राजस्थान विश्वविद्यालय सिंडिकेट का फ़ीस नहीं बढ़ाने का फैसला, बेहताशा फ़ीस बढ़ाए जाने से बृज विश्वविद्यालय और कालेजों में ठनी

2 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 12, जुलाई 2023 | जयपुर-दिल्ली-भरतपुर : राजस्थान विश्वविद्यालय में बुधवार को हुई सिंडीकेट बैठक में फीस बढ़ोतरी नहीं करने का छात्र-हित में महत्वपूर्ण फैसला लिया। वहीं दूसरी तरफ बढ़ोतरी के अविवेकी फैसले को लेकर भरतपुर स्थित बृज विश्वविद्यालय और कालेजों में ठन गई है।

raj uni logo राजस्थान विश्वविद्यालय सिंडिकेट का फ़ीस नहीं बढ़ाने का फैसला, बेहताशा फ़ीस बढ़ाए जाने से बृज विश्वविद्यालय और कालेजों में ठनीसिंडिकेट सदस्य प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा ने हर साल भी भांति फ़ीस बढ़ने का पुरजोर तरीके से विरोध किया। उन्होंने कहा कि इस शैक्षणिक सत्र के लिए विश्वविद्यालय एवं संघटक कॉलेजों में किसी भी प्रकार की फीस वृद्धि नहीं करने का प्रस्ताव रखा जिसे आंशिक बहस के बाद सिंडिकेट ने सर्वसम्मति से पारित कर दिया।

प्रोफ़ेसर मीणा ने बैठक के दौरान यह भी कहा कि पिछले 2 सालों से कोरोना के चलते राजस्थान विश्वविद्यालय के छात्रों के शुल्क में किसी भी तरह की वृद्धि नहीं की गई थी। वहीं, विश्वविद्यालय द्वारा अपने खर्चों को भी कम करने का सुझाव दिया।

निजी महाविद्यालय संघ के पदाधिकारी बोले-फीस वृद्धि वापस नहीं हुई तो विधानसभा घेरेंगे

भरतपुर परीक्षा और संबद्धता शुल्क बढ़ाए जाने के मामले काे लेकर बृज विश्वविद्यालय और कालेजों में ठन गई है। बुधवार काे हाईकाेर्ट के निर्देश पर विवि ने शुल्क वृद्धि पर पुनर्विचार के लिए बैठक बुलाई, लेकिन कालेजों ने बहिष्कार कर दिया। समानांतर मीटिंग की। वार्ता नहीं करने और संबद्धता शुल्क दाे साल पुराना देना तय किया। बहिष्कार के कारण विवि की बैठक में 164 में से 20 कालेज ही पहुंचे।

इसमें भी 8 सरकारी कालेजों के प्राचार्य थे, जबकि सरकारी कालेज 28 हैं। ज्ञात रहे कि परीक्षा शुल्क में 2200 रुपए वृद्धि की है, जबकि संबद्धता शुल्क भी दाे गुना कर दिया है। इस कारण छात्र और कॉलेज नाराज हैं। यह मामला उच्च न्यायालय में चला गया, जहां राेक लगा दी गई है। बृज विवि काे सभी के साथ बैठ कर फीस वृद्धि पर पुनर्विचार करने काे कहा गया है।

अंतिम आदेश आने तक यथास्थिति बनाये रखना उचित 2018 12 3 15 52 14 brijuniversitylogo 2 300x300 राजस्थान विश्वविद्यालय सिंडिकेट का फ़ीस नहीं बढ़ाने का फैसला, बेहताशा फ़ीस बढ़ाए जाने से बृज विश्वविद्यालय और कालेजों में ठनी

काेर्ट के अंतिम आदेश तक यथा स्थिति रखना तय बैठक कुलपति प्राे. रमेशचंद्रा की अध्यक्षता में हुई, बैठक में कहा गया कि अधिकांश कालेजों ने संबद्धता शुल्क जमा करा दिया है। परीक्षा शुल्क अभी छह महीने बाद लिया जायेगा।

अधिकारियाें ने कहा कि चूंकि मामला न्यायालय में है। इसलिए अंतिम आदेश आने तक यथास्थिति बनाये रखना उचित है। बैठक में रजिस्ट्रार सुभाष शर्मा, डीआर डाॅ एके पांडे, एआर डॉ फरवट सिंह, प्राचार्य डाॅ ओपी साेलंकी आदि मौजूद रहे।

काॅलेज…अब फैसला आने तक विवि से बातचीत नहीं निजी महाविद्यालय संघ ने न्यायालय का अंतिम फैसला आने तक विवि से वार्ता नहीं करने का निर्णय लिया है। संघ की बैठक में फीस वृद्वि काे गरीब बच्चाें पर अतिरिक्त भार बता विराेध किया गया।

पिछले दिनाें 40 से अधिक प्रतिनिधि विवि गये थे, लेकिन सकारात्मक जबाव नहीं दिया। जिस पर उच्च न्यायालय की शरण लेनी पड़ी। वक्ताओं ने कहा कि विवि ने 253 काेर्स खाेल दिये हैं, संसाधन और स्टाफ नहीं है। फीस वृद्धि वापस नहीं ली ताे विधानसभा का घेराव किया जायेगा।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This