RPSC कॉलेज शिक्षा विज्ञापन-2023 में नियमानुसार बैकलॉग और आरक्षण का कोटा नहीं दिया, अशोक गहलोत का एससी एसटी ओबीसी आरक्षण पर कुठाराघात

6 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 26 जून 2023 | जयपुर-दिल्ली-अजमेर : राजस्थान विधानसभा चुनाव-2023 चुनावों से पहले असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों के लिए निकली नयी भर्ती में गहलोत सरकार के सत्ता में वापसी में रोड़ा बन सकती है। क्या गहलोत सरकार एससी एसटी ओबीसी को आरक्षण के अनुपात में आरक्षण ना देकर अपनी चुनावी राह को कठिन बना रही है? क्योंकि आरपीएससी द्वारा जारी विज्ञापन में आरक्षण का कोटा नहीं दिया गया है। उक्त विज्ञापन में एससी एसटी ओबीसी को देय आरक्षण की अनुपालना नहीं करने से इन वर्गों के युवाओं में घोर असंतोष है।

%name RPSC कॉलेज शिक्षा विज्ञापन 2023 में नियमानुसार बैकलॉग और आरक्षण का कोटा नहीं दिया, अशोक गहलोत का एससी एसटी ओबीसी आरक्षण पर कुठाराघात
एससी एसटी के बैकलॉग पदों को इंगित करते हुए राज्य सरकार का पत्र

राजस्थान में सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। राजस्थान लोक सेवा आयोग (RPSC) ने असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर बंपर वैकेंसी निकली है। इसके तहत अलग-अलग सब्जेक्ट के 1913 पदों पर असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती की जाएगी। संभतया यह आखरी भर्ती हो सकती है क्योंकि गहलोत सरकार द्वारा नये कॉलेज सोसायटी मोड़ में खोले हैं  21 से 40 साल तक की उम्र के उम्मीदवार RPSC की ऑफिशियल वेबसाइट rpsc.rajasthan.gov.in पर जाकर आज से 25 जुलाई तक ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं।

आरक्षित-वर्गों के हितों की लड़ाई लड़ने वाले मूर्धन्य शिक्षाविद् प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा का कहना है कि कॉलेज शिक्षा भर्ती-2023 में आरक्षण की अनुपालना में घोर लापरवाही हुई है और उच्च शिक्षा सचिव व कॉलेज आयुक्तालय ने आरक्षित सीटों का नुकसान कर एससी एसटी ओबीसी (SC ST OBC) के युवाओं के साथ धोखा किया है।

उनका कहना है कि उच्च शिक्षा सचिव और कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय ने एससी एसटी ओबीसी के बैकलॉग को कैसे समाप्त किया है? गहलोत सरकार से 2012 में हुई गलती को सुधारते हुए पूर्व उच्च शिक्षा सचिव एनएल मीणा तत्कालीन उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी की संस्वीकृति से बैकलॉग सहित भर्ती का विज्ञापन RPSC को भिजवा चुके थे। 

प्रोफ़ेसर मीणा का यह भी कहना है कि सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब मंत्री भंवर सिंह भाटी और उच्च शिक्षा सचिव एनएल मीणा 2014 के बैकलॉग को विज्ञापित पदों समायोजित करते हुए आरपीएससी की अर्थना भेज चुके थे तो वर्तमान शिक्षा सचिव भवानी सिंह देथा और आयुक्त सुनील कुमार शर्मा ने क्यों और कैसे बदला ?

क्या बिना मुख्यमंत्री की संस्तुति के उच्च शिक्षा सचिव रोस्टर को बदल सकते हैं? क्या यह मामला केबिनेट में विचारार्थ रखा गया था ?

अशोक गहलोत और उनकी सरकार  में प्रमुख विभागों में पदस्थ मनुवादी अफसरों ने #एससी #एसटी #ओबीसी के युवाओं का गला घोट दिया है।  प्रोफ़ेसर मीणा का दावा है कि कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय में आयुक्त सुनील कुमार शर्मा ने रिजर्वेशन की पोस्ट्स को खत्म करने के लिए षड्यंत्र रचा।

पहले मूल पत्रावली को रिकॉर्ड्स से गायब करवाया और फिर #एससीएसटी के ही अफसरों के कंधे पर बंदूक रखकर उन्हीं से डुप्लीकेट पत्रावली बनवाई है। इसकी तत्काल  तटस्थ जाँच होनी चाहिए और दोषी अधिकारियों को पदमुक्त कर उनके विरुद्ध अनुशासनिक कार्यवाई होनी चाहिए। क्या अशोक गहलोत इन अफसरों के खिलाफ कोई कार्रवाई करेंगे या वही ढाक के तीन पात।

VYOe 229x300 RPSC कॉलेज शिक्षा विज्ञापन 2023 में नियमानुसार बैकलॉग और आरक्षण का कोटा नहीं दिया, अशोक गहलोत का एससी एसटी ओबीसी आरक्षण पर कुठाराघातएससी एसटी ओबीसी (SC ST OBC) के बैकलॉग को खत्म किया और आरक्षित पोस्ट्स को निगल गये। एससी एसटी ओबीसी के जनप्रतिनिधि और मंत्री मूकदर्शक बने रहे क्योंकि उन्हें डर है कि कहीं उनके टिकट न कट जाये। उन्होंने मुख्यमंत्री गहलोत से आग्रह किया है कि RPSC द्वारा जारी विज्ञापन रद्द करे, अन्यथा गहलोत सरका को ये युवा आगामी चुनाव में बताऐंगे अपनी ताकत। 

कॉलेज व्याख्याता भर्ती2014 के परिणाम उपरांत ST SC वर्ग के153 पदों की निराधार कटौती के संबंध में प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अवगत करवाया था । इसमें मुख्य सचिव को निराधार कटौती किये गये एससी-एसटी  (ST SC) वर्ग के 153 पदों की अनुशंषा सूची जारी करने के संबंध में पत्र लिखा है।

गहलोत के अधिकारी उनको गुमराह करके SC/ST वर्गों के हितों पर कुठाराघात कर रहे हैं। अशोक गहलोत SC/ST वर्गों के प्रति घोर असंवेदनशील हैं। कॉलेज भर्ती-2014 के SC/ST वर्गों के पीड़ित अभ्यर्थियों को न्याय देंगे और प्रायश्चित करेंगे। मुख्यमंत्री गहलोत अब तो एससी एसटी ओबीसी दर्द को समझिये, उन्हीं के वोट से बनी सरकार ही न्याय नहीं देगी तो कौन न्याय देगा?

भर्ती प्रक्रिया शुरू होने के बाद पदों की कटौती का विवाद एक बार फिर उठा है। 2014 में हुई कॉलेज व्याख्याता भर्ती में राजस्थान लोक सेवा आयोग ने एससी-एसटी के 153 पदों की कटौती कर दी थी। चाकसू विधायक वेदप्रकाश सोलंकी ने विधानसभा में यह मामला उठाया तो एक बार फिर मुद्दा गरमा गया था जब सोलंकी ने विधानसभा में बताया कि इस भर्ती में परिणाम आने के बाद एससी के 87 और एसटी के 66 पदों की कटौती कर दी गई थी। पर यह मुद्दा पायलट बनाम गहलोत गुटों की लड़ाई की भेंट चढ़ गया और एससी एसटी के युवा मन मसोसकर रह गये

कॉलेज आयुक्तालय ने भी पिछले साल आरपीएससी को इन पदों को भरने के लिए पत्र लिख दिया था। इसके बावजूद आयोग ने ना तो प्रतीक्षा से  चयन सूची जारी की और ना ही उक्त पदों को बैकलॉग में शामिल किया।

कॉलेज लेक्चरर (College Lecture 2014) भर्ती 2014 में RVRES Cadre 2010 में एससी-एसटी  (ST SC)  बैकलोग पदों में धांधली की गई थी। उन पदों को भरने के लिए Waiting List से एससी-एसटी  (ST SC) विधार्थियों को जॉइनिंग देने के लिए कहा गया था, किंतु आरपीएससी ने  इन पदों को भरने से इंकार कर दिया।

सैलरी
RPSC में निकली भर्ती में सिलेक्ट होने पर उम्मीदवार को हर महीने 60,700 से एक लाख 92 हजार रुपए तक सैलरी दी जाएगी।

Screenshot 4896 1 300x209 RPSC कॉलेज शिक्षा विज्ञापन 2023 में नियमानुसार बैकलॉग और आरक्षण का कोटा नहीं दिया, अशोक गहलोत का एससी एसटी ओबीसी आरक्षण पर कुठाराघात
आरक्षण के उल्लंघन कर कॉलेज शिक्षा पदों के लिए जारी विज्ञापन

वैकेंसी डिटेल्स (इन पदों पर होगी भर्ती)

  • बॉटनी: 70 पद
  • केमेस्ट्री: 81 पद
  • मैथ: 53 पद
  • फिजिक्स: 60 पद
  • जूलॉजी: 64 पद
  • ए.बी.एस.टी: 86 पद
  • बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन: 71 पद
  • ई.ए.एफ.एम: 70 पद
  • जियोलॉजी: 6 पद
  • लॉ: 25 पद
  • इकोनॉमिक्स: 103 पद
  • इंग्लिश: 153 पद
  • जियोग्राफी: 150 पद
  • हिंदी: 214 पद
  • हिस्ट्री: 177 पद
  • सोशियोलॉजी: 80 पद

    %name RPSC कॉलेज शिक्षा विज्ञापन 2023 में नियमानुसार बैकलॉग और आरक्षण का कोटा नहीं दिया, अशोक गहलोत का एससी एसटी ओबीसी आरक्षण पर कुठाराघात
    कॉलेज शिक्षा पदों के लिए जारी विज्ञापन में आरक्षण का नुकसान
  • फिलॉसफी: 11 पद
  • पॉलिटिकल साइंस: 181 पद
  • पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन: 45 पद
  • संस्कृत: 76 पद
  • उर्दू: 24 पद
  • पंजाबी: 1 पद
  • लाइब्रेरी साइंस: 1 पद
  • साइकोलॉजी: 10 पद
  • राजस्थानी: 6 पद
  • सिंधी: 3 पद
  • जैनोलॉजी: 1 पद
  • गारमेंट प्रोडक्शन एंड एक्सपोर्ट मैनेजमेंट: 1 पद
  • मिलिट्री: 1 पद
  • आर्ट हिस्ट्री: 2 पद
  • म्यूज़ियोलॉजी: 2 पद
  • ड्राइंग और पेंटिंग: 35 पद
  • म्यूजिक: 18 पद
  • एप्लाइड आर्ट: 5 पद
  • पेंटिंग: 5 पद
  • मूर्तिकला: 4 पद
  • म्यूजिक तबला: 2 पद
  • एग्रीकल्चर: 16 पद

सिलेक्शन प्रोसेस
1913 पदों के लिए उम्मीदवारों का सिलेक्शन रिटन टेस्ट के आधार पर होगा। टेस्ट में सवाल ऑब्जेक्टिव टाइप के होंगे। जिसमें सिलेक्ट होने वाले उम्मीदवारों को और इंटरव्यू के बाद मेरिट के आधार पर पोस्टिंग दी जाएगी।

आवेदन शुल्क
RPSC द्वारा निकली गई भर्ती प्रक्रिया में आवेदन के लिए शुल्क देना होगा। ऐसे में जनरल कैटेगरी और राजस्थान के क्रीमीलेयर श्रेणी के अन्य पिछड़ा वर्ग, अति पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवार के लिए शुल्क 600 रुपए तय किया गया है। वहीं, नॉन क्रीमीलेयर श्रेणी के अन्य पिछड़ा वर्ग, अति पिछड़ा वर्ग, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग और दिव्यांग के लिए के आवेदन शुल्क 400 रुपए तय किया गया है।

आयु सीमा
इस अभियान के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार की उम्र 21 साल से 40 साल के बीच होनी चाहिए। इस अभियान के लिए आवेदन करने वाले आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को अधिकतम उम्र सीमा में छूट प्रदान की जायेगी।

योग्यता
RPSC द्वारा निकली गई भर्ती के लिए आवेदन कर रहे उम्मीदवारों के पास 55% के साथ एमए की डिग्री होनी चाहिए। वहीं उनका UGC NET या CSIR NET क्लियर किया हुआ होना जरूरी है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This