कोरोना के दौरान हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन मेडिसन से 6 देशों में 17 हजार मौतें, ट्रम्प ने बताया था चमत्कारी दवा, जाँच में फंसे अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप

8 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 06 जनवरी 2024 | जयपुर – दिल्ली – न्यूयार्क : 2020 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना से बचाने वाली एक दवा का प्रमोशन किया था। अब एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि इस दवा से 6 देशों में 17 हजार लोगों की मौत हुई। यह रिपोर्ट फ्रेंच रिसर्चर्सकोरोना के दौरान हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन मेडिसन से 6 देशों में 17 हजार मौतें, ट्रम्प ने बताया था चमत्कारी दवा, जाँच में फंसे अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप की स्टडी के हवाले से सामने आई है।

 1704547478 कोरोना के दौरान हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन मेडिसन से 6 देशों में 17 हजार मौतें, ट्रम्प ने बताया था चमत्कारी दवा, जाँच में फंसे अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंपजिस दवा का जिक्र रिपोर्ट में किया गया है उसकी नाम हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) है। ट्रम्प ने 21 मार्च 2020 को एक ट्वीट किया था। इसमें कहा था- यह चमत्कारी दवा है। कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए मैं लगातार इसे खा रहा हूं।

आप कोरोना से बचने के लिए इसे खा सकते हैं। इससे किसी की जान नहीं जाएगी। एक कोरोना संक्रमित महिला ने यह दवा ली थी, वो ठीक हो गई। अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने इमरजेंसी में इस दवा के इस्तेमाल को मंजूरी देकर बहुत अच्छा काम किया है।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा लेने वाले हर छठे व्यक्ति की मौत-रिसर्च

क्विंट हिंदी में लिखे एक लेख में जर्नलिस्‍ट प्रेम कुमार ने इस सच्चाई को उजागर किया था। कोविड-19 मरीजों को मलेरिया की बीमारी में इस्तेमाल आने वाली दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का डोज देने को लेकर दो बड़ी खबरें एक साथ हैं। एक मेडिकल जर्नल द लैंसेट में अब तक का सबसे बड़ा अध्ययन सामने आया है, जिसकी मानें तो कोविड-19 के मरीजों को मलेरिया की दवा देना खतरनाक है।

दूसरी खबर है कि भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल को लेकर नई गाइडलाइन जारी की है जिसमें कोविड-19 के मरीजों और उन मरीजों के गिर्द काम करने वाले कोरोना वॉरियर्स के लिए इस दवा को लेने की सलाह डोज के हिसाब से जारी की गयी है।

भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने कोविड-19 के मरीजों के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल को लेकर 22 मई को नई गाइडलाइन जारी की है। तीन पन्नों की इस गाइडलाइन में चौथे नंबर में किसे, कितनी हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की दवा का डोज लेना है उस बारे में हिदायत लिखी गई है-

  • लेबोरेटरी से कन्फर्म हो चुके बगैर लक्षण वाले मरीजों के लिए 400 एमजी पहले दिन दो बार और फिर हफ्ते में एक बार अगले तीन हफ्ते तक भोजन के बाद लेना है।
  • बगैर लक्षण वाले सभी स्वास्थ्यकर्मी जो कोविड मरीजों की सेवा में लगे हैं और जो प्रभावित इलाकों में कार्यरत हैं या फिर इसी तरह कंटेनमेंट जोन में सर्विलांस वर्कर और कोविड-19 गतिविधियों में शामिल पारामिलिट्री या पुलिसकर्मियों के लिए सलाह है कि वे पहले दिन 400 एमजी दो बार लें और उसके बाद सात हफ्ते तक हफ्ते में एक बार भोजन के साथ इसे लें।

मेडिकल जर्नल द लैंसेट में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन नामक दवा को लेने वाले हर छठे व्यक्ति की मौत हो गयी। 20 दिसंबर से 14 अप्रैल के बीच दुनिया के 671 अस्पतालों के 96 हजार से ज्यादा मरीजों पर हुए अध्ययन के ये आंकड़े हैं. रिसर्च में यह पाया गया है कि जिन समूहों में ये दवा दी गई उनमें मृत्यु दर उन समूहों से अधिक पाई गई, जिन्हें यह दवा नहीं दी गई।

रिसर्च के दौरान मिले चार तरह के तथ्य ध्यान देने योग्य हैं

  • जिन लोगों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दी गई, उनमें हर 6 में से एक व्यक्ति की मौत हो गई।
  • जिन्हें क्लोरोक्वीन के साथ एक एंटीबायोटिक दी गई, उनमें 5 में से एक की मौत हुई।
  • जिन्हें हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के साथ एक एंटीबायोटिक दी गई, उनमें चार में से एक की मौत हो गई।
  • जिन कोविड-19 के मरीजों को इनमें से कोई दवा नहीं दी गई, उनमें मौत का आंकड़ा 11 में एक का रहा।

इन चारों तथ्यों पर गौर करने से यह बात साफ है कि एंटीबायोटिक के साथ हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन देने का बहुत बुरा नतीजा सामने आया है। हर चौथे मरीज की इससे मौत हो सकती है. द लैंसेट की रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन मरीजों को हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के साथ एंटीबायोटिक दी गई, उनमें से 8 प्रतिशत मरीजों में हॉर्ट एरीथिमिया की बीमारी विकसित हो गई। वहीं, जिन मरीजों को यह दवा नहीं दी गई, उनमें केवल 0.3 प्रतिशत मरीजों में दिल की यह बीमारी देखी गई।

इस अध्ययन का नेतृत्व कर रहे प्रोफेसर मनदीप ने ब्रिटेन के अखबार द गार्जियन को बताया कि क्लोरोक्वीन या हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन से कोविड-19 मरीजों को कोई फायदा नहीं होता है। इसे आंकड़ों में साबित करने वाला अब तक का यह सबसे व्यापक अध्ययन माना जा रहा है।

अगर इस ताजा वैश्विक मेडिकल रिसर्च पर यकीन करें तो अमेरिका में मौत के भयावह आंकड़ों के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सबसे बड़े गुनहगार के तौर पर दिखते हैं, जिन्होंने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को क्लोरोक्वीन के मुकाबले कम खतरनाक बताया था और इसे कोविड-19 की दवा के तौर पर प्रचारित किया था।

डोनाल्ड ट्रंप ने यहां तक दावा किया था कि वे खुद कोरोना से बचने के लिए इसे ले रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति के दावे का आधार फ्रांस में हुआ एक प्रयोग था, जिसे फ्रांसीसी डॉक्टर डिडियर राओट ने अंजाम दिया था। कुछ दर्जन मरीजों पर प्रयोग के आधार पर उन्होंने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को दवा के तौर पर इस्तेमाल करने के अच्छे नतीजे बताए थे।

sesgdsg 1704548143 कोरोना के दौरान हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन मेडिसन से 6 देशों में 17 हजार मौतें, ट्रम्प ने बताया था चमत्कारी दवा, जाँच में फंसे अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप
पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना से बचने के लिए लोगों से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) दवा खाने को कहा था। उन्होंने इस दवा का काफी प्रमोशन किया था।

आज स्थिति यह है कि दुनिया में हर दस कोरोना पीड़ितों में से 3.1 अमेरिकी हैं। दुनिया में इस बीमारी से मरने वाले हर दस में 2.87 व्यक्ति अमेरिकी हैं। अमेरिका में 16 लाख 66 हजार से ज्यादा कोरोना मरीज हैं तो मरने वालों की तादाद 97 हजार से ज्यादा हैं।

अमेरिका में हर पांचवा कोरोना मरीज मौत के मुंह में समा चुका है। सवाल ये है कि कोरोना की बीमारी अमेरिकियों पर क्यों पड़ी इतनी भारी? क्या हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन ने बढ़ाया मौत का आंकड़ा? क्या कोरोना मरीजों को हाइड्रोक्लोरोक्वीन देने की डोनाल्ड ट्रंप की सलाह मानना अमेरिकियों के लिए महंगा पड़ गया?

दुनिया के स्तर पर अब तक हुए सबसे बड़े रिसर्च ने यही बताया है कि कोरोना मरीजों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन देना मौत के मुंह में धकेलना है। अमेरिकी राष्ट्रपति के आग्रह पर भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की दवा पर लगाए गये निर्यात प्रतिबंध को हटा लिया था।

ऐसा करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खुली धमकी भी दी थी. बहरहाल, भारत ने आगे बढ़कर मदद का हाथ बढ़ाया. मगर, यह मदद अमेरिका को क्या उल्टी पड़ गई? ताजा मेडिकल रिसर्च यही कह रहे हैं. यह रिसर्च भारत को भी आगाह कर रहा है।

भारत की स्थिति पर नजर डालें तो दुनिया में एक्टिव संक्रमित मरीजों की तादाद के मामले में यह पांचवें नंबर पर और कुल कोरोना मरीजों की संख्या के हिसाब से 11वें नंबर पर है। मौत के मामले में भारत 16वें नंबर पर है. लॉकडाउन के चौथे दौर में भारत अर्थव्यवस्था को खोलने और जन-जीवन को सामान्य बनाने की ओर बढ़ने की कोशिश में जुटा है. इसके बावजूद कोरोना मरीजों की तादाद बढ़ते हुए अब 6 हजार प्रतिदिन के स्तर को छू रही है। ऐसे में गृह मंत्रालय की नई गाइडलाइन डराने वाली है जिसमें हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल के तरीके बताए गए हैं।

गृहमंत्रालय की गाइडलाइन 1.2 में यह भी बताया गया है कि एचसीक्यू के बुरे नतीजे भी देखने को मिले हैं. 8.9 प्रतिशत मरीजों में जी मिचलाने, 1.5 प्रतिशत मरीजों को उल्टी, 1.7 प्रतिशत मरीजों को हाइपोग्लाइसीमिया और 1.9 मरीजों में कार्डियो मस्क्यूलर इफेक्ट्स देखने को मिले हैं।

गाइडलाइन 1.3 में भारत में अलग-अलग हुए अध्ययनों का भी हवाला दिया गया है, जिसमें एम्स में 334 मरीजों पर किए गये प्रयोग में 248 में संक्रमण घटने के नतीजे मिले। दिल्ली के तीन अलग-अलग अस्पतालों से भी सकारात्मक नतीजे मिलने का जिक्र है। मगर, ये प्रयोग बहुत छोटे स्तर पर हैं यह भी सच है। एक ऐसे समय में जब 96 हजार मरीजों पर हुए प्रयोग के नतीजे दुनिया के सामने आ चुके हैं तो ऐसे में इन छोटे-मोटे प्रयोग के मायने नहीं रह जाते।

अमेरिका का उदाहरण सामने है जिसने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का जमकर इस्तेमाल किया, वहां बीमारी घटने के बजाए तेजी से बढ़ी. मृत्युदर भी भयावह है। खुद भारत इस दवा का सप्लायर देश रहा। ऐसे में क्या भारत अपने देश में भी वही प्रयोग दोहरा सकता है, जबकि उसके खतरे पर प्रायोगिक निष्कर्ष सामने हैं?

जून 2020 में दवा के आपातकालीन इस्तेमाल पर रोक लगी

collage 21592722040 1704547504 कोरोना के दौरान हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन मेडिसन से 6 देशों में 17 हजार मौतें, ट्रम्प ने बताया था चमत्कारी दवा, जाँच में फंसे अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप

जून 2020 में, FDA ने दवा के आपातकालीन इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। FDA ने न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन की स्टडी का हवाला दिया था। स्टडी में सामने आया था कि HCQ का कोविड पर कोई असर नहीं होता और इससे मौत का जोखिम काफी बढ़ जाता है।

FDA ने इसे कोविड 19 नहीं, बल्कि मलेरिया, ल्यूपस और रिमेटॉयड आर्थिराइटिस के इलाज के लिए अप्रूव किया था। उस समय कोरोना वायरस की दवा नहीं होने के कारण अस्पताल मरीजों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दे रहे थे।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन से मलेरिया के मरीजों का इलाज किया जाता है। इसका उपयोग रिमेटॉयड आर्थिराइटिस और ल्यूपस में भी किया जाता है।

सभी मौतें कोरोना की पहली वेव में हुई

फ्रांस के रिसर्च ने मार्च 2020 से जुलाई 2020 के बीच यानी कोरोना की पहली वेव में हुई मौतों का डेटा स्टडी किया। स्टडी में सामने आया कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) लेने वाले कोरोना संक्रमित लोग और ज्यादा बीमार हो गए। इन मरीजों का दिल और मसल्स कमजोर पाए गए थे।

रिपोर्ट में कहा गया कि 6 देशों- अमेरिका, तुर्किये, बेल्जियम, फ्रांस, इटली और स्पेन में 17 हजार लोगों की मौत हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा खाने से हुई। सबसे ज्यादा 12,739 मौतें अमेरिका में हुई। 1,895 मौतें स्पेन, 1,822 मौतें इटली, 240 मौतें बेल्जियम, 199 मौतें फ्रांस और 95 मौतें तुर्किये में हुई।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This