RPSC भर्तियों में थम नहीं रहा है रिश्वत का खेल, गहलोत के करीबी पूर्व राज्य मंत्री18.5 लाख की रिश्वत के आरोप में गिरफ्तार, 40लाख में नौकरी का सौदा

4 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 15, जुलाई 2023 | जयपुर-सीकर-अजमेर : जयपुर एसीबी और सीकर की टीम ने शनिवार को कांग्रेस नेता गोपाल केसावत सहित चार दलालों को साढ़े 18 लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। रिश्वत की रकम आरपीएससी की भर्ती परीक्षा में नौकरी लगाने के लिए मांगी गई थी। सीकर एसीबी को इस संबंध में पीड़ित से शिकायत मिली थी।

रिश्वत RPSC में EO (एग्जीक्यूटिव ऑफिसर) की भर्ती के नाम पर मांगी

sachin pilot 100272814 300x225 RPSC भर्तियों में थम नहीं रहा है रिश्वत का खेल, गहलोत के करीबी पूर्व राज्य मंत्री18.5 लाख की रिश्वत के आरोप में गिरफ्तार, 40लाख में नौकरी का सौदाएसीबी ने पूरे मामले की जांच की। जांच में सामने आया कि रिश्वत RPSC में EO (एग्जीक्यूटिव ऑफिसर) की भर्ती के नाम पर मांगी गई थी। कुल 40 लाख रुपए मांगे गए थे। ACB के सत्यापन (जांच) में 25 लाख की रिश्वत तय हुई।

शुक्रवार को सीकर में दलाल अनिल कुमार और ब्रह्मप्रकाश को 18.50 लाख रिश्वत लेते गिरफ्तार किया गया। इस 18.5 लाख रुपए में से 7.5 लाख रुपए शिकायतकर्ता को वापस देते हुए जयपुर में राजस्थान राज्य विमुक्त, घुमंतू व अर्द्धघुमंतू कल्याण बोर्ड के पूर्व चेयरमैन गोपाल केसावत ​को देने के लिए कहा गया।​​​​​​ इस पूरी कार्रवाई को गोपनीय रखा गया।

दूसरी तरफ दलाल अनिल कुमार और ब्रह्मप्रकाश पास में बचे हुए 11 लाख में से शुक्रवार रात ही सीकर में दलाल रविन्द्र शर्मा पुत्र बलराम को 7 लाख 50 हजार रुपए रिश्वत के देने पहुंचे। यहां एसीबी ने रविंद्र को भी गिरफ्तार कर लिया।

इसके बाद शिकायतकर्ता रिश्वत के 7.50 लाख रुपए जयपुर के प्रताप नगर में राजस्थान राज्य विमुक्त, घुमंतू व अर्द्धघुमंतू कल्याण बोर्ड के पूर्व चेयरमैन गोपाल केसावत के पास लेकर पहुंचा।

केसावत को भी एसीबी ने शनिवार को रिश्वत की राशि लेते हुए गिरफ्तार किया। आरोपियों से अभी तक हुई पूछताछ में आरपीएससी के किसी सदस्य और अधिकारी कर्मचारी के मिलीभगत होने की जानकारी सामने नहीं आई हैं।

केसावत के आवास और अन्य ठिकानों पर एसीबी टीम सर्च

एसीबी के अधिकारियों ने बताया- चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके पास से रिश्वत की राशि को बरामद कर लिया गया है। इन लोगों ने आरपीएससी में नौकरी लगाने का आश्वासन देकर पैसा मांगा था। इसके बाद परिवादी ने एसीबी को शिकायत की। इस पर एसीबी की सीकर और जयपुर टीम ने ट्रैप की कार्रवाई को अंजाम दिया। केसावत के आवास और अन्य ठिकानों पर अभी एसीबी की टीम सर्च कर रही है।0.63804100 1523426180 bbb 1 259x300 RPSC भर्तियों में थम नहीं रहा है रिश्वत का खेल, गहलोत के करीबी पूर्व राज्य मंत्री18.5 लाख की रिश्वत के आरोप में गिरफ्तार, 40लाख में नौकरी का सौदा

क्या था पूरा मामला 

राजस्थान में एसीबी (ACB) ने भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ा प्रहार करते हुए घुमंतू बोर्ड के पूर्व चेयरमैन गोपाल केसावत समेत चार लोगों को साढ़े सात लाख रुपये की रिश्वत लेत हुए गिरफ्तार किया गया है। केसावत को घुमंतू बोर्ड के पूर्व चेयरमैन रहते हुए राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त था।

एसीबी की इस कार्रवाई के बाद हड़कंप मच गया। आरोपी परिवादी से साढ़े 18 लाख रुपये एक दिन पहले ही वसूल चुके थे। रिश्वत की यह राशि आरपीएससी की ओर से आयोजित की गई ईओ भर्ती परीक्षा को लेकर ली गई थी।

एसीबी के कार्यवाहक डीजी हेमंत प्रियदर्शी के निर्देश पर यह कार्रवाई की गई। प्रियदर्शी ने बताया कि रिश्वत की यह राशि राजस्थान लोक सेवा आयोग अजमेर की ओर से आयोजित ईओ की भर्ती के नाम पर मांगी गई थी।

आरोपियों ने इसके लिए 40 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी। इस संबंध में परिवादी ने सीकर एसीबी में शिकायत में दर्ज करवाई थी। शिकायत प्राप्त होने के बाद ब्यूरो ने जब इसकी सत्यता जांची तो वह सही पाई गई। ब्यूरो के सत्यापन में 25 लाख रुपये की रिश्वत मांगने की बात प्रमाणित हो गई।

पहले सीकर और फिर जयपुर में हुई कार्रवाई
इस पर ब्यूरो ने बाद में आरोपियों को रंगे हाथों पकड़ने के लिए अपना पुख्ता जाल बिछाया। उसके बाद सीकर और जयपुर एसीबी ने मिलकर इस पूरी कार्रवाई को अंजाम दिया। ब्यूरो की टीम ने शुक्रवार रात को सीकर में दलाल अनिल कुमार धरेन्द्र और ब्रह्मप्रकाश को साढ़े 18 लाख रुपये लेते हुए दबोचा लिया था। उसके बाद उसी रात दलाल रविन्द्र को साढ़े सात लाख रुपये लेते हुए पकड़ा गया था। मामले की कड़ी से कड़ी खुलने के बाद एसीबी की टीम ने शनिवार को पूर्व राज्यमंत्री गोपाल केशावत को भी गिरफ्तार कर लिया।

ओएमआर शीट बदलवाने के नाम पर ली थी रिश्वत
आरोपियों ने रिश्वत की यह राशि आरपीएससी की ओर से आयोजित अधिशाषी अधिकारी भर्ती परीक्षा में पास करवाने और ओएमआर शीट बदलवाने के नाम पर ली थी। एसीबी की इस कार्रवाई के बाद सूबे की राजनीति भी गरमा गई। उल्लेखनीय है कि राजस्थान में इससे पहले शिक्षक भर्ती पेपर लीकर के मामले में काफी हंगामा हो चुका है। उस मामले में एसओजी ने आरपीएससी के सदस्य को गिरफ्तार किया था. शिक्षक भर्ती पेपर लीक मामले में गहलोत सरकार अभी भी चौतरफा घिरी हुई है। अब इस नए मामले से प्रदेश की राजनीति और भी गरमाने के आसार हैं।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This