राजस्थान में बीजेपी नेताओं को लड़कियों को ‘द केरला स्टोरी’ दिखाने का टास्क, कमल-कांग्रेस की सांप्रदायिक नफरत भड़काने की कोशिश

2 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 16 मई, 2023 | जयपुर-दिल्ली-अजमेर-बीकानेर : भाजपा ने सांसदों-विधायकों को जिम्मा दिया है कि वह आमजन खासकर बेटियों को ‘द केरला स्टोरी’ दिखाएं। नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने जयपुर में, कर्नल राज्यवर्धन राठौड़ ने कोटपूतली और अजमेर में वासुदेव देवनानी ने शो का आयोजन किया। राज्यवर्धन ने जोधपुर में ‘द केरला स्टोरी’ का स्टेटस लगाने के बाद दलित युवक से मारपीट की निंदा की।

इधर, राजेंद्र राठौड़ ने कहा-सरकार मूवी को टैक्स फ्री करे। राजस्थान में गहलोत सरकार तुष्टिकरण का काम करती है। इसलिए जनभावनाओं को नहीं समझ पा रही है। इस मूवी काे लेकर भाजपा नेता दूसरे शहरों में भी शो बुक करा रहे हैं। बीजेपी नेताओं को राजस्थान में लड़कियों को ‘द केरला स्टोरी’ दिखाने का टास्क, दलित युवाओं को भ्रमित करने का भी लक्ष्य दिया गया है।

मूवी देखने काे लेकर बड़ी संख्या में जुटे भाजपा नेता
जयपुर में रविवार दोपहर का शो रखा गया था। इसमें महिलाओं के अलावा जयपुर शहर के विधायक, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी, सहित पार्षदगण भी मौजूद रहे थे। परिवार सहित लाेग शामिल हुए थे। लड़कियों काे भी विशेष रूप से मूवी देखने के लिए बुलाया था।

विधानसभा चुनाव के दावेदार भी जुटे, दूसरे शहरों में भी शो बुक होंगे
इसकी रिपोर्ट पार्टी के प्रदेश संगठन काे मिली गई है कि कौन-कौन कब-कब मूवी दिखा रहा है। उधर विधानसभा चुनाव के लिए प्रत्याशी की दौड़ में चल रहे युवा नेता भी इस काम में जोर-शोर से जुटे हैं। पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी का कहना है कि ये फिल्म जनता काे देखनी चाहिए। कौन दिखा रहा है, ये मायने नहीं रखता है। वहीं, वासुदेव देवनानी का कहना है कि बेटियों काे सावधान करने के लिए ये मूवी दिखाई है। गौरतलब है कि यूपी सहित कई राज्यों में ताे सीएम और प्रदेशाध्यक्ष के स्तर पर ये मूवी दिखाई गई है।

कमल-कांग्रेस द्वारा युवाओं में सांप्रदायिक नफरत भड़काने की कोशिश

आसपा कांशीराम के प्रदेश अध्यक्ष प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा का कहना है कि कमल-कांग्रेस के नेताओं द्वारा मिलकर युवाओं में सांप्रदायिक नफरत भड़काने की कोशिश की जा रही है। विवादित फिल्म ‘द केरला स्टोरी’ (The Kerala Story) को खासतौर पर युवा दलित महिलाओं को दिखाया जा रहा है।

पर सवाल यह है कि बीजेपी-आरएसएस के नेताओं और उनके नाते-रिश्तेदारों की लड़कियाँ ही ज्यादातर धनाढ्य मुस्लिमों के ब्याही जाती रही है फिर दलित लड़कियों को यह फिल्म क्यों दिखायी जा रही है और इस पर कांग्रेस चुप क्यों है ? अगर कमल – कांग्रेस के नेताओं में दम है तो अपने ही घरों में अपनी बहन-बेटियों के साथ ‘द केरला स्टोरी’ देंखें। साथ ही प्रोफ़ेसर मीणा ने मोदी सरकार से माँग की कि देश में धर्म परिवर्तन करने लड़कियाँ वालों के आंकड़े सार्वजनिक करें।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This