सेक्सटॉर्शन को साइबर ठगों ने बनाया अपना नया हथियार, डीपी पर सुंदर लड़कियों की फोटो से ठगी, लड़की बनकर सेक्स चैट फिर वीडियो बना करते हैं ब्लैकमेल

13 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 09 मई 2024 | जयपुर – दिल्ली – बजाज नगर (डिजिटल अरेस्ट) : राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के 2022 के हालिया आंकड़ों से पता चलता है कि देश भर में साइबर अपराधों में चिंताजनक वृद्धि हुई है, इसमें पिछले वर्ष की तुलना में 24.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

धोखाधड़ी के अधिकांश मामले 64.8 प्रतिशत हैं, जो भारत में साइबर आपराधिक गतिविधियों के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए मजबूत साइबर सुरक्षा उपायों और बढ़ती सार्वजनिक जागरूकता की तत्काल आवश्यकता पर बल देता है। जैसे-जैसे 2024 नजदीक आ रहा है, यह सवाल उठता जा रहा है कि क्या मेवात साइबर अपराध का केंद्र बना रहेगा या क्या ठोस प्रयासों से इस बढ़ते खतरे पर अंकुश लगाया जा सकता है।

तीन राज्यों हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में फैला नया जामताड़ा मेवात विभिन्न प्रकार के घोटालों से लेकर सेक्सटॉर्शन तक उत्तर भारत में साइबर अपराध का मुख्य केंद्र बिंदु बन गया है। यहां के साइबर ठगों ने आम लोगों को ही नहीं बल्कि विभिन्न पार्टियों के राजनेताओं को भी अपना शिकार बनाया है।

सेक्सटॉर्शन को साइबर ठगों ने बनाया अपना नया हथियार 

MOOKNAYAKMEDIA 55 300x195 सेक्सटॉर्शन को साइबर ठगों ने बनाया अपना नया हथियार, डीपी पर सुंदर लड़कियों की फोटो से ठगी, लड़की बनकर सेक्स चैट फिर वीडियो बना करते हैं ब्लैकमेलइन दिनों साइबर ठगों ने सेक्सटॉर्शन को अपना नया हथियार बना लिया है। पुन्हाना अपराध जांच शाखा पुलिस ने सेक्सटॉर्शन गिरोह से जुड़े पांच ऐसे शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है जो लड़कियों के नाम से फेसबुक, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम अकाउंट बनाकर लोगों के पास वीडियो कॉल के माध्यम से सेक्स वीडियो रिकॉर्ड करते और ब्लैकमेल कर रुपये ऐंठने का काम करते थे।

पकडे गए आरोपियों में एक राजस्थान, एक सोहना और तीन मेवात के रहने वाले है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने 8 मोबाइल फ़ोन और 10 फर्जी सिम कार्ड बरामद किये है। सभी आरोपियों के फ़ोन में अश्लील वीडियो, संदिग्ध चैटिंग, फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम और स्नेपचैट अकाउंट अंजली, अनिता, दीपिका, प्रिया, आरती, अंकिता, सोनिया, पूजा और बबिता जैसे कई की नामों से लॉगिन मिला।

पुन्हाना अपराध जांच शाखा प्रभारी संदीप मोर ने बताया कि पुन्हाना अपराध जांच शाखा पुलिस की एक टीम बस स्टैंड नूंह के समीप मौजूद थी। उसी समय पुलिस को सूचना मिली की मौहम्मद साद निवासी फिरोजपुर नमक, आमीन और दिलशाद निवासी औथा, हुसैन निवासी गगवाडी थाना कैथवाडा राजस्थान और जाहिद पुत्र हारुण निवासी सोहना मिलकर सेक्स्टॉर्शन कर लोगों के साथ ठगी करने का काम करते है।

जो किसी वरदात को अंजाम देने के लिए नूंह खेड़ला मोड़ पर खड़े हुए है। पुलिस ने सूचना के आधार पर मौक पर दबिश देकर आरोपियों को काबू कर लिया। आरोपियों की तलाशी लेने पर उनके कब्जे से अलग-अलग कंपनी के 8 मोबाइल फोन और 10 फर्जी सिम कार्ड बरामद हुए। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपियों के फ़ोन में लोगों की बनाई हुई अश्लील वीडियो, संदिघ्ध चैटिंग, लड़कियों के नाम से फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम और स्नेपचैट अकाउंट सहित सेक्सटॉर्शन से जुड़ी अन्य चीजें भी बरामद हुई है।

सेक्सटॉर्शन एक तरह का ब्लैकमेल है

  • सेक्सटॉर्शन असल में दो शब्दों से मिलकर बना है. ‘सेक्स’ और ‘एक्सटॉर्शन’. ये एक तरह का साइबर अपराध है, जिसका शिकार कोई भी बन सकता है.
  • सेक्सटॉर्शन एक तरह का ब्लैकमेल है, जिसमें साइबर अपराधी इंटरनेट के जरिए लोगों को कॉल कर अश्लील बातें करते हैं और उन्हें अपने झांसे में फंसा लेते हैं.
  • इसके बाद अपराधी लोगों की अश्लील तस्वीरें या वीडियो बना लेते हैं और फिर उन्हें उनके परिवार को भेजने या सार्वजनिक करने की धमकी देकर पैसे ऐंठते हैं.
  • शुरुआत में जब कोई व्यक्ति सेक्सटॉर्शन का शिकार होता है तो वो बदनामी के डर से अपराधियों को पैसे दे देता है. लेकिन कई बार अपराधियों की मांग बढ़ती जाती है और व्यक्ति लूटता जाता है.
  • लिहाजा, ऐसे फंस जाने पर घबराने की बजाय इसका सामना करना चाहिए. ऑनलाइन भी शिकायत कर सकते हैं. पुलिस थाने में जाकर भी इसकी शिकायत की जा सकती है.

डीपी पर सुंदर लड़कियों की फोटो से ठगी

38 1 1024x576 1 300x169 सेक्सटॉर्शन को साइबर ठगों ने बनाया अपना नया हथियार, डीपी पर सुंदर लड़कियों की फोटो से ठगी, लड़की बनकर सेक्स चैट फिर वीडियो बना करते हैं ब्लैकमेलआरोपी मोहम्मद साद के पास से तीन मोबाइल फोन बरामद हुए हैं, जिनमें 4 फर्जी सिम कार्ड लगे हुए थे। आरोपी साद का फेसबुक अकाउंट अंजलि शर्मा के नाम से तो इंस्टाग्राम अकाउंट अनिता शर्मा के नाम से लॉगिन था। फोन की गैलरी में लड़कियों की अश्लील वीडियो भी बरामद हुई है।

दूसरे आरोपी अमीन पुत्र सुलेमान के कब्जे से एक मोबाइल फोन व एक फर्जी सिम कार्ड बरामद हुआ। जिसका इंस्टाग्राम अकाउंट दीपिका शर्मा तथा फेसबुक के कई अकाउंट प्रियंका कुमारी, दीपिका शर्मा,आरती शर्मा,अंकित शर्मा, सोनिया कुमारी के नाम से लॉगिन मिले। इसके साथ ही जीमेल आईडी भी इन्हीं लड़कियों के नाम से फोन में लॉगिन थी।

तीसरे आरोपी दिलशाद पुत्र आमीन से दो मोबाइल फोन और एक फर्जी सिम कार्ड बरामद हुई। व्हाट्सएप अकाउंट पर लड़कियों की डीपी लगी हुई थी तथा अंजान लोगों के साथ संदिग्ध चैटिंग व विडियो कॉलिंग मिली। इसके साथ ही फ़ोन की गैलरी चैक करने पर दर्जनों अंजान लोगों की बनाई हुई अश्लील विडियों और फर्जी क्यू आर कोड भी बरामद हुए।

चौथे आरोपी हुसैन निवासी राजस्थान के कब्जे से एक मोबाइल फोन व दो फर्जी सिम कार्ड बरामद हुए। आरोपी का ट्रूकॉलर विक्रम सिंह राठौर दिल्ली सीबीआई के नाम से बना हुआ था। जिसका व्हाट्सएप अकाउंट दीपिका शर्मा के नाम से बना हुआ था और डीपी पर लड़की की तस्वीर लगी हुई थी। इसके साथ ही फेसबुक अकाउंट बबीता शर्मा और रोहिणी शर्मा के नाम से लॉगिन था।

लड़की बनकर सेक्स चैट फिर वीडियो बना करते ब्लैकमेल

%name सेक्सटॉर्शन को साइबर ठगों ने बनाया अपना नया हथियार, डीपी पर सुंदर लड़कियों की फोटो से ठगी, लड़की बनकर सेक्स चैट फिर वीडियो बना करते हैं ब्लैकमेलआरोपी फ्रॉड मोबाइल फोनों पर फर्जी सिमों का इस्तेमाल कर,फर्जी व्हाट्सएप,फेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट लडकी के नाम से बनाते है। व्हाट्सएप अकाउंट पर सुन्दर सी लडकी का फोटो लगाकर, व्हाट्सएप, स्नैपचैट और इंस्टाग्राम पर लडकी बनकर लोगों से संपर्क करते है। जिसके बाद उसे मीठी-मीठी बातों में फंसाकर व्हाट्सएप पर वीडियो कॉल करते हैं।

आरोपियों ने पहले से अपने फ़ोन में रखी लड़कियों की अश्लील नग्न विडियो में लडकी बातचीत करती हुई अपने कपडे उतारकर निवस्त्र होकर आनलाईन सैक्स करने के लिए चंगुल में फसे हुए व्यक्ति को अपनी तरफ आकर्षित करती हैं। इतना ही नहीं आरोपी इतने शातिर होते है कि खुद ही लड़की की आवाज में बात भी करते है।

जिसके बाद चलती हुई अश्लील विडियों के अनुसार आमजन को बातों में फंसाकर मोबाईल के स्क्रीन रिकार्डर एप का इस्तेमाल करके फोन में अश्लील विडियों बना लेते हैं। जिसके बाद बनाई हुई अश्लील विडियो को व्यक्ति के व्हाट्सएप पर डालकर लाखों रुपये की मांग करते है।

आरोपी कहते है कि तेरी यह अश्लील विडियों तेरे जानकर व परिजनों के व्हाट्सएप नंबर, यूट्यूब चैनल व फेसबुक पर डालकर उसे बदनाम करने के साथ ही सीबीआई का बड़ा अधिकारी बनकर रेप केस में फंसाने की धमकी देते है। जब कोई व्यक्ति इनके जाल में फंस जाता है तो एक सोची समझी चाल के तहत अपनी बनाई हुई योजना के अनुसार फर्जी बैंक खातों में रुपये डलवाते हैं। जब तक उस व्यक्ति को ब्लैकमेल किया जाता है तब तक उसका पूरा खाता खाली नहीं हो जाता।

अब तक साइबर ठग बैंक ओ.टी.पी., फर्जी प्रोफाइल बनाकर पैसे मांगने जैसे ढंग से ठगी कर रहे थे। लेकिन, अब साइबर ठग नए ढंग से ठगी करने लगे है। अगर आपके पास भी कोई सगा संबंधी बनकर फोन कर मदद के नाम पर पैसे मांगे तो सावधान रहे। साइबर ठग ए.आई. वॉयस क्लोनिंग के जरिए उनकी हु-ब-हु आवाज निकाल कर कहीं फंसे होने का हवाला देकर या फिर अगवा करने की बात कर ठगी कर रहे है। लुधियाना में ऐसी ठगी हो चुकी है। ए.आई. से हो रहे साइबर फ्रॉड को लेकर साइबर सैल ने एडवायजरी भी जारी की गई है। वह सोशल मीडिया के जरिए लोगों को जागरूक कर रहे है। ताकि लोग ऐसी ठगी से बच सके।

दरअसल, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (ए.आई.) वॉयल क्लोनिंग प्लेट स्टोर पर उपलब्ध है। जिसे आजकल साइबर ठग अपनी ठगी में इस्तेमाल करने लग गए है। ठग ए.आई. की वॉयस क्लोनिंग टूल की मदद से उसकी आवाज क्लोन करते हैं। फिर आपके रिश्तेदार, दोस्त और अन्य जानकारों की आवाज का कालोनी तैयार किया जाता है। फिर अलग-अलग ढंग से डरा-धमका कर पैसे ऐंठे जाते है। ठग कभी कहते है कि आप के रिश्तेदार का एक्सीडेंट हो गया है, या फिर उसे अगवा कर लिया गया है, या उसे पुलिस ने पकड़ लिया है, ऐसे कई तरह की एमरजेंसी स्थिति बताकर उनसे बैंक अकाऊंट में पैसे मंगवाए जाते है।

वॉयस सैंपल एप के जरिए करते है वॉयस क्लोनिंग 

वॉयस क्लोनिंग के कई एप्प प्ले स्टोर पर मौजूद है। इनमें से कई साइबर ठग इस्तेमाल कर रहे है। इसे इस्तेमाल करने के लिए साइबर ठग फेसबुक, इंस्टाग्राम या यूट्यूब एवं अन्य ढंग से लोगों कॉल कर उनकी वॉयस का सैंपल ले लेते है। इसके बाद ए.आई. एप्प में उसकी सैंपल वॉयस डाल कर क्लोन तैयार किया जाता है।

यह भी पढ़ें : ईडब्ल्यूएस आरक्षण पर मध्य प्रदेश हाई कोर्ट का बड़ा फैसला

एप सिर्फ पांच सैकेंड में क्लोन तैयार कर लेता है। फिर इसके बाद वायस क्लोन के जरिए उनके परिचित, रिश्तेदारों को फोन किया जाता है। आवाज की क्लोनिंग ऐसी होती है कि पति-पत्नी, पिता पुत्र तक आवाज नहीं पहचान पा रहे हैं। वह साइबर ठगों की बातों में उलझ कर ठगों को पैसे दे बैठते है।

लुधियाना में सामने आ चुके है क्लोनिंग एप से हुई ठगी के मामले 

हाल के दिनों में इस तरह की घटनाएं लगातार बढ़ी हैं। दोस्त रिश्तेदार बनकर मदद व एमरजेंसी के नाम पर लाखों की ठग हो रही है। कुछ महीने पहले बस्ती जोधेवाल की महिला को कॉल आया था, सामने से कॉल करने वाले ने खुद को पुलिस वाला बताया और कहा कि उसका पति अवैध हथियार के साथ पकड़ा गया है।

क्लोनिंग एप के जरिए उसकी पति से बात भी करवाई गई थी, जोकि महिला पहचान नहीं पाई थी। फिर कहा गया कि जल्दी 50 हजार रुपए दे दों, तब उसके पति को छोड़ेगें। मगर महिला ने समझदारी दिखाई उसने पहले पति को कॉल किया। जोकि अपनी फैक्टरी में काम कर रहा था। इसलिए वह ठगी से बच गई।

ऐसे ही एक दूसरे मामले में कुछ दिनों पहले जस्सियां रोड़ के हार्डवेयर कारोबारी को कॉल आया था कि उसके बेटे को किडनैप कर लिया गया है। जल्दी 70 हजार रुपए उनके अकाऊंट में डाल दें, वर्ना उसके बेटे को मार देगें। ठगों ने बेटे से भी बताई करवाई थी, जोकि बात करने पर आवाज बिल्कुल बेटे जैसी थी। इसलिए उसका पिता पैसे जमा करवाने के लिए चला गया था। मगर एक दोस्त की समझदारी से वह ठगी से बच गया था। उसने दोस्त उसके बेटे को कॉल किया तो वह दुकान पर ही बैठा हुआ था। ऐसे कर दोनों ठगी से बच गए थे।

ज्यादातर विदेशों में बैठे रिश्तेदारों के नाम पर की जा रही ठगी 

पुलिस का कहना है कि ज्यादातर ठग विदेश में बैठे रिश्तेदारों के नाम पर ठगी के मामले सामने आए है। जिसमें भारत में बैठे परिवार को कॉल आती है कि उसके बेटा, बेटी, रिश्तेदार या दोस्त उनके कब्जे में है, या फिर पुलिस कस्टडी में है, या फिर उनका एक्सीडेंट हो गया है।

ऐसे कई तरह के बहाने बनाकर भारत बैठे रिश्तेदारों को कॉल की जाती है, फिर उन्हें डराया जाता है और बैंक अकाऊंट या फिर डिजीटल ढंग से पैसे मंगवाए जाते है। सभी मामलों में वॉयस क्लोनिंग का इस्तेमाल किया जाता है। जिस कारण परिवार वाले आवाज सुनकर झांसे में आ जाते है।

मोबाइल पर आवाज सुनकर न दें किसी को पैसे 

साइबर सैल के इंचार्ज इंस्पेक्टर जतिंदर सिंह का कहना है कि ऐसी ठगी से बचने के लिए लोगों को जागरूक होना बहुत जरूरी है। सिर्फ मोबाइल पर अपने किसी नजदीकी, रिश्तेदार या दोस्ती की आवाज सुनकर किसी को भी पैसे न दें। पहले उनके मोबाइल नंबर पर कॉल कर एक बार खुद कंफर्म कर लें। अगर किसी को ऐसी कॉल आती है या वह ठगी का शिकार हो जाते है तो तुरंत नजदीकी साइबर सैल या फिर हेल्पलाइन 1930 पर शिकायत करें।

आईपीसी के तहत केस दर्ज करा सकते हैं?sextortion 1 sixteen nine 300x169 सेक्सटॉर्शन को साइबर ठगों ने बनाया अपना नया हथियार, डीपी पर सुंदर लड़कियों की फोटो से ठगी, लड़की बनकर सेक्स चैट फिर वीडियो बना करते हैं ब्लैकमेल

  • आईपीसी की धारा 383, 384 और 385 के तहत केस दर्ज करवा सकते हैं। धारा 383 में ‘एक्सटॉर्शन’ की परिभाषा बताती है। इसके मुताबिक, किसी भी व्यक्ति को डरा-धमकाकर उससे जबरन वसूली करना या ऐसी कोशिश करना एक्सटॉर्शन कहलाएगा।
  • धारा 384 और 385 में इसके लिए सजा है। धारा 384 के तहत, अगर कोई व्यक्ति किसी से एक्सटॉर्शन करता है तो उसे तीन साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों सजा हो सकती है। इसी तरह धारा 385 के तहत, अगर कोई किसी व्यक्ति को एक्सटॉर्शन न देने पर उसे नुकसान पहुंचाने की धमकी देता है तो दो साल तक की कैद या जुर्माना या दोनों की सजा हो सकती है।
  • इसके अलावा ब्लैकमेलर के खिलाफ मानहानि (धारा 499, 500) और आपराधिक धमकी (धारा 503, 506, 507) के तहत भी भी मामला दर्ज करवाया जा सकता है। इसके तहत दो साल तक की जेल या जुर्माना या दोनों की सजा हो सकती है।

आईटी एक्ट के तहत

  • अगर कोई आपको आपकी निजी तस्वीरें वायरल करने या पब्लिक करने की धमकी देता है तो इन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट, 2000 की धारा 66E, 67 और 67A के तहत केस दर्ज करवा सकते हैं।
  • धारा 66E कहती है कि अगर कोई व्यक्ति किसी की निजी तस्वीरें बिना उसकी इजाजत के सार्वजनिक करता है तो दोषी पाए जाने पर तीन साल तक की जेल या दो लाख रुपये का जुर्माना या दोनों की सजा हो सकती है।
  • वहीं, धारा 67 के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में कोई अश्लील सामग्री पब्लिश करता है तो पहली बार ऐसा करने पर तीन साल की जेल और 5 लाख रुपये का जुर्माने की सजा होगी। दूसरी बार दोषी पाए जाने पर 5 साल तक की जेल और 10 लाख तक का जुर्माना और दूसरी बार दोषी पाए जाने पर 7 साल की जेल और 10 लाख रुपये के जुर्माने की सजा हो सकती है।

ऑनलाइन भी कर सकते हैं शिकायत

  • साइबर क्राइम की शिकायतों को दर्ज करने के मकसद से गृह मंत्रालय ने एक वेबसाइट लॉन्च की थी. ये वेबसाइट cybercrime.gov.in है।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपको ‘File a complaint’ वाले टैब पर क्लिक करना होगा। इसके बाद नया पेज ओपन होगा। इसमें टर्म्स एंड कंडीशन होंगी, जिसे एक्सेप्ट कर आगे बढ़ जाएं।
  • अगर आपकी शिकायत महिला या बच्चों से जुड़े अपराध की है तो ‘Report Cyber Crime Related to Women/Child’ वाले टैब पर क्लिक करें। अगर दूसरे अपराध से जुड़ी है तो ‘REPORT CYBER CRIME’ वाले टैब पर क्लिक करें।
  • इसके बाद Login करने का ऑप्शन आएगा। अगर पहली बार शिकायत कर रहे हैं तो New User पर क्लिक कर अकाउंट बनाएं और फिर शिकायत करें। शिकायत करने के लिए आपको सबूत भी देने होंगे।

ध्यान रखेंः अपराधियों के झांसे में आने से बचें। किसी भी अनजान व्यक्ति की फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने से पहले सोचें। अपनी निजी जानकारी को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सीमित रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें : जोधपुर में महंत की अश्लील चैट और वीडियो से आक्रोश

साइबर क्राइम से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान-

  • फोन पर किसी को भी व्यक्ति को अपनी पर्सनल और बैंकिंग जानकारी न दें.
  • अंजान नंबर से कॉल पर किसी घटना या किडनैपिंग की सूचना पर तत्काल पैसा न भेजें.
  • संबंधित व्यक्ति के नंबर पर कॉल करके पहले वेरीफाई करें.
  • सोशल मीडिया के जरिए पैसे मांगने वाले को पैसे देने से बचें.
  • डीप फेक वीडियो के जरिए ब्लैकमेल पर साइबर क्राइम में शिकायत दें.
  • किसी भी जाने पहचाने वॉइस पर आंख बंद करके भरोसा न करें.
  • सोशल मीडिया के जरिए मिलने वाले किसी भी लिंक पर क्लिक न करें.
  • कैश बैक और ऑफर जैसे लिंक पर क्लिक करने से बचें.
  • सावधानी पूर्वक सोशल मीडिया का इस्तेमाल करें.
  • साइबर ठगी होने पर तत्काल भारत सरकार के हेल्पलाइन नंबर 1930 पर रिपोर्ट करें.
Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This