नैनवा के अरनिया गाँव में चुनावी रंजिश, दो पक्षों में खूनी संघर्ष, धारदार हथियार लेकर आमने-सामने, राजनीतिक दबाव में पुलिस, प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा संयम बरतने की अपील

3 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 30 नवंबर 2023 | जयपुर – दिल्ली – नैनवा : पहले रास्ता, फिर चुनावी रंजिश को लेकर दो पक्षों में खूनी संघर्ष हो गया। दोनों ओर से कुल्हाड़ी और अन्य हथियारों का जमकर इस्तेमाल हुआ। मारपीट में करीब 8 लोग घायल हो गए। गंभी घायलों को इलाज के लिए बूंदी से कोटा रेफर किया गया। घटना जिले के अरण्या गांव में बुधवार शाम को हुई।

नैनवां थाना के एएसआई लादू लाल ने बताया कि अरण्या गांव में रास्ते को लेकर पहले से ही दो पक्षों में विवाद चल रहा था। बुधवार दोपहर को रास्ता बंद करने से विवाद और बढ़ गया। मौके पर पुलिस ने पहुंच कर रास्ता बहाल करवाने के साथ समझाईश कर दी थी। लेकिन शाम चार बजे के बाद दोनों पक्ष लाठी, कुल्हाड़ी और अन्य हथियार लेकर आमने-सामने हाे गये। रास्ते का विवाद खूनी संघर्ष में बदल गया। घटना में करीब 8 लोग गंभीर घायल हाे गये, जिन्हें इलाज के बूंदी से कोटा रेफर किया गया।

घटना में एक पक्ष के विनोद मीणा (27), राजु लाल मीणा (50), रामबिलास मीणा (50), सौभाग मीणा (31), सावल लाल मीणा (60), मुकेश मीणा (38) घायल हो गये। सिर और अन्य जगहों पर गंभीर चोटें आयी हैं। घायलों को पहले नैनवां तथा बाद में बूंदी रेफर किया गया। दो घायलों को बूंदी से कोटा गंभीर हालत में रैफर किया गया है।

वहीं दूसरे पक्ष के घायल भरतराज (42) मीणा पुत्र लक्ष्मण लाल​​​​​​​, नन्द लाल मीणा (45) पुत्र गोपाल लाल मीणा को भी बूंदी रेफर किया गया है। पुलिस ने घायलों के पर्चे बयान लिये है। मारपीट की घटना को लेकर नैनवां डीएसपी योगेश चौधरी भी नैनवां अस्पताल पहुंचे और घटना की जानकारी ली।

प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा ने मूकनायक मीडिया को बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही उन्होंने घटना के बारे में ट्विट किया और पुलिस के उच्चाधिकारियों से बात की तथा स्थानीय प्रशासन से कहा कि पीड़ितों को तत्काल मेडिकल उपचार देने और आरोपियों के खिलाफ़ राजनीतिक दबाव में आये बिना तटस्थ कार्रवाई करें।

पहले रास्ता फिर चुनावी विवाद​​​​​​​
खूनी संघर्ष की इस घटना में पहले तो रास्ते का विवाद सामने आया। बाद में पीड़ित पक्ष के लोगों ने मारपीट को चुनावी रंजिश बताया। घायलों का कहना है कि राजनीति से प्रेरित कुछ दबंग लोग गांव में आये दिन विवाद करते हैं। चुनावों को लेकर भी गांव में माहौल काफी गर्म रहा।

इसी बीच दिन में रास्ते को लेकर हुए विवाद में समझाइश होने के बाद भी लोगों ने शाम को प्लानिंग बनाकर मारपीट कर दी। अब इस घटना में चुनावी रंजिश सामने आने पर पुलिस सतर्कता बरत रही है। घटना के बाद पुलिस ने अरण्या गांव में रात में 12:00 बजे तक गस्त लगायी।

हो सकती है हिंसक वारदात
अरण्या गांव के ग्रामीणों ने कहा कि विवाद लंबे समय से चल रहा है। गांव में दो ग्रुप बन चुके हैं जो अपने आप को मजबूत करने में लगे हुए हैं। पुलिस ने आरोपियों और दबंग लोगों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई नहीं की तो कभी भी दोनों ग्रुप में बड़ी हिंसक वारदात हो सकती है।

प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा संयम बरतने की अपील 

आजाद समाज पार्टी के प्रत्याशी प्रोफ़ेसर राम लखन मीणा ने सबसे संयम बरतने की अपील करते हुए कहा कि कांग्रेस-बीजेपी के नेताओं के बहकावे में नहीं आयें और शांति बनाये रखें। उन्होंने कहा कि कांग्रेस-बीजेपी के नेता दलित-आदिवासियों के वोट लेने के लिए इन्हें आपस में लड़ाते हैं और वोट बटोरकर नदारत हो जाते हैं। इनके झाँसे में ना आये।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This