तीसरे विश्व युद्ध की आहट, अमेरिका और रूस में जबरदस्त तनाव, रूस के सुखोई फाइटर जेट का अमेरिका के एडवांस्ड रीपर ड्रोन पर हमला

5 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 16 मार्च, 2023 | जयपुर-दिल्ली-मास्को-पेंटागन : यूक्रेन युद्ध के बीच अमेरिका और रूस आमने-सामने आ गए है। बता दें,रूस का एसयू- 27 लड़ाकू विमान मंगलवार को एक अमेरिकी सैन्य टोही ड्रोन रीपर से टकरा गया, टकराने के बाद वह ड्रोन काला सागर में गिर गया। इसके अलावा कुछ मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि रूस ने ही अमेरिकी सैन्य टोही ड्रोन को मार गिराया है। इस घटना के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने की आशंका है। यह घटना तब हुई जब अमेरिका का रीपर ड्रोन और रूस के दो फाइटर जेट SU- 27 काला सागर के ऊपर अंतर्राष्ट्रीय जल सीमा में चक्कर लगा रहे थे।

दो दिन पहले रूस-यूक्रेन बॉर्डर के करीब रूस के सुखोई फाइटर जेट ने अमेरिका के एडवांस्ड रीपर ड्रोन पर हमला किया था। रूस के दो SU-27 ने इस रीपर को घेरकर उस पर फ्यूल गिराया था। ये फ्यूल रीपर के1678847566 1 169x300 तीसरे विश्व युद्ध की आहट, अमेरिका और रूस में जबरदस्त तनाव, रूस के सुखोई फाइटर जेट का अमेरिका के एडवांस्ड रीपर ड्रोन पर हमला प्रोपेलर में पहुंचा और ड्रोन कुछ देर बाद ब्लैक सी में क्रैश हो गया।

घटना के बाद अमेरिका और रूस में जबरदस्त तनाव है। दोनों ही देश इसका मलबा तलाश रहे हैं। अब अमेरिकी एयरफोर्स ने इस घटना का वीडियो जारी किया है। अमेरिका और रूस में जबरदस्त तनाव और रूस के सुखोई फाइटर जेट का अमेरिका के एडवांस्ड रीपर ड्रोन पर हमला को तीसरे विश्व युद्ध की आहट माना जा रहा है।

ड्रोन में लगे कैमरे ने वीडियो पेंटागन को भेजा
वीडियो में एक ही Su-27 नजर आता है। इस वीडियो को रीपर पर लगे हाईटेक सर्विलांस कैमरों ने ही शूट किया और इसे रियल टाइम मॉनिटरिंग के तहत पेंटागन के लैब ऑफ इन्फॉर्मेटिक्स में भेज दिया। पेंटागन के प्रवक्ता ब्रिग ने रूस की इस हरकत को दुर्भाग्यपूर्ण बताया था।

क्या है मामला

  • मंगलवार को ब्लैक सी (काला सागर) के ऊपर अमेरिकी ड्रोन MQ-9 रीपर सर्विलांस कर रहा था। यह इंटरनेशनल एयरस्पेस है। अमेरिका ने कहा- दो रशियन Su-27 फाइटर जेट्स ने अमेरिकी ड्रोन को 40 मिनट तक घेरा और फिर ऊपर से फ्यूल गिराया। इससे ड्रोन के प्रोपेलर को नुकसान पहुंचा। इसके बाद ड्रोन ब्लैक सी में क्रैश हो गया, क्योंकि फ्यूल जाने से इसके इंजन ने काम करना बंद कर दिया था।
  • इस घटना के बाद दोनों देशों के बीच टकराव बढ़ गया। US एयरफोर्स के जनरल जेम्स हैकर ने रूस की हरकत को बेहद गैरजिम्मेदार और भड़काऊ बताया। उधर, रूस ने अमेरिका के आरोपों से इनकार किया। उसने कहा- यह महज एक हादसा है। हम मलबा तलाशने में अमेरिका की मदद करेंगे। इसके लिए हमारे पास अमेरिका और नाटो से ज्यादा बेहतर तकनीक है।
  • ब्लैक सी यूरोप और एशिया के बीच स्थित है। यह उत्तर दिशा में यूक्रेन, उत्तर-पश्चिम में रूस, पूर्व में जॉर्जिया, दक्षिण में तुर्किये और पश्चिम में बुल्गारिया और रोमानिया से घिरा है। रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते ब्लैक सी में पिछले कई महीनों से तनाव बना हुआ है। यहां रूसी और अमेरिकी विमान अक्सर उड़ान भरते रहते हैं, लेकिन यह पहली बार हुआ है जब दोनों विमान आमने-सामने आ गए।

अमेरिका ने कहा- हम उसे ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि वह गलत हाथों में न लगे
अमेरिका ने कहा- अनआर्म्ड रीपर ड्रोन रूटीन गश्त पर था। यूक्रेन के क्रीमिया से करीब 128 किमी दक्षिण-पश्चिम में दो रूसी Su-27 फाइटर जेट्स करीब 40 मिनट तक अमेरिकी रीपर ड्रोन के आसपास उड़ान भर रहे थे।

कुछ देर बाद ये फाइटर जेट्स रीपर के ऊपर उड़ान भरने लगे और ड्रोन को नीचे जाने के लिए मजबूर किया। यूक्रेन जंग शुरू होने के बाद पहली बार अमेरिका और रूस में सीधा टकराव हुआ है। गिरे हुए ड्रोन को बरामद नहीं किया जा सका है। हम उसे खोज रहे हैं, ताकि वह गलत हाथों में न लगे।

रूसी राजदूत ने कहा- अमेरिका से टकराव नहीं चाहते

  • रूस ने अमेरिका के आरोपों को गलत ठहराया है। रूस का कहना है कि अमेरिकी ड्रोन ने करतब दिखाते हुए टर्न लिया, जिससे वह क्रैश हो गया। वह रूसी एयरक्राफ्ट्स से संपर्क में भी नहीं आया। रूसी रक्षा मंत्रालय ने यह भी कहा कि MQ-9 रीपर ड्रोन ने उड़ान के दौरान अपने ट्रांसपोन्डर्स बंद कर दिए थे, ताकि उसे कोई ट्रैक न कर सके।
  • उधर, अमेरिका ने रूसी राजदूत अनातोली एंटोनोव को तलब किया। अमेरिका के विदेश मंत्रालय पहुंचकर रूसी राजदूत ने कहा कि अमेरिकी विमानों का रूसी सीमा के पास होने से कोई लेना-देना नहीं है। हालांकिmap 3 1678844914 तीसरे विश्व युद्ध की आहट, अमेरिका और रूस में जबरदस्त तनाव, रूस के सुखोई फाइटर जेट का अमेरिका के एडवांस्ड रीपर ड्रोन पर हमला उन्होंने यह भी कहा कि रूस अमेरिका से टकराव नहीं चाहता है।

ड्रोन क्या है

  • चालकरहित विमान यानी अनमैन्ड एरियल व्हीकल (UAV) को ही आसान शब्दों में ड्रोन कहते हैं। पिछले 30 साल से ड्रोन का इस्तेमाल हो रहा है। न केवल मिलिट्री सर्विलांस के लिए बल्कि फिल्म बनाने, किसी इलाके की मैपिंग और अब तो सामान की डिलीवरी में भी। जहां तक मिलिट्री सर्विलांस का सवाल है तो इसकी शुरुआत 1990 के दशक में अमेरिका ने ही की थी।
  • मिलिट्री टेक्नोलॉजी के एडवांसमेंट के साथ ही ड्रोन का इस्तेमाल दुश्मन को मार गिराने में भी होने लगा। 1999 के कोसोवो वॉर में सर्बिया के सैनिकों के गुप्त ठिकानों का पता लगाने के लिए पहली बार सर्विलांस ड्रोन का इस्तेमाल हुआ था। 2001 में अमेरिका 9/11 के हमले के बाद ड्रोन हथियारों से लैस हो गया। उसके बाद तो जैसे यह सबसे एडवांस हथियार के तौर पर विकसित हो रहा है।

पहले समझिए ब्लैक सी कहां है…

  • ब्लैक सी यूरोप और एशिया के बीच स्थित है। यह उत्तर दिशा में यूक्रेन, उत्तरपश्चिम में रूस, पूर्व में जॉर्जिया, दक्षिण में तुर्किये और पश्चिम में बुल्गारिया और रोमानिया से घिरा है। रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते ब्लैक सी में पिछले कई महीनों से तनाव बना हुआ है। यहां रूसी और अमेरिकी विमान अक्सर उड़ान भरते रहते हैं, लेकिन यह पहली बार हुआ है जब दोनों विमान आमने-सामने आ गये।
Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This