रोहित वेमुला : प्राण गँवाने के बाद भी दलितों को भारत में न्याय नसीब नहीं, तेलंगाना पुलिस क्लोजर रिपोर्ट में वेमुला को दलित मानने से इनकार, आधिकारिक तौर पर रोहित वेमुला दलित थे

7 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 04 मई 2024 | जयपुर – दिल्ली – अजमेर : हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्र रहे रोहित वेमुला का मामला एक बार फिर सुर्खियों में आ गया। उनके परिवार एक सदस्य ने शुक्रवार को कहा कि वे 2016 के रोहित की आत्महत्या के मामले में तेलंगाना पुलिस की क्लोजर रिपोर्ट को कानूनी रूप से चुनौती देंगे। उनके भाई राजा वेमुला ने दावा किया कि जिला कलेक्टर ने परिवार के अनुसूचित जाति के होने के बारे में फैसला नहीं लिया। इस पर पुलिस ने कहा कि वह आगे की जांच करेंगे।

रोहित वेमुला केस : प्राण गँवाने के बाद भी दलितों को भारत में न्याय नसीब नहीं

MOOKNAYAKMEDIA 22 300x196 रोहित वेमुला : प्राण गँवाने के बाद भी दलितों को भारत में न्याय नसीब नहीं, तेलंगाना पुलिस क्लोजर रिपोर्ट में वेमुला को दलित मानने से इनकार, आधिकारिक तौर पर रोहित वेमुला दलित थे हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्र रहे रोहित वेमुला के परिजन ने शुक्रवार को कहा कि वे रोहित वेमुला की आत्महत्या (Rohith Vemula Suicide) मामले में तेलंगाना पुलिस की क्लोजर रिपोर्ट को कानूनी रूप से चुनौती देंगे। रोहित के भाई राजा वेमुला ने दावा किया कि जिलाधिकारी ने परिवार के अनुसूचित जाति के होने के बारे में कोई फैसला नहीं लिया।

इस पर पुलिस ने कहा कि वह आगे की जांच करेगी। हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्र रहे रोहित वेमुला की मौत की जांच कर रही पुलिस ने स्थानीय अदालत के समक्ष मामले को बंद करने की रिपोर्ट (क्लोजर रिपोर्ट) दाखिल की है जिसमें दावा किया गया है कि वह दलित नहीं था और उसने ‘असली पहचान’ जाहिर होने के डर से आत्महत्या की थी।

रोहित की मौत पर स्थानीय अदालत के समक्ष अपनी क्लोजर रिपोर्ट में तेलंगाना पुलिस ने दावा किया था कि वह दलित नहीं था और उसने असली पहचान जाहिर होने के डर से आत्महत्या की थी। पुलिस ने सबूतों की कमी का हवाला देते हुए इस मामले के आरोपियों को ‘क्लीन चिट’ दे दी।

रोहित के परिवार की ओर से जताए गए शक का हवाला देते हुए तेलंगाना पुलिस के महानिदेशक रविगुप्ता ने शुक्रवार देर रात एक बयान में कहा कि अदालत में एक याचिका दायर की जाएगी, जिसमें जिलाधिकारी से आगे की जांच की अनुमति देने का अनुरोध किया जाएगा।

रेवंत रेड्‌डी से मिलेगा परिवार

तेलंगाना पुलिस की जांच में यह सामने आया है कि रोहिल वेमुला की मां ने फर्जी जाति प्रमाणपत्र बनवाया था। हाई कोर्ट में पुलिस के क्लाेजर रिपोर्ट दाखिल किए जाने के बाद रोहित वेमुला के भाई राज वेमुला की प्रतिक्रिया समाने आई है। इसमें उसने इस मुद्दे पर तेलंगाना के मुख्यमंत्री रेवंत रेड्‌डी से मिलने की बात कही है।

रोहिल वेमुला के आत्महत्या करने पर देश भर के विश्वविद्यालयों में यह मामला जोरशोर से उठा था। पुलिस ने अपनी क्लोजर रिपोर्ट में यह भी कहा है कि रोहित वेमुला राजनैतिक तौर पर काफी सक्रिय थे। इसके चलते उनका शैक्षणिक प्रदर्शन भी ठीक नहीं था। पुलिस ने आत्महत्या के पीछे इसे सभी वजह माना है।

यह भी पढ़ें : आरक्षण की 50% सीमा बढ़ाना राहुल गाँधी का मास्टर स्ट्रोक से मोदी की बेचैनी बढ़ी

रोहित वेमुला यूनिवर्सिटी में आंबेडकर स्टूडेंट्स असोसिएशन के सदस्य थे। रोहित वेमुला फांसी लगाकर जान देने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था। इसमें वेमुला ने लिखा था कि मैं हमेशा से एक लेखक बनना चाहता था। वेमुला ने पत्र के अंत में जय भीम लिखकर अपनी बात खत्म की थी।

तेलंगाना पुलिस क्लोजर रिपोर्ट में वेमुला को दलित मानने से इनकार

MOOKNAYAKMEDIA 21 300x253 रोहित वेमुला : प्राण गँवाने के बाद भी दलितों को भारत में न्याय नसीब नहीं, तेलंगाना पुलिस क्लोजर रिपोर्ट में वेमुला को दलित मानने से इनकार, आधिकारिक तौर पर रोहित वेमुला दलित थेपुलिस ने सबूतों की कमी का हवाला देते हुए इस मामले के आरोपियों को ‘क्लीन चिट’ दे दी। रोहित वेमुला के परिवार द्वारा व्यक्त किए गए संदेह का जिक्र करते हुए तेलंगाना के पुलिस महानिदेशक रवि गुप्ता ने शुक्रवार देर रात एक बयान में कहा कि संबंधित अदालत में एक याचिका दायर की जाएगी और मजिस्ट्रेट से आगे की जांच की अनुमति देने का अनुरोध किया जाएगा। बता दें कि रोहित वेमुला ने साल 2016 में आत्महत्या कर ली थी। रिपोर्ट में कहा गया, ‘मृतक को खुद भी पता था कि वह अनुसूचित जाति का नहीं है और उसकी मां ने उसे एससी का फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर दिया था।’

पुलिस ने रिपोर्ट में कही ये बात

रिपोर्ट में कहा गया कि इस बात के उजागर होने के परिणामस्वरूप वेमुला की शैक्षणिक उपाधि वापस ली जा सकती थी, इसका उन्हें भय था। साथ ही इस मामले के सामने आने के बाद उन्हें अभियोजन का सामना करना पड़ सकता है। इस मामले से जुड़े कई मुद्दे थे जो मृतक को परेशान कर रहे थे। इस कारण परेशान होकर रोहित वेमुला ने आत्महत्या कर ली। रिपोर्ट की मानें तो तमाम कोशिशों के बावजूद, यह साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं मिला कि आरोपियों के कृत्यों ने मृतक को आत्महत्या के लिए उकसाया था।

तेलंगाना पुलिस ने रोहित वेमुला (26) की मौत के मामले में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल की है। इसमें पुलिस ने सभी आरोपियों को क्लीन चिट दे दी है। हैदराबाद की सेंट्रल यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में रोहिल वेमुला ने 17 जनवरी, 2016 को फांसी लगाकर जान दे दी थी। तब रोहित वेमुला सामाजशास्त्र विभाग में पीएचडी के छात्र के रूप में विश्विविद्यालय में रह रहे थे।

सभी को दी क्लीन चिट

मीडिया रिपोर्ट में पुलिस के हवाले से कहा गया है कि वेमुला ने इसलिए आत्महत्या कर ली थी। क्योंकि वेमुला कई चीजों को लेकर तनाव में था। पुलिस ने क्लोजर रिपोर्ट में बताया है कि राेहित वेमुला दलित नहीं था। पुलिस ने यह रिपोर्ट रोहित वेमुला की मौत के 100 महीने बाद दाखिल की है।

क्लोजर रिपोर्ट से जो जानकारी समाने आई हैं। उसमें पुलिस ने कहा है कि राेहिल वेमुला की मौत इसलिए हुई क्योंकि उसे डर था कि उसकी असली जाति सभी को पता चल जाएगी। तेलंगाना पुलिस ने वेमुला की मौत के बाद उस वक्त सिंकदराबाद से सांसद रहे बंडारू दत्तात्रेय, एमएलसी एन रामचंदर राव और कुलपति अप्पा राव समेत एबीवीपी और तत्कालीन महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ मामला दर्ज किया था। अब पुलिस ने सभी को दोष मुक्त कर दिया है।

‘तेलंगाना पुलिस का घिनौना चेहरा सामने-पढ़ाई से ज्यादा राजनीति में सक्रिय

पुलिस ने अपनी इस रिपोर्ट में यह भी कहा है कि सभी प्रयास करने के बाद भी ऐसे सबूत नहीं मिले। जिनसे यह स्थापित हो सके कि आरोपियों ने रोहित वेमुला को आत्महत्या करने के लिए मजबूर किया हो। पुलिस रिपोर्ट में आगे कहा गया गया है कि रोहित अपने खराब अकादमिक प्रदर्शन के चलते भी तनाव में थे। रिपोर्ट में लिखा है,

“अगर मृतक के अकादमिक प्रदर्शन पर नजर डालें तो पता चलता है कि वो पढ़ाई से ज्यादा छात्र राजनीति में सक्रिय थे। उन्होंने अपनी पहली PhD शुरू होने के दो साल में बंद कर दी थी। इसके बाद उन्होंने दूसरी PhD शुरू की थी, लेकिन उसमें भी वो ज्यादा कुछ नहीं कर पा रहे थे।”

तेलंगाना पुलिस की इस क्लोजर रिपोर्ट पर रोहित वेमुला के भाई की प्रतिक्रिया आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रोहित वेमुला के भाई ने कहा है कि उनके भाई का किस तरह से उत्पीड़न किया गया। उसे किस तरह से निशाना बनाया गया और आखिर में ‘मार’ दिया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने इन पहलुओं की जांच करने की जगह उनके भाई की जाति की जांच की।

आधिकारिक तौर पर रोहित वेमुला दलित थे

हैदराबाद विश्वविद्यालय (यूओएच) में आत्महत्या करने वाले 26 वर्षीय शोध विद्वान रोहित वेमुला अनुसूचित जाति समुदाय से थे, द हिंदू में प्रकाशित एक रिपोर्ट (It’s official. Rohith Vemula was Dalit) में कहा गया है कि हैदराबाद विश्वविद्यालय (यूओएच) में आत्महत्या करने वाले 26 वर्षीय शोध विद्वान रोहित वेमुला अनुसूचित जाति समुदाय से थे।

रिपोर्ट के ऑपरेटिव भाग में लिखा है: “तहसीलदार गुंटूर, श्री के पास उपलब्ध दस्तावेजी साक्ष्य के अनुसार रोहित चक्रवर्ती वेमुला हिंदू माला जाति से हैं, जिसे आंध्र प्रदेश में अनुसूचित जाति के रूप में वर्गीकृत किया गया है और उनका परिवार गरीबी रेखा से नीचे आता है। श्री रोहित चक्रवर्ती वेमुला की दादी और अन्य लोगों के रिकॉर्ड किए गए बयान भी जानकारी के लिए यहां संलग्न हैं।” इसकी पुष्टि गुंटूर जिला कलेक्टर कांतिलाल डांडे एवं राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग (एनसीएससी) नहीं दिल्ली में उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें : सेक्स स्कैंडल – महिलाएँ रोती रही पर वह वीडियो बनाता रहा

 

रिपोर्ट के ऑपरेटिव भाग में लिखा है: “तहसीलदार गुंटूर, श्री के पास उपलब्ध दस्तावेजी साक्ष्य के अनुसार। रोहित चक्रवर्ती वेमुला हिंदू माला जाति से हैं, जिसे आंध्र प्रदेश में अनुसूचित जाति के रूप में वर्गीकृत किया गया है और उनका परिवार गरीबी रेखा से नीचे आता है। श्री रोहित चक्रवर्ती वेमुला की दादी और अन्य लोगों के रिकॉर्ड किए गए बयान भी जानकारी के लिए यहां संलग्न हैं।”

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This