गहलोत को ले डूबी नये जिलों से जीत वाली पॉलिटिक्स, 17 में से आठ नए जिलों में तो कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला

4 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 04 दिसंबर 2023 | जयपुर – दिल्ली : चुनावी साल में नए जिले बनाने का कांग्रेस को फायदे की जगह नुकसान उठाना पड़ा है। नए जिलों की 51 सीटों में बीजेपी को 2018 की तुलना में लगभग दोगुनी सीटें मिली हैं, जबकि कांग्रेस की सीटें कम हो गई हैं। नए जिलों की 51 सीटों में से बीजेपी ने इस बार 29 सीटें जीती हैं, कांग्रेस 20 सीटों पर और 2 सीटें निर्दलीयों ने जीती हैं। 2018 में 51 सीटों में से 26 सीट कांग्रेस, 15 बीजेपी, 5 निर्दलीय, 4 बसपा और एक पर निर्दलीय जीते थे। 17 में से आठ नए जिलों में तो कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला।

गहलोत सरकार ने चुनावी साल में नए जिले बनाकर उनका खूब प्रचार प्रसार किया था। चुनावी नतीजों से साफ है कि नए जिलों से कांग्रेस को फायदे की जगह नुकसान उठाना पड़ा है।

इन आठ नए जिलों की 17 सीटों पर कांग्रेस का खाता नहीं खुला29 300x169 गहलोत को ले डूबी नये जिलों से जीत वाली पॉलिटिक्स, 17 में से आठ नए जिलों में तो कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला

आठ नए जिलों में कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली है। कोटपूतली-बहरोड़ में चार, शाहपुरा में दो, ब्यावर में तीन, फलौदी में दो, दूदू, केकड़ी, सलूंबर में एक-एक सीट हैं। इनमें कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली।

51 में से 29 सीटों पर बढ़ा था वोटिंग प्रतिशत,

प्रदेश में बने नए जिलों में हुई वोटिंग ने ही सियासी रुझान दे दिए थे। 51 में से 29 सीटों पर 2018 की तुलना में वोटिंग प्रतिशत में बढ़ोतरी हुई। नए जिलों की 22 सीटों पर वोटिंग प्रतिशत 2018 से कम हुआ था।

जयपुर ग्रामीण जिला : कांग्रेस को 5 सीटों का फायदा, बीजेपी को एक सीट का नुकसान

जयपुर ग्रामीण जिले की 7 सीटों में से इस बार 5 कांग्रेस 2 बीजेपी ने जीती है। 2018 में यहां 3 बीजेपी, 2 कांग्रेस और 2 निर्दलीय थे। इस बार कांग्रेस को पांच सीटों का फायदा हुआ है।

कोटपूतली-बहरोड़ : जिले की सभी 4 सीटें हारी कांग्रेस, पिछली बार तीन सीट जीती थीं

कोटपुतली-बहरोड़ जिले में 4 सीटें हैं। चारों सीटों पर कांग्रेस हार गई है। ​2018 में यहां बीजेपी का खाता नहीं खुला था। कांग्रेस ने तीन सीट जीती थीं। एक सीट निर्दलीय ने जीती थी। इस बार यहां कांग्रेस का खाता नहीं खुला।

दूदू, केकड़ी, सलूंबर में कांग्रेस का खाता ही नहीं खुला

कांग्रेस नए बनाए गए तीन छोटे जिलों में भी हारी है। सीएम सलाहकार बाबूलाल नागर के दबाव में केवल एक उपखंड दूदू को जिला बनाया, लेकिन यहां से कांग्रेस हार गई। केकड़ी से पूर्व मंत्री रघु शर्मा और सलूंबर से रघुवीर मीणा चुनाव हार गए। पिछली बार सलूंबर से बीजेपी, केकड़ी से कांग्रेस और दूदू से निर्दलीय की जीत हुई थी।

डीडवाना-कुचामन : 5 सीट में 3 पर कांग्रेस 1 पर निर्दलीय, पिछली बार से 1 सीट का नुकसान

डीडवाना कुचामन जिले की पांच सीटों पर पिछली बार की तुलना में कांग्रेस को एक सीट का नुकसान हुआ है। ​इस बार कांग्रेस को 5 में से 3, बीजेपी को एक और एक सीट निर्दलीय को मिली है। 2018 में पांच में से चार सीट कांग्रेस और एक बीजेपी के पास थी।

अनूपगढ़ : 2 सीट में दोनों कांग्रेस ने जीती

अनूपगढ़ और रायसिंहनगर दोनों ही सीट पिछली बार बीजेपी ने जीती थी। इस बाद कांग्रेस ने इस पर जीत हासिल की है।

सांचौर : पिछली बार की तरह एक सीट

सांचौर में पिछली बार भी कांग्रेस को एक सीट मिली थी। इस बार भी एक ही सीट मिली है। पिछली बार कांग्रेस ने सांचौर सीट पर जीत हासिल की थी। अबकी बार रानीवाड़ा सीट पर जीत हुई है। इस बार सांचौर सीट निर्दलीय के खाते में गई।

नीमकाथाना : 4 में से कांग्रेस बीजेपी को 2-2 सीट, पिछली बार बीजेपी का खाता नहीं खुला था

नीमकाथाना में इस बार कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही 2-2 पर जीती है। पिछली बार यहां बीजेपी को एक भी सीट नहीं मिली थी। कांग्रेस तीन पर जीती थी। एक बसपा के खाते में आई थी। जो बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

डीग-कुम्हेर : तीनों सीट में कांग्रेस का खाता नहीं खुला, पिछली बार सभी सीटें कांग्रेस के पास

खैरथल-तिजारा : 3 में से 2 सीट पर कांग्रेस जीती

खैरथल-तिजारा में 3 में से 2 सीट पर कांग्रेस जीती है। वहीं, एक सीट बीजेपी को मिली है। पिछली बार कांग्रेस सिर्फ एक सीट पर जीती थी। एक बीजेपी और दूसरी बसपा के खाते में गई थी।

बालोतरा : तीन में से दो सीट बीजेपी एक कांग्रेस जीती, 2018 में कांग्रेस दो और बीजेपी एक पर थी

फलोदी : दोनों सीटों पर बीजेपी जीती

जोधपुर ग्रामीण : पांच में से चार सीटों पर बीजेपी, एक पर कांग्रेस जीती

जयपुर ग्रामीण की पांच सीटों में से बीजेपी ने चार पर जीत हासिल की है। वहीं, कांग्रेस एक ही अपने नाम कर पाई। पिछले चुनाव में कांग्रेस ने चार सीट जीती थीं। एक आरएलपी के खाते में गई थी.

ब्यावर : कांग्रेस का खाता नहीं खुला

ब्यावर में तीनों सीटें बीजेपी ने जीती है। यहां कांग्रेस का खाता नहीं खुला। 2018 में कांग्रेस ने एक सीट जीती थी। गंगापुर : तीनों सीटों पर कांग्रेस जीती, पिछली बार दो जीती थी। शाहपुरा : दोनों सीटों पर बीजेपी जीती।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This