80 घर और महादलित समुदाय के 75 घर हैं।

बिहार में हर रोज 4 बेटियों की लुट रही है अस्मत

हर रोज बिहार की 4 बेटियों की अस्मत लूटी जा रही है। बिहार पुलिस की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक इस साल जून तक 785 बेटियों के साथ रेप की घटना हो चुकी है। 2021 में 1439 बेटियां रेप की शिकार हुईं थीं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This