PM मोदी को काले झंडे दिखाने की धमकी के बीच जयपुर में डीजी-आईजी कॉन्फ्रेंस, खालिस्तान आतंकवाद साइबर सुरक्षा कानून में बदलाव की जरूरत और ह्यूमन ट्रैफिकिंग पर चर्चा

4 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 06 जनवरी 2024 | जयपुर – दिल्ली – कोटा : जयपुर में चल रही 58वीं डीजी-आईजी कॉन्फ्रेंस में आज नरेंद्र मोदी हिस्सा ले रहे हैं। काॅन्फ्रेंस में खालिस्तान आतंकवाद, साइबर सुरक्षा, कानून में बदलाव की जरूरत और ह्यूमन ट्रैफिकिंग पर चर्चा की जाएगी। मोदी यहां हर राज्य के डीजीपी से भी मुलाकात करेंगे। उसके बाद वे कॉन्फ्रेंस को संबोधित करेंगे।

ezgifcom resize1704511799 1704528782 PM मोदी को काले झंडे दिखाने की धमकी के बीच जयपुर में डीजी आईजी कॉन्फ्रेंस, खालिस्तान आतंकवाद साइबर सुरक्षा कानून में बदलाव की जरूरत और ह्यूमन ट्रैफिकिंग पर चर्चातीन दिन की इस सेमीनार में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार अजीत डोभाल भी मौजूद हैं। जयपुर के राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर में हो रही इस कॉन्फ्रेंस के दूसरे दिन पहुंचे पीएम शाह और डोभाल ने स्वागत किया।

वहीं, प्रधानमंत्री को काले झंडे दिखाने की धमकी को लेकर पुलिस ने एनएसयूआई के प्रदेशाध्यक्ष अभिषेक चौधरी को नजरबंद कर दिया है। विंग के दूसरे कार्यकर्ताओं की भी धरपकड़ शुरू हो गई है। राजभवन से राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर के लिए रवाना होता पीएम मोदी का काफिला।

डीजी-आईजी कॉन्फ्रेंस में आज चार विषय पर चर्चा

  • खालिस्तान आतंकवाद को खत्म करने के लिए सभी राज्यों के डीजी से सुझाव मांगे जाएंगे। एनएसए अजीत डोभाल इस विषय को लेकर करीब 20 मिनट तक अपना इनपुट कॉन्फ्रेंस में सभी के साथ साझा करेंगे।
  • साइबर सुरक्षा पर करीब 3 घंटे चर्चा होगी। इस दौरान देश के कई बड़े साइबर एक्सपर्ट और साइबर टीमें इसमें भाग लेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को साइबर सुरक्षा पर किए जा रहे कामों को लेकर जानकारी दी जाएगी।
  • कानूनों को बदलने, सजा और जुर्माना बढ़ाने पर इस चर्चा होगी। इस विषय को करीब 4 घंटे का समय दिया गया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सहित कई राज्यों के डीजी अपनी बात रखेंगे।
  • अंतिम विषय ह्यूमन ट्रैफिकिंग रखा गया है। इसे 2 घंटे का समय दिया गया है। ह्यूमन ट्रैफिकिंग के बारे में गृह राज्य मंत्री नत्यानंद एक प्रेजेंटेशन देंगे। इसके बाद इसके मूल कारणों और इसे कैसे रोका जा सकता है, इस पर चर्चा की जाएगी।
जयपुर एयरपोर्ट पहुंचने पर सीएम भजनलाल शर्मा ने पीएम मोदी का स्वागत किया था।

लंच में होगा वन टू वन संवाद
दोपहर 1 बजे पीएम मोदी और अमित शाह सभी डीजी-आईजी के साथ लंच करेंगे। एक घंटे के लंच के दौरान मोदी सभी से वन टू वन संवाद करेंगे। इस मीटिंग के दौरान मोदी और अमित शाह सभी अधिकारियों की टेबल तक जाएंगे। उनके साथ लंच शेयर करेंगे। जानकारी अनुसार, लंच के लिए ताज ग्रुप को ऑर्डर दिया गया है। वहीं, राजस्थानी भोजन पर ज्यादा फोकस किया गया है।

शाह बोले-2014 के बाद देश मे आतंकी-उग्रवादी हिंसा में कमी untitled 14 1704462144 PM मोदी को काले झंडे दिखाने की धमकी के बीच जयपुर में डीजी आईजी कॉन्फ्रेंस, खालिस्तान आतंकवाद साइबर सुरक्षा कानून में बदलाव की जरूरत और ह्यूमन ट्रैफिकिंग पर चर्चा

शुक्रवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने देश में आंतरिक सुरक्षा से जुड़ी चुनौतियों के लिए केंद्र-राज्यों के बीच बेहतरीन तालमेल से काम करने के साथ एआई के उपयोग को बढ़ावा देने को कहा।

नए आपराधिक कानूनों के लिए थानेदारों से लेकर डीजीपी तक ट्रेनिंग देने पर जोर दिया है। शाह शुक्रवार को जयपुर में डीजी-आईजी कॉन्फ्रेंस में बोल रहे थे।

शाह ने कहा कि देश अमृत काल में प्रवेश कर चुका है। अमृत काल में कई नई शुरुआत हुई हैं। नई शिक्षा नीति का निर्माण करने के साथ ब्रिटिश युग के कानूनों की जगह तीन नए आपराधिक कानून बनाए हैं।

नए कानून सजा की बजाय न्याय देने पर केंद्रित हैं। इन कानूनों के अमल में लाने से हमारी आपराधिक न्याय प्रणाली सबसे आधुनिक और वैज्ञानिक हो जाएगी।

कॉन्फ्रेंस के दौरान तीन पुलिस थानों को सम्मानित भी किया गया। केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा- नए आपराधिक कानूनों को ग्राउंड पर सफलता से लागू करने के लिए थानेदार से लेकर डीजीपी तक ट्रेनिंग पर जोर देना होगा। थाने से पीएचक्यू स्तर तक टेक्निकल अपग्रेडेशन की जरूरत है।

उभरती सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए डेटाबेस को जोड़ने और एआई आधारित एनालिसिस एप्रोच को अपनाने की जरूरत है। कई मामलों में एआई को अपनाकर सुरक्षा से जुड़े खतरों को कम किया जा सकता है।

अमित शाह ने कहा 2014 के बाद से देश के सुरक्षा ढांचे के माहौल में समग्र सुधार हुआ है। तीन महत्वपूर्ण हॉटस्पॉट यानी जम्मू और कश्मीर, उत्तर-पूर्व और वामपंथी उग्रवादी हिंसा में कमी आई है।

शाह ने कहा-पिछले कुछ साल में यह सम्मेलन एक ‘थिंक टैंक’ के रूप में उभरा है, जो निर्णय लेने और नई सुरक्षा रणनीतियों को तैयार करने की सुविधा प्रदान करता है। देश भर में आतंकवाद विरोधी तंत्र के ढांचे को आकार और कौशल की एकरुपता लानी होगी। इससे आतंकवाद से निपटने में आसानी होगी।

एसपीजी ने 10 दिन से संभाल रखा मोर्चा

डीजी-आईजी कॉन्फ्रेंस में प्रधानमंत्री के इतने लम्बे समय तक रहने के कारण एसपीजी ने पिछले 10 दिन से मोर्चा संभाला हुआ है। एसपीजी ने राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर को अपने कब्जे में ले लिया है। यहां आने और जाने के हर मार्ग पर पुलिस का बड़ा पहरा लगा हुआ हैं। एसपीजी ने सुरक्षा और व्यवस्था की जिम्मेदारी खुद ले रखी हैं। स्टेट पुलिस को इंतजाम करने के लिए कहा गया है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This