शिवपुरी में करीब 40 जाटव परिवारों ने हिंदू छोड़ बौद्ध धर्म अपनाया, झूठी पत्तल उठवाने और छुआछुत से थे परेशान

4 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 03 जनवरी 2024 | जयपुर – दिल्ली – शिवपुरी : शिवपुरी में करीब 40 जाटव परिवारों ने सनातन छोड़ बौद्ध धर्म अपना लिया। धर्म परिवर्तन करने वालों का कहना है कि गांव में उनके साथ छुआछूत की जाती है। मामला 31 जनवरी का है। इसका वीडियो 2 फरवरी को सामने आया है।

gif 01 1706936664 शिवपुरी में करीब 40 जाटव परिवारों ने हिंदू छोड़ बौद्ध धर्म अपनाया, झूठी पत्तल उठवाने और छुआछुत से थे परेशान

शिवपुरी में करीब 40 जाटव परिवारों ने हिंदू छोड़ बौद्ध धर्म अपनाया

छुआछूत से नाराज लोगों ने टेंट लगाकर कार्यक्रम आयोजित किया। इसमें बौद्ध धर्म अपनाने की शपथ ली। शिवपुरी जिले में करैरा के ग्राम बहगवां में 31 जनवरी को श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन हुआ था।
जाटव समाज के लोगों का कहना है कि आयोजन में सभी समाज और लोगों को अलग-अलग काम सौंपे गए थे। जाटव समाज को झूठी पत्तल उठाने का काम दिया गया। इसके चलते उन्होंने भंडारे से एक दिन पहले बौद्ध धर्म अपना लिया।

31 जनवरी को समाज के लोगों ने बौद्ध धर्म गुरु को गांव बुलाया था। टेंट लगाकर कार्यक्रम का आयोजन किया। गांव में टेंट लगाकर धर्म परिवर्तन कराया गया। यहां जाटव समाज के करीब 40 परिवारों ने बौद्ध धर्म अपना लिया।

बौद्ध धर्म गुरु ने ये शपथ दिलाई…

मैं ब्रह्मा, विष्णु, महेश को कभी ईश्वर नहीं मानूंगा और न ही कभी उनकी पूजा करूंगा। मैं राम और विष्णु को कभी ईश्वर नहीं मानूंगा और न ही कभी उनकी पूजा करूंगा।

मैं गौरी, गणपति इत्यादि हिंदू धर्म के किसी भी देवी-देवता को नहीं मानूंगा और न ही उनकी पूजा करूंगा। मैं इस बात पर कभी विश्वास नहीं करूंगा कि ईश्वर ने कभी अवतार लिया है। मैं ये बात कभी नहीं मानूंगा कि भगवान बुद्ध विष्णु के अवतार हैं। मैं ऐसे प्रचार को पागलपन और झूठा प्रचार समझता हूं।

झूठी पत्तल उठवाने और छुआछुत से थे परेशान

मैं श्राद्ध कभी नहीं करूंगा और ना ही पिंडदान करूंगा। मैं कोई भी क्रिया कर्म ब्राह्मणों के हाथों नहीं कराऊंगा। मैं इस सिद्धांत को मानूंगा कि सभी मनुष्य एक समान हैं। मैं समानता की स्थापना के लिए प्रयत्न करूंगा। मैं भगवान बुद्ध के मार्ग पर चलने का प्रयास करूंगा। screenshot 2024 02 03 100941 1706935194 शिवपुरी में करीब 40 जाटव परिवारों ने हिंदू छोड़ बौद्ध धर्म अपनाया, झूठी पत्तल उठवाने और छुआछुत से थे परेशान

मैं प्राणी मात्र पर दया करूंगा। उनका लालन-पालन करूंगा। मैं कभी चोरी नहीं करूंगा, झूठ नहीं बोलूंगा, झूठ का प्रचार नहीं करूंगा, शराब नहीं पियूंगा। मैं अपने जीवन को बौद्ध धर्म के तीन तत्वों ज्ञान, शील, करुणा के अनुसार ढालने का प्रयत्न करूंगा।

मैं मनुष्य की उत्कृष्टता के लिए हानिकारक, मनुष्य मात्र को नीच मानने वाले पुराने हिंदू धर्म को पूर्णत त्यागता हूं और बौद्ध धर्म को अपनाता हूं। मैं पूर्ण विश्वास करता हूं कि बौद्ध धर्म ही सर्वधर्म है।

मैं यह मानता हूं कि मेरा नया जन्म हो रहा है। मैं यह प्रतिज्ञा करता हूं कि मैं आज से बौद्ध धर्म के अनुसार आचरण करूंगा। मंच से बौद्ध धर्म गुरु ने जाटव समाज के लोगों को शपथ पढ़वाई।

समाज के लोगों को किया गया था अपमानित

भीम आर्मी के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य महेंद्र बौद्ध ने बताया, गांव में भंडारे में सभी समाज को काम बांटे गए। जाटव समाज को पत्तल परोसने और झूठी पत्तल उठाने का काम दिया गया।

इस दौरान गांव के किसी व्यक्ति ने कहा, जाटव समाज के लोग पत्तल परोसेंगे तो पत्तल वैसे ही खराब हो जाएगी। ऐसे में इनसे सिर्फ झूठी पत्तल उठवाने का काम करवाया जाए।

screenshot 2024 02 03 094513 1706935096 शिवपुरी में करीब 40 जाटव परिवारों ने हिंदू छोड़ बौद्ध धर्म अपनाया, झूठी पत्तल उठवाने और छुआछुत से थे परेशानइसके बाद गांववालों ने कह दिया कि झूठी पत्तल उठाना है तो उठाओ, नहीं तो खाना खाकर अपने घर जाओ। इसी बुरे व्यवहार के चलते जाटव समाज ने धर्म बदल लिया।

‘बहला फुसलाकर धर्म परिवर्तन करवाया’ सरपंच 

गांव के सरपंच गजेंद्र रावत का कहना है कि जाटव समाज के आरोप निराधार हैं। समाज के लोगों ने एक दिन पूर्व ही अपने हाथ से केले का प्रसाद बांटा था। पूरे गांव ने प्रसाद लिया और खाया भी।

गांव में बौद्ध भिक्षु आए थे, उन्होंने लोगों को बहला फुसलाकर धर्म परिवर्तन करवाया है। बड़ी संख्या में महिलाओं और बच्चियों ने हिंदू धर्म का त्याग कर बौद्ध धर्म की शपथ ली। सरपंच ने कहा, पूरे गांव में किसी भी तरह का काम किसी समाज विशेष को नहीं बांटा गया था।

सभी ने मिलजुल कर सारे काम किए हैं। अन्य समाज के लोगों ने भी परोस करवाई और झूठी पत्तल उठाई हैं। उनके साथ छुआछूत क्यों नहीं की गई। जाटव समाज ने जो चंदा दिया था, वो उन्होंने वापस ले लिया। गांववालों ने उसकी पूर्ति के लिए दोबारा से चंदा भी किया है।

कलेक्टर ने कहा- मामला गंभीर, जांच करवाएंगे

कलेक्टर रविंद्र कुमार चौधरी ने कहा, मामला हमारे संज्ञान में नहीं आया है। मैं पता करवाता हूं कि आखिर इतने परिवारों ने एक साथ धर्म परिवर्तन क्यों किया। इस मामले की गहराई से पड़ताल करना जरूरी है, क्योंकि कोई भी व्यक्ति सिर्फ एक दिन में धर्म परिवर्तन कर ले, यह संभव नहीं है। जांच के बाद ही सच्चाई सामने आ सकेगी।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This