थर्ड ग्रेड टीचर्स “तबादला आक्रोश रैली” के निमंत्रण पत्र प्रेस को बांटे, 25 दिसंबर को सभी संघों की शहीद स्मारक पर रैली, अबकी बार आरपार की लड़ाई

5 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 11 दिसंबर, 2022 | जयपुर : राजस्थान सरकार गठन को चार वर्ष पूर्ण होने पर भी शिक्षा विभाग की रीढ़ की हड्डी कहलाने वाले ग्रेड तृतीय श्रेणी अध्यापको के साथ हो रहे सौतेले को देखते हुए राजस्थान के समस्त शिक्षक संघ एक शिक्षक संयुक्त मोर्चा बना कर आज राजधानी जयपुर में प्रेस वार्ता की। तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादले किए जाने की मांग को लेकर प्रदेश के शिक्षक एक बार फिर शहीद स्मारक पर जुटेंगे और तबादला आक्रोश रैली निकाली जाएगी। 25 दिसम्बर को राजधानी जयपुर के शहीद स्मारक पर शिक्षक अपनी मांग को लेकर आवाज उठाएंगे।

%name थर्ड ग्रेड टीचर्स तबादला आक्रोश रैली के निमंत्रण पत्र प्रेस को बांटे, 25 दिसंबर को सभी संघों की शहीद स्मारक पर रैली, अबकी बार आरपार की लड़ाईइससे पूर्व प्रदेश के शिक्षक संगठनों ने एक शिक्षक संयुक्त मोर्चा का गठन किया और इस बार सरकार से आर.पार की लड़ाई की चेतावनी दी है। आंदोलन को सफल बनाने के लिए शिक्षक संगठन शादी के निमंत्रण कार्ड की तरह तबादला आक्रोश रैली के आमंत्रण पत्र बांट रहे हैं। राजस्थान शिक्षक संघ एकीकृत के प्रदेशाध्यक्ष हरपाल दादरवाल ने बताया कि 25 दिसंबर के आंदोलन को लेकर शिक्षकों की ओर से निमंत्रण पत्र बांट कर शिक्षकों को आंदोलन में शरीक होने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है।

गौरतलब है कि चार साल के लंबे इंतजार के बाद अगस्त 2021 को थर्ड ग्रेड शिक्षकों के तबादलों के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए थे, जिसमें करीब 85 हजार शिक्षकों ने तबादलों के लिए आवेदन किए थ, लेकिन उनके तबादले आज तक नहीं हुए। इसके बाद शिक्षा मंत्री लगातार तबादला नीति पारित होने के बाद ही तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादले किए जाने की बात कहते रहे, जिसके चलते 85 हजार आवेदन रद्दी हो गए।

इसमें तबादलों के लिए आवेदन किए 85000 शिक्षको को शादी के निमंत्रण कार्ड की तर्ज पर “तबादला आक्रोश रैली” के निमंत्रण कार्ड बांटने के अभियान की शुरुआत की जाएगी । साथ ही तबादला आक्रोश रैली में प्रदेश के शिक्षको को बुलावा देने हेतु आमंत्रण यात्रा निकाली जाएगी उस यात्रा को भी हरी झंडी दिखाई जाएगी।

आजाद समाज पार्टी (कांशीराम) राजस्थान एवं राजस्थान एकीकृत शिक्षक महासंघ के संरक्षक प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा ने अपने उद्बोधन में कहा ‘आप सभी पत्रकार बंधुओं से आग्रह है कि राजस्थान के शिक्षक के साथ हो रहे सौतेले व्यवहार के खिलाफ न्याय की आवाज बन सरकार को जगाने के नेक कार्य में योगदान दें। आप की उपस्थिति ही हमारी ताकत को मजबूत करेगी।’

प्रोफ़ेसर मीणा ने गहलोत सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि चार साल का समय बीत गया लेकिन गहलोत सरकार थर्ड ग्रेड शिक्षकों के एक बार भी तबादले नहीं कर सकी। सरकार ने दो साल पहले आवेदन लिए। इस दौरान 85 हजार आवेदन भी आ गए। जबकि प्रिसिंपलव्याख्याताद्वितीय श्रेणी अध्यापकमंत्रालयिक कर्मचारीशारीरिक शिक्षक सहित अन्य श्रेणी के शिक्षकों के चार साल में छह बार तबादले हो चुके है। लेकिन सरकार की ओर से अब तक तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादलों की अधिकृत तिथि भी नहीं बताई है। इस वजह से तृतीय श्रेणी शिक्षकों के साथ उनके परिजनों में भी सरकार के खिलाफ आक्रोश बढ़ गया है। इधरकई शिक्षक संगठनों ने अब एक जाजम पर आकर सरकार का घेरने की तैयारी कर ली है।%name थर्ड ग्रेड टीचर्स तबादला आक्रोश रैली के निमंत्रण पत्र प्रेस को बांटे, 25 दिसंबर को सभी संघों की शहीद स्मारक पर रैली, अबकी बार आरपार की लड़ाई

जैसा कि आप सभी को विदित है की 25 तारीख को सभी संघों के सहयोग से अध्यापकों के ट्रांसफर रूपी महाकलंक को दूर करने के लिए सयुंक्त मोर्चा का गठन किया गया और उसी के बैनर तले आज पिंकी सिटी में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी गयी है। जो विरोधी पक्ष बोल रहे है कि ये तो हरपाल जी का आंदोलन ये उन लोगों की कुत्सित मानसिकता है क्योंकि वो आज ट्रांसफर के लिए सभी संघों से अनुनय -विनय करके केवल केवल वर्षो से चली आ रही परम्परा अध्यापकों के ट्रांसफर को लेकर उसको हमेशा हमेशा के लिए अंतिम और निर्णायक लड़ाई के लिए दिन रात मेहनत मे लगे हुए हैं।

तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादले की मांग को (Tabadla Aakrosh Rally) लेकर अब मोर्चा आर-पार के मूड में है। रविवार को मीडियाकर्मियों से मुखातिब हुए शिक्षक संयुक्त मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हरपाल दादरवाल ने कहा कि आगामी 25 दिसंबर से आक्रोश रैली निकाली जाएगी। साथ ही वो आमरण अनशन पर बैठेंगे।

शिक्षक संयुक्त मोर्चा के सदस्य हरपाल दादरवाल ने कहा कि जिस प्रकार किसान मोर्चा के गठन के बाद प्रधानमंत्री जी को भी झुकना पड़ा और अपना फैसला वापस लेना पड़ा उसी प्रकार शिक्षक सयुंक्त मोर्चा का जो गठन हुआ है। ये आपके ट्रांसफर रूपी सपने को साकार करने के लिए ही हुआ है।

इसलिए आप सभी जिस भी संघ से संबंध रखते हो और वाकई ये चाहते हो की इस बार आर या पार करना है और एक शिक्षक रूपी कुम्भ का आयोजन करके सरकार को झुकाना है। ट्रांसफर करवाना ही है तो इस बार में जो भी संघ से आप जुड़े हुए हो वो संघ आये या नहीं आये पर आपको जीवन भर की इस पीड़ा को या ट्रांसफर रूपी कलंक को दूर करने के लिए आप सभी हो अंतिम बार आना ही होगा । इससे अंतिम निर्णायक लड़ाई को दबँगाई के साथ लड़ा जा सके और सरकार को हमारी एकता का एहसास हो सके।

25 तारीख सभी संघों की जंजीरों को तोड़कर एक ही लक्ष्य सोचकर सभी माताओं, बहनों और भाइयों को इस महाकुम्भ में अपनी सहभागिता निभानी है। इस आंदोलन को लोग अपनी राजनीति की भेट न चढ़े उसके लिए कोई भी शिक्षक अपना ज्ञान देवें तो उसको बोलो की ट्रांसफर करवाने है कि नहीं

Untitled Photo 17 1 300x68 थर्ड ग्रेड टीचर्स तबादला आक्रोश रैली के निमंत्रण पत्र प्रेस को बांटे, 25 दिसंबर को सभी संघों की शहीद स्मारक पर रैली, अबकी बार आरपार की लड़ाई

शीतकालीन अवकाश के अलावा हमारे पास कोई दूसरा ऑप्सन नहीं है। फिर शिक्षक भर्ती अगर आ गयी तो भूल जाना संघों को और ट्रांसफर को इसलिए अब आप सभी की जहान मे एक ही बात होनी चाहिए। सयुंक्त मोर्चे के रूप मे हमें संघों की जंजीरों को तोड़कर के 25 तारीख के आंदोलन को सफल बनाना है

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This