पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर छिड़ा बवाल, अधिकतर इतिहासकारों का दावा, ठाकुर नहीं बल्कि गुर्जर जाति से थे पृथ्वीराज चौहान

8 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 16 मई, 2023 | जयपुर-दिल्ली- अजमेर : पृथ्वीराज चौहान राजपूत ( Rajput ) थे या गुर्जर ( Gurjar )। ये सवाल राजस्थान ( Rajasthan ) से लेकर महाराष्ट्र ( Maharashtra ) और उत्तर प्रदेश ( Uttar pradesh ) से लेकर दिल्ली ( Delhi ) के सियासी गलियारों तक इसका असर पहुंच रहा है। एक पक्ष कहता है कि वो चौहान राजपूत ( Chouhan Rajput ) थे तो दूसरा पक्ष कहता है कि वो चौहान गुर्जर ( Chouhan Gurjar ) थे। पृथ्वीराज चौहान किस जाति से थे ? ठाकुर समाज के लोग उन्हें राजपूत अथवा ठाकुर समाज के राजा के रूप में प्रचारित कर रहे हैं तो वही गुर्जर समाज के लोगों ख़ासतौर से गुर्जर समाज के युवा वर्ग का दावा है कि पृथ्वीराज चौहान गुर्जर जाति से थे । इस विषय में इतिहासकारों के भी अलग अलग मत है किन्तु अधिकतर इतिहासकारों का दावा हैं कि ठाकुर नहीं बल्कि गुर्जर जाति से थे पृथ्वीराज चौहान।

गुर्जर कौन सा लॉजिक देते हैं?%name पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर छिड़ा बवाल, अधिकतर इतिहासकारों का दावा, ठाकुर नहीं बल्कि गुर्जर जाति से थे पृथ्वीराज चौहान

पृथ्वीराज चौहान की जाति को लेकर विवाद में उनके गुर्जर होने को लेकर दो बातें लगातार कही जाती हैं। पहली तो यह कि उनके पिता गुर्जर थे तो वह राजपूत कैसे हुए? और दूसरी बात यह कि उनके दरबारी कवि जयानक ने अपनी किताब ‘पृथ्वीराज विजय’ में उन्हें गुर्जर ही लिखा है तो उन्हें गुर्जर क्यों न माना जाए? मूकनायक मीडिया को अखिल भारतीय वीर गुर्जर समाज के नेता आचार्य वीरेंद्र विक्रम ने बताया कि

पूरा राजस्थान 16वीं शताब्दी तक गुर्जरात्रा कहलाता था। गुर्जरात्रा का मतलब होता है गुर्जरों द्वारा रक्षित क्षेत्र। 11वीं शताब्दी में अल बरनी ने भी अपनी किताब में इसका वर्णन किया। इस वक्त के राजाओं के दुर्गों को भी गुर्जर दुर्ग कहा गया। पृथ्वीराज चौहान के पिता सोमेश्वर चौहान का पालनपोषण चालुक्यों की राजधानी में हुआ। वह भी गुर्जर थे। इसका वर्णन भी पृथ्वीराज विजय में जयानक ने साफ-साफ किया है।

पृथ्वीराज चौहान के किले को गुर्जरों का किला कहा गया है। उसे चौहान किला क्यों नहीं कहा गया? अल बरनी ने अपनी किताब अह हिंद में लिखा कि गुर्जरों का राज्य गुर्जरात्र कहलाता है। यही गुर्जरात्रा बाद में गुजरात कहलाया। पृथ्वीराज रासो में भी पृथ्वीराज चौहान के पिता को सोमेशसूर गुर्जर नरेश कहा गया है। इस तरह साफ है कि वह गुर्जर थे। जब पिता गुर्जर हैं तो बेटा भी गुर्जर ही होगा। पृथ्वीराज चौहान के भाई को भी गुर्जर नरेश कहा गया है।

गुर्जर कौन थे?

जिस गुर्जर शब्द की बात आप कर रहे हैं, वह गुर्जर-प्रतिहार के लिए इस्तेमाल होता है। चौहान और चहमान से इसे कंफ्यूज नहीं करना चाहिए। गुर्जर-प्रतिहार की उत्पत्ति 8वीं शताब्दी में मानी जाती है। ये खुद को भगवान राम के भाई लक्ष्मण का वंशज कहते हैं। ये खुद को सूर्यवंशी कहते हैं। कुछ इतिहासकार इन्हें विदेशी मानते हैं, और कहते हैं कि ये हूणों के साथ भारत आए और गुर्जर थे। लेकिन भारतीय इतिहासकार और खासतौर पर राजस्थान के इतिहासकार ऐसा नहीं मानते हैं।

इतिहासकार दशरथ प्रसाद और डॉक्टर गोपीनाथ शर्मा के अनुसार, गुर्जर-प्रतिहार राजपूत हैं। प्राचीन आर्यों के वंशज हैं। इन्हें क्षत्रिय ही माना जाता है। ग्वालियर के अभिलेख से यह बात सिद्ध भी होती है। छठी शताब्दी के उत्तरार्ध में राजस्थान का पश्चिमी भाग गुर्जरात्रा कहा जाता था। इसलिए प्रतिहारों को गुर्जरेश्वर भी कहा गया। शिलालेखों में भी हर जगह गुर्जर-प्रतिहारों के नाम का प्रयोग ही मिलता है। इसका निष्कर्ष नामी इतिहासकारों ने दिया है। उन्होंने बताया है कि गुर्जर-प्रतिहार का मतलब है गुर्जर देश का प्रतिहार। प्रतिहार का मतलब शासक। गुर्जर शब्द स्थान वाचक है, जाति वाचक शब्द नहीं है। मतलब साफ है, गुर्जर क्षेत्र के प्रतिहार शासक गुर्जर-प्रतिहार कहलाए।

पृथ्वीराज चौहान की जयंती पर छिड़ा बवाल : राजपूत व गुर्जर समाज कर रहा है अपना अपना दावा

अखिल भारतीय गुर्जर परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं इतिहास के स्कॉलर रविंद्र सिंह भाट का मत है कि—-पृथ्वीराज चौहान (सन् 1166-1192) गुर्जर–चौहान वंश के हिंदू राजा थे जो उत्तरी भारत में 12 वीं सदी के उत्तरार्ध के दौरान अजमेर और दिल्ली पर राज्य करते थे। पृथ्वीराज को ‘राय पिथौरा’ भी कहा जाता है। वह गुर्जर के चौहान राजवंश के प्रसिद्ध राजा थे। पृथ्वीराज चौहान का जन्म अजमेर राज्य के वीर गुर्जर महाराजा सोमश्वर के यहाँ हुआ था। उनकी माता का नाम कपूरी देवी था जिन्हें पूरे बारह वर्ष के बाद पुत्र रत्न कि प्राप्ति हुई थी। पृथ्वीराज के जन्म से राज्य मेँ राजनीतिक खलबली मच गई उन्हें बचपन में ही मारने के कई प्रयत्ऩ किए गए पर वे बचते गए। पृथ्वीराज चौहान जो कि वीर गुर्जर योद्धा थे बचपन से ही तीर और तलवारबाजी के शौकीन थे। पृथ्वीराज के जन्म के वक्त ही महाराजा को एक अनाथ बालक मिला जिसका नाम चन्दबरदाई रखा गया। जो  आगे चलकर बड़े कवि हुए । चन्दबरदाई और पृथ्वीराज चौहान बचपन से ही अच्छे मित्र और भाई समान थे।

सोशल मीडिया पर छाया हुआ है पृथ्वीराज चौहान की जाति का मुद्दा

Prithviraj Chauhan Jayanti:   वह तंवर वंश के राजा अनंगपाल तंवर गुर्जर का दौहित्र (बेटी का बेटा) था और उसके बाद दिल्ली का राजा हुआ। उसके अधिकार में दिल्ली से लेकर अजमेर तक का विस्तृत भूभाग था। पृथ्वीराज ने अपनी राजधानी दिल्ली का नवनिर्माण किया। तोमर नरेश ने एक गढ़ के निर्माण का शुभारंभ किया था, जिसे पृथ्वीराज ने सबसे पहले इसे विशाल रूप देकर पूरा किया। वह उनके नाम पर पिथौरागढ़ कहलाता है और दिल्ली के पुराने क़िले के नाम से जीर्णावस्था में विद्यमान है।

इतिहासकारों का मत

कई इतिहासकारों के अनुसार अग्निकुल गुट मूल रूप से गुर्जर थे और चौहान गुर्जर के प्रमुख कबीले था। चौहान गुर्जर के चेची कबीले से मूलत निकले  हैं। बंबई गजेटियर के अनुसार चेची गुर्जर ने अजमेर पर 700 साल राज किया। इससे पहले मध्य एशिया में तारिम बेसिन (झिंजियांग प्रांत) के रूप में जाने- जाने वाले क्षेत्र में रहते थे। Chu- हान विवाद (200 ईसा पूर्व), “चू” राजवंश और चीन के “हान” राजवंश के बीच वर्चस्व की लड़ाई जिसमे yuechis / Gujars भी इस विवाद का हिस्सा थे। गुर्जर तब  भारत में अरब बलों से लड़ते थे । वे “चू-हान” शीर्षक अपने बहादुर सैनिकों को सम्मानित करने के लिए प्रयोग किया जाता था जो बाद मे चौहान कहा जाने लगा ।

मोहम्मद गौरी ने भारत पर कई बार हमला किया था । पहली लड़ाई 1178 ईसवी में माउंट आबू के पास कायादरा पर लड़ी गयी और प्रथ्वीराज ने गौरी को हरा दिया था। इस हार के बाद गौरी गुजरात के माध्यम भारत में कभी नही घुसा । 1191 में तारोरी की पहली लड़ाई में पृथ्वीराज चौहान ने फिर गौरी को हराया, तब गौरी ने अपने जीवन की भीख मांग ली । पृथ्वीराज ने उसे दोबारा ना घुसने की चेतावनी देकर सेनापतियों के साथ जाने की अनुमति दी। मोहम्मद गौरी  और गयासुद्दीन गजनी ने 1175। में भारत आक्रमण शुरू कर दिया। और 1176 में मुल्तान पर कब्जा कर लिया। 1178 ईस्वी में मोहम्मद गोरी ने गुजरात पर आक्रमण किया और गुर्जरेश्वर भीमदेव सोलंकी ने  उसे अच्छी तरह से हरा दिया और गुजरात से वापस भगा दिया ।

“गुर्जर मंडल” ने “गुर्जर” शासकों को एकत्र किया

यह वही साल था जब पृथ्वीराज चौहान अजमेर और दिल्ली के सिंहासन पर चढ़े थे । उस समय तक”गुर्जर शासक “गौरी के आगामी खतरे से अच्छी तरह परिचित थे। गुर्जरेश्वर भीमदेव सोलंकी ने “गुर्जर मंडल” नामक एक संघ के तहत सभी “क्षत्रिय” शासकों को एकत्र किया । गौरी ने 1186 ईस्वी में पंजाब पर कब्जा कर लिया। गुर्जरेश्वर भीमदेव और पृथ्वीराज भी रक्त के संबंधी थे  । भीमदेव ने इस समूह का नेतृत्व करने के लिए पृथ्वीराज से पूछा। पृथ्वीराज ने तारेन (1191 ईस्वी) में गौरी  के खिलाफ लड़ाई लड़ी। इसमें गुर्जर कुल यानी खोखर, घामा, भडाना, सौलंकी, प्रतिहार और रावत ने भाग लिया। खांडेराव धामा (पृथ्वी की पहली पत्नी का भाई) के आदेश के तहत गुर्जरों और खोखर के संयुक्त बलों ने मुश्लिम को बुरी तरह हराया और सीमा तक उनका पीछा किया। गौरी  बुरी तरह घायल हो गया था ।

“पृथ्वी विजय” और “पृथ्वीराज रासो” में कहा कि उन्हें पृथ्वीराज  द्वारा पकड़  लिया गया लेकिन  वह भाग खडा हुआ और एक साल (1192 ईस्वी) के बाद गौरी दोगुने बलों के साथ लौट आया इस समय तक खोखार गुर्जर से चला गया , सोलंकी और चौहान के बीच एक अजीब प्रतिद्वंद्विता शुरू हो गई। यह पृथ्वीराज के  एकल बलों की हार थी ।  1200 के आसपास चौहान की हार के बाद राजस्थान का एक हिस्सा मुस्लिम शासकों के अधीन आ गया। शक्तियों के  प्रमुख केन्द्र नागौर और अजमेर थे। पृथ्वीराज  की  1195 ईस्वी में हार के बाद गुर्जरेश्वर का ताज अजमेर के हमीर सिंह चौहान ( पृथ्वीराज के  भाई) ने लिया इसके बाद कन्नौज (1193 ईस्वी), अजमेर (1195), अयोघ्या, बिहार (1194), ग्वालियर (1196), अनहीलवाडा (1197), चंदेल (1201 ईस्वी) पर मुसलमानों द्वारा कब्जा कर लिया गया और “गुर्जर मंडल” उस के बाद समाप्त हो गया।यह केवल 1400 ई के बाद एक नए नाम के साथ इतिहास में दिखा ।

Prithviraj Chauhan Jayanti:   तंवर दिल्ली के राजा 

13 गांव गुर्जर तंवरों के महरौली में है , दक्षिण दिल्ली में 40 से अधिक गांव गुर्जर तंवरों (मुस्लिम) के गुड़गांव में हैं। अभी भी तंवरो को दिल्ली का राजा कहा जाता है। पाकिस्तान के एक प्रसिद्ध लेखक राणा अली हसन चौहान जिनका परिवार विभाजन के दौरान पाकिस्तान  चला गया, वह पृथ्वीराज की 37 वीं पीढ़ी से हैं। प्रवासन और गुर्जर चौहान के तुपराना, कैराना, नवराना और यमुना नदी के तट पर अन्य गुर्जर चौहानों के  गांव अभी भी मौजूद हैं, इसके अलावा दापे चौहान और देवड़ा चौहान के 84 गांव यूपी में हैं। अतः प्रतिहार, सौलंकी और तंवर के साथ पृथ्वीराज  के संबंध थे! 1178 ईस्वी में गुर्जर मंडल का उनका गठन और उनकी वर्तमान पीढी अजमेर के चौहान शासकों अजय पाल, पृथ्वीराज ,जगदेव, विग्रहराज पंचम, अपरा गंगेया, पृथ्वीराज द्वितीय, और सोमेश्वर हैं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This