हाथरस दलित युवती की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से भी छेड़छाड़, रेप की पुष्टि नहीं, आरोपियों को सीधा फायदा

2 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो || अक्टूबर 01, 2020 || जयपुर : हैवानियत की शिकार हो दम तोड़ देने वाली हाथरस की दलित युवती का पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आ गयी है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता की जीभ काट दी गयी थी और उसके गले, रीढ़ की हड्डी को भी आरोपियों ने तोड़ दिया था। ये रिपोर्ट दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल की तरफ से जारी की गयी है।

चौंकाने वाली बात यह है कि इस रिपोर्ट में युवती से रेप की पुष्टि नहीं की गयी है। स्वाभाविक है कि इसका सीधा फायदा आरोपियों को होगा। पोस्टमॉर्टम में रिपोर्ट में मौत की यह वजह युवती ने दम तोड़ने से पहले पुलिस के सामने जो बयान दिया उसके आधार पर दर्ज एफआयीआर में आरोपियों के खिलाफ गैंगरेप की धारा लगायी तो गयी है।

लेकिन अब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में इसकी पुष्टि नहीं होने से कोर्ट में आरोपियों को बढ़त मिलने की आशंका है। बहरहाल, रिपोर्ट में मौत की वजह गले की हड्डी टूटना बतायी गयी है। अब फरेंसिक जाँच रिपोर्ट का इंतजार
उधर, हाथरस जिले के एसपी का कहना है कि रिपोर्ट में बलात्कार किये जाने की पुष्टि नहीं हुई है। उन्होंने कहा है कि वे लोग फरेंसिक जाँच रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पीड़िता को अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। वहाँ की मेडिकल रिपोर्ट में पीड़िता के शरीर पर चोटों के निशान का उल्लेख किया गया है लेकिन जबरन सेक्सुअल इंटरकोर्स (Forced Sexual Intercourse) की पुष्टि नहीं हुई है।

जमकर हो रही है राजनीति वहीं, समाजवादी पार्टी की यूपी छात्र सभा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अतुल प्रधान ने दावा किया है कि पीड़िता का शव जलाने में पुलिस ने थिनर का प्रयोग किया है। वह आज सुबह घटनास्थल पर मौजूद थे। उनका कहना है उन्हें चिता के पास से जो कैन मिली है, वह थिनर की है। उनको पीड़िता के घर जाने से रोक दिया गया तो वो सीबीआयी जाँच की माँग को लेकर धरने पर बैठ गये। वहीं, कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के हाथरस जाने के लिए दिल्ली से निकलने की खबर है।

कई बार दबाया गया गला पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता की जीभ काट दी गयी थी और उसके गले, रीढ़ की हड्डी को भी आरोपियों ने तोड़ दिया था। ये रिपोर्ट दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल की तरफ से जारी की गयी है। रिपोर्ट में ये भी बताया गया कि पीड़िता की मौत का मुख्य कारण विसरा रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा। हालांकि, रिपोर्ट में गले पर चोट के निशान का भी जिक्र किया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार एक बार नहीं बल्कि, कई बार पीड़िता का गला दबाने की कोशिश की गयी थी।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This