RAS परीक्षा 2021 पर फिर उठे सवाल, मुख्य परीक्षा में लगातार रोल नंबर वाले 96 अभ्यर्थियों में से 26 पास, मूकनायक मीडिया ने सितंबर में खोली थी पोल

4 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 06 जनवरी 2024 | जयपुर – दिल्ली – अजमेर : राजस्थान लाेक सेवा आयाेग (RPSC) की आरएएस – 2021 भर्ती परीक्षा भी विवादों में है। इस एग्जाम के टाॅप 100 में बीकानेर के 43 अभ्यर्थियाें का चयन हाेने के बाद एक और बड़ा खुलासा हुआ है। मेन एग्जाम में बीकानेर के परीक्षा सेंटर पर राेल नंबर 905004 से 905100 के बीच 96 अभ्यर्थियाें में से 26 अभ्यर्थी पास हुए हैं। जबकि प्रदेश के अन्य संभागाें में औसतन छह से 10 के बीच कैंडिडेट पास हुए हैं।

RAS परीक्षा 2021 पर फिर उठे सवाल

अंतिम परिणाम में इन्हीं सेंटर से 15 कैंडिडेट सिलेक्ट हुए। जिसमें इस सेंटर से टाॅप 100 में आठ अभ्यर्थी हैं। पहली बार ऐसा हुआ है जब एक या दाे परीक्षा सेंटर से एक साथ इतने कैंडिडेट सिलेक्ट हुए हैं। इसी एग्जाम की काॅपियां निजी काॅलेज के शिक्षकाें से जांच करवाने का भी आरोप लगा था। तत्कालीन सांसद डाॅ किरोड़ी लाल मीणा जांच एजेंसियाें काे सबूत दे चुके हैं।

capture 1707177858 RAS परीक्षा 2021 पर फिर उठे सवाल, मुख्य परीक्षा में लगातार रोल नंबर वाले 96 अभ्यर्थियों में से 26 पास, मूकनायक मीडिया ने सितंबर में खोली थी पोल
1 1707177921 RAS परीक्षा 2021 पर फिर उठे सवाल, मुख्य परीक्षा में लगातार रोल नंबर वाले 96 अभ्यर्थियों में से 26 पास, मूकनायक मीडिया ने सितंबर में खोली थी पोल

कॉपियां नहीं दिखाने पर अड़ा रहा आरपीएससी

Untitled Photo 2022 04 26T163855.029 300x169 RAS परीक्षा 2021 पर फिर उठे सवाल, मुख्य परीक्षा में लगातार रोल नंबर वाले 96 अभ्यर्थियों में से 26 पास, मूकनायक मीडिया ने सितंबर में खोली थी पोलआरएएस भर्ती 2021 का अंतिम परिणाम 17 नवंबर 2023 को आया था। मुख्य परीक्षा की कट ऑफ 800 में से 314 अंक रही। यह कट ऑफ पिछले 20 सालों में सबसे कम थी। अभ्यर्थियों ने मुख्य परीक्षा की कॉपियां दिखाने की मांग की लेकिन आरपीएससी टालता रहा ।

जब हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने कॉपियां दिखाने के निर्देश दिए तो आरपीएससी ने डबल बेंच में अपील कर दी। बाद में आरपीएससी ने 30 अप्रैल 2024 से सभी कॉपियां ऑनलाइन अपलोड करने की बाद कही। अब मेडिकल जांच पूरी करके चयनितों को नियुक्ति दिए जाने की तैयारी की जा रही है।

इसी बीच अभ्यर्थियों ने एसआईटी से जांच की मांग उठा दी है। आरपीएससी चेयरमैन संजय श्राेत्रिय का कहना है कि बीकानेर संभाग के मामले में संबंधित कागज देखने के बाद ही बता सकता हूं।

अभ्यर्थियाें के मेडिकल के लिए कार्मिक विभाग काे पहले ही सूची भेज दी थी। कार्मिक विभाग ही मेडिकल करवाता है। अन्य राज्याें में कहीं भी अभ्यर्थियाें काे काॅपी नहीं दिखाई जाती। केवल आरपीएससी ही काॅपी दिखाती है।

यह भी पढ़ें : आरएएस मुख्य परीक्षा की कॉपी की जाँच में धांधलियों का आरोप

आरपीएससी सचिव रामनिवास मेहता का कहना है कि आरएएस भर्ती प्रक्रिया पूरी हाेने के बाद आरटीआई अधिनियम के तहत अभ्यर्थियाें काे उत्तर पुस्तिकाएं उपलब्ध कराई जाती हैं। आरटीआई के तहत पांच फरवरी से 30 अप्रैल तक आवेदन लिए लिए जा रहे हैं। उत्तर पुस्तिकाएं 20 फरवरी से 31 मई तक वेबसाइट पर उपलब्ध करा दी जायेंगी।

आरपीएससी ने अंतिम चयनित सूची कार्मिक विभाग काे भेज दी है। अभ्यर्थियाें का कहना है कि आरपीएससी की ओर से जब भर्ती संबंधी सभी प्रकिया पूरी कर ली गई हैं। ऐसे में काॅपियां बताने में आरपीएससी जानकर देरी कर रहा है।

मुख्य परीक्षा में लगातार रोल नंबर वाले 96 अभ्यर्थियों में से 26 पास

screenshot 4805 1664356571 300x225 RAS परीक्षा 2021 पर फिर उठे सवाल, मुख्य परीक्षा में लगातार रोल नंबर वाले 96 अभ्यर्थियों में से 26 पास, मूकनायक मीडिया ने सितंबर में खोली थी पोलगहलोत राज की एक और बड़ी भर्ती सवालों के घेरे में आ गई है। आरएएस भर्ती 2021 को लेकर सवाल उठने लगे हैं। 25 जनवरी को राजस्थान लोकसेवा आयोग ने चयनित अभ्यर्थियों की मेडिकल जांच के लिए संभागवार सूची जारी की। इस सूची से पता चला है कि टॉप 100 अभ्यर्थियों में अकेले बीकानेर संभाग के 43 अभ्यर्थी हैं।

सर्वाधिक आरएएस और आरपीएससी का चयन भी इसी संभाग से हुआ है। इतना ही नहीं मेडिकल जांच हर बार अमूमन दो महीने में पूरी होती है जबकि इस बार मजह तीन दिन में मेडिकल जांच पूरी कर ली गई। इस जल्दबाजी को लेकर धांधली के आरोप लगे हैं।

चहेते शिक्षकों से कॉपियां जांचने के आरोप

कैबिनेट मंत्री डॉ किरोड़ी लाल मीणा ने भी कुछ महीनों पहले आरएएस भर्ती 2021 पर सवाल उठाए थे। उनका सीधा आरोप था कि पूर्ववर्ती सरकार ने चहेते शिक्षकों से कॉपियों की जांच कराई थी। कांग्रेस नेताओं के नजदीकी शिक्षकों से कॉपियों की जांच कराने और नेताओं के नजदीकी रिश्तेदार अभ्यर्थियों को ज्यादा नंबर दिए जाने के आरोप भी लगाए थे।

डॉ मीणा ने कहा कि कांग्रेस ने हठधर्मिता से आरएएस भर्ती की मुख्य परीक्षा का आयोजन कराया था। टॉप 100 चयनितों में एक ही संभाग से 43 अभ्यर्थियों का चयन होना डॉ. मीणा ने गड़बड़ी का सबूत बताया है। उन्होंने कहा कि वे मुख्यमंत्री से मिलकर इस प्रकरण के बारे में जानकारी देंगे और एसआईटी के हैड आईपीएस वीके सिंह को तमाम सबूत भी देंगे।

मूकनायक मीडिया ने सितंबर में खोली थी पोल

मूकनायक मीडिया ने सितंबर 27, 2022 को इसके बारे में अपनी खबर में कहा था कि %name RAS परीक्षा 2021 पर फिर उठे सवाल, मुख्य परीक्षा में लगातार रोल नंबर वाले 96 अभ्यर्थियों में से 26 पास, मूकनायक मीडिया ने सितंबर में खोली थी पोल

आरएएस मुख्य परीक्षा-2021 की उत्तर पुस्तिकाओं को जांचने के लिए महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर (MDS University, Ajmer) और मालवीय राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान जयपुर (Malaviya National Institute of Technology Jaipur) मूल्यांकन केंद्र बनाये गये थे।

आरपीएससी के बाहर प्रदर्शन कर रहे केंडिडेट्स ने मूकनायक मीडिया के रिपोर्टर से बातचीत में कहा कि मुख्य परीक्षा की कॉपी जाँचने के लिए जिन परीक्षकों को आमंत्रित किया गया उनमें बहुत से निजी महाविद्यालयों के शिक्षक थे। इन शिक्षकों में भी अधिकतर उन शिक्षकों को बुलाया गया जिनको दस वर्ष से कम का अध्यापन अनुभव था।

सूत्रों का यह भी कहना है कि उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए  परीक्षकों को आमंत्रित करने का आधार योग्यता ना होकर व्यक्तिगत था। नियमानुसार उत्तरपुस्तिकाओं की जाँच होने से पूर्व परीक्षकों का पैनल बनाया जाना था।

जबकि आरपीएससी अध्यक्ष ने नियमों में शिथिलता देकर अनुभवहीन परीक्षकों से कॉपी जँचवायी गयी और उन के निर्देशानुसार मूल्यांकन के लिए अधिकतर शिक्षक एक ही जाति विशेष से बुलाये गये थे। इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए। प्रदर्शनकारियों ने आयोग पर जल्दबाजी में अभ्यर्थियों की कॉपियां जांचने और परिणाम तैयार करने का का भी आरोप लगाया।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This