सीएमएम कोर्ट से 11 ट्रेनी SI और कॉन्स्टेबल को मिली जमानत आदेश हाई कोर्ट से रद्द, रिपोर्ट के आने से पहले आरोपियों को लेकर डिफरेंट व्यू लेने की जरुरत नहीं

3 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 08 मई 2024 | जयपुर – दिल्ली – एसआई भर्ती पेपरलीक : एसआई भर्ती पेपरलीक केस में हाईकोर्ट ने सीएमएम कोर्ट के 11 ट्रेनी एसआई और कॉन्स्टेबल को जमानत पर रिहा करने के आदेश को रद्द कर दिया है। जस्टिस सुदेश बंसल की अदालत ने सीएमएम कोर्ट के आदेश को रद्द करते हुए कहा कि जब कोर्ट ने पहले से गिरफ्तार 14 आरोपियों के संबंध में तथ्य जांचने के लिए डीजीपी को निर्देश दिए थे, तो उस रिपोर्ट के आने से पहले कोर्ट को इन आरोपियों को लेकर डिफरेंट व्यू लेने की कोई आवश्यकता नहीं थी।

सीएमएम कोर्ट से 11 ट्रेनी SI और कॉन्स्टेबल को मिली जमानत आदेश हाई कोर्ट से रद्द

police1712925049 1715160864 सीएमएम कोर्ट से 11 ट्रेनी SI और कॉन्स्टेबल को मिली जमानत आदेश हाई कोर्ट से रद्द, रिपोर्ट के आने से पहले आरोपियों को लेकर डिफरेंट व्यू लेने की जरुरत नहीं

हाईकोर्ट ने डीजीपी को निर्देश दिए हैं कि पहले से लंबित जांच के साथ-साथ इन 12 आरोपियों की गिरफ्तारी के तथ्यों की जांच करके 15 दिन में रिपोर्ट सीएमएम कोर्ट में पेश करें। वहीं, रिपोर्ट आने के बाद सीएमएम कोर्ट अवैध हिरासत के बिंदू को तय करें।

दरअसल, जयपुर मेट्रो-द्वितीय की सीएमएम कोर्ट ने 11 ट्रेनी एसआई और एक कॉन्स्टेबल को 12 अप्रैल को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए थे। जिस पर हाईकोर्ट ने 15 अप्रैल को अंतरिम रोक लगा दी थी। इस रोक के बाद आरोपी सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट को एक सप्ताह में मामले की सुनवाई पूरी करने के आदेश दिए थे।

एसओजी ने कहा- 2 अप्रैल को स्वतंत्र रूप से बैरक में रखा

एसओजी की ओर से बहस करते हुए विशिष्ठ लोक अभियोजक (एसपीपी) अनुराग शर्मा ने कोर्ट में कहा कि सभी आरोपियों को कानूनी रूप से गिरफ्तार किया हैं। 2 अप्रैल को आरपीए से लाने के बाद सभी आरोपियों को स्वतंत्र रूप से एसओजी के बैरकों में रखा गया था।

यह भी पढ़ें : ईडब्ल्यूएस आरक्षण पर मध्य प्रदेश हाई कोर्ट का बड़ा फैसला

जहां एसओजी के कर्मचारी रहते हैं। हमने आरोपियों को 3 अप्रैल को गिरफ्तार किया था। वहीं, 24 घंटे के अंदर कोर्ट में पेश कर दिया था। हमने केवल उन्हीं ट्रेनी एसआई को गिरफ्तार किया है, जिनके खिलाफ हमें साक्ष्य मिले। शेष को हमने आरपीए भेज दिया था।

आरोपियों ने कहा-अवैध हिरासत में रखा

आरोपियों की ओर से पैरवी करते हुए अधिवक्ता रमित पारीक, वेदांत शर्मा व अन्य ने कहा कि एसओजी जब आरोपियों को आरपीए से लेकर गई। उसी समय से इनकी गिरफ्तारी मानी जाएगी। क्योंकि गिरफ्तारी की परिभाषा के अनुसार जब एजेंसी किसी व्यक्ति को जबरन डिटेन करे, अथवा एजेंसी के कहने पर व्यक्ति अपनी कस्टडी सौंप दे। दोनों ही सूरत में यह गिरफ्तारी की परिभाषा में आएगा।

रिपोर्ट के आने से पहले आरोपियों को लेकर डिफरेंट व्यू लेने की जरुरत नहीं

MOOKNAYAKMEDIA 49 300x195 सीएमएम कोर्ट से 11 ट्रेनी SI और कॉन्स्टेबल को मिली जमानत आदेश हाई कोर्ट से रद्द, रिपोर्ट के आने से पहले आरोपियों को लेकर डिफरेंट व्यू लेने की जरुरत नहींइस केस में एसओजी 11 ट्रेनी एसआई को 2 अप्रैल को आरपीए और कॉन्स्टेबल को उससे पहले जोधपुर से डिटेन करके लेकर आई थी। लेकिन एसओजी ने 3 अप्रैल को सभी की गिऱफ्तारी दिखाई। जो सीआरपीसी के सेक्शन-57 औऱ संविधान के आर्टिकल-22 (2) का उल्लंघन है।

सीएमएम कोर्ट ने आरोपियों को दी थी जमानत

जयपुर मेट्रो-द्वितीय की सीएमएम कोर्ट ने आरोपियों को एसओजी की तरफ से गिरफ्तार करने के 24 घंटे बाद पेश करने को उल्लंघन माना था। कोर्ट ने माना था कि एसओजी ने आरोपियों को अवैध हिरासत में रखा है। इस पर कोर्ट ने गिरफ्तार ट्रेनी एसआई हरखू, मंजू, सुरेंद्र कुमार, जयराज सिंह, सुभाष, दिनेश, चेतन सिंह, मालाराम, राकेश, दिनेश, चेतन सिंह, मालाराम,राकेश, अजय, मनीष और कॉन्स्टेबल अभिषेक को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए थे।

ये है मामला

बता दें कि एसओजी की टीम 2 अप्रैल को सुबह करीब 9.30 राजस्थान पुलिस एकेडमी (RPA) पहुंची थी। यहां 3 घंटे तक आरोपियों से पूछताछ की थी। इसके बाद 15 ट्रेनी एसआई को डिटेन कर एसओजी मुख्यालय लाया गया था। इसमें 2 महिला और 13 पुरुष सब इंस्पेक्टर शामिल थे।

यह भी पढ़ें : जोधपुर में महंत की अश्लील चैट और वीडियो से आक्रोश

यहां पूछताछ के बाद 3 अप्रैल को 11 ट्रेनी एसआई को गिरफ्तार कर लिया गया था। इसके अलावा एसओजी ने जोधपुर कमिश्नरेट के सदर बाजार थाने में तैनात कॉन्स्टेबल अभिषेक बिश्नोई को भी गिरफ्तार किया था। अभिषेक बिश्नोई एसआई भर्ती परीक्षा 2021 में पास हुआ था, लेकिन उसने जॉइन नहीं किया था।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This