अशोक गहलोत के करीबी RUHS के वीसी डॉ. सुधीर भंडारी का इस्तीफा, ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में तीन डॉक्टरों के इस्तीफे मंजूर, भले ही इस्तीफे दे दिये लेकिन जांच जारी रहेगी

3 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 09 मई 2024 | जयपुर – दिल्ली – आरयूएचएस (ऑर्गन ट्रांसप्लांट) : ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में आज राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ साइंस (आरयूएचएस) के वीसी डॉ सुधीर भंडारी ने अपना इस्तीफा दे दिया। राजभवन पहुंचकर उन्होंने राज्यपाल कलराज मिश्र को अपना इस्तीफा सौंप दिया। इससे पहले सरकार डॉ भंडारी को स्टेट ऑर्गन एंड टिशू ट्रांसप्लांट ऑर्गेनाइजेशन (सोटो) के चैयरमेन के पद से हटा चुकी हैं।

अशोक गहलोत के करीबी RUHS के वीसी डॉ. सुधीर भंडारी का इस्तीफा

MOOKNAYAKMEDIA 57 300x195 अशोक गहलोत के करीबी RUHS के वीसी डॉ. सुधीर भंडारी का इस्तीफा, ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में तीन डॉक्टरों के इस्तीफे मंजूर, भले ही इस्तीफे दे दिये लेकिन जांच जारी रहेगीडॉ भंडारी के इस्तीफे की जानकारी देते हुए चिकित्सा मंत्री गजेन्द्र सिंह खींवसर ने कहा कि पिछली सरकार में डॉ भंडारी का सारा कंट्रोल सेंट्रलाइज्ड था। भंडारी अशोक गहलोत के करीबी माने जाते हैं और डॉक्टर भंडारी को एक के बाद एक प्रमोशन दिए गए। पिछले कार्यकाल में उनका मेडिकल डिपार्टमेंट में खौफ था, ऐसा सुनने में आता है।

खींवसर ने कहा कि हम सीएम भजनलाल शर्मा से कहेंगे कि जिस तरह से उन्होंने पेपरलीक प्रकरण में एसआईटी गठित की थी। उसी तरह से ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में भी एसआईटी गठित करके पूरे मामलें की जांच करवाई जाए।

भले ही इस्तीफा दे दिया, लेकिन जांच जारी रहेगी

चिकित्सा मंत्री गजेन्द्र सिंह खींवसर ने कहा कि भले ही डॉ सुधीर भंडारी ने अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया हो। लेकिन पूरे प्रकऱण में उनकी भूमिका की जांच जारी रहेगी। चिकित्सा मंत्री ने आज राजभवन पहुंचकर पूरे प्रकरण की अब तक की जांच रिपोर्ट राज्यपाल कलराज मिश्र को सौंपी।

इससे पहले चिकित्सा मंत्री ने कहा था कि हम राज्यपाल को जांच रिपोर्ट सौंपकर डॉ सुधीर भंडारी को बर्खास्त करने की मांग करेंगे। लेकिन आज चिकित्सा मंत्री के पहुंचने से पहले ही डॉ सुधीर भंडारी ने राजभवन पहुंचकर अपना इस्तीफा राज्यपाल कलराज मिश्र को सौंप दिया।

साल 2020 से चल रहा था पूरा प्रकरण

चिकित्सा मंत्री गजेन्द्र सिंह खींवसर ने कहा कि यह पूरा प्रकरण साल 2020 से चल रहा था। पिछली सरकार में ऑर्गन ट्रांसप्लांट को लेकर केवल एक मीटिंग होना बताया जाता था। लेकिन मीटिंग के मीनट्स, दस्तावेज हमें कुछ नहीं मिले।मीटिंग में कितने लोगों को एनओसी दी गई। इसके बारे में भी किसी को कोई जानकारी नहीं होती थी। साल 2020 के बाद से ही लगातार यह सिस्टम बना हुआ था। इसमें जिस-जिस को फायदा लेना था, उन्होने इसका फायदा लिया।

ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में तीन डॉक्टरों के इस्तीफे मंजूर

MOOKNAYAKMEDIA 37 300x195 अशोक गहलोत के करीबी RUHS के वीसी डॉ. सुधीर भंडारी का इस्तीफा, ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में तीन डॉक्टरों के इस्तीफे मंजूर, भले ही इस्तीफे दे दिये लेकिन जांच जारी रहेगीराजस्थान में फर्जी तरीके से ऑर्गन ट्रांसप्लांट के लिए एनओसी जारी करने के मामले में सोमवार को तीन डॉक्टरों के इस्तीफे मंजूर हो गए। इस प्रकरण में चल रही जांच में इन तीनों की भूमिका संदिग्ध आ रही थी।

इसके आधार पर सरकार ने सवाई मानसिंह (SMS) मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. राजीव बगरहट्टा, एसएमएस हॉस्पिटल के अधीक्षक डॉ. अचल शर्मा और स्टेट ऑर्गन एंड टिश्यू ट्रांसप्लांट ऑर्गेनाइजेशन (सोटो) के चेयरमैन डॉ. सुधीर भंडारी से इस्तीफे मांगे थे। सरकार को डॉक्टरों ने इस्तीफा भेज दिया जिसे मंजूर कर लिया गया।

अप्रैल में एसीबी ने रिश्वत लेकर ऑर्गन ट्रांसप्लांट की एनओसी देने के मामले में एसएमएस हॉस्पिटल के सहायक प्रशासनिक अधिकारी के अलावा प्राइवेट हॉस्पिटल फोर्टिस और ईएचसीसी के एक-एक अधिकारी को पकड़ा था।

इसके बाद एसएमएस अस्पताल प्रशासन ने सहायक प्रशासनिक अधिकारी गौरव सिंह को सस्पेंड कर दिया था। वहीं मेडिकल हेल्थ डिपार्टमेंट ने इस मामले में ईएचसीसी, फोर्टिस एस्कोर्ट और मणिपाल हॉस्पिटल के ऑर्गन ट्रांसप्लांट करने के लाइसेंस को रद्द कर दिया।

राज्यपाल को भेजी जा सकती है रिपोर्ट

अब राज्य सरकार इस प्रकरण की जांच रिपोर्ट राज्यपाल कलराज मिश्र को भेज सकती है, ताकि रिपोर्ट के आधार पर आरयूएचएस के वाइस चांसलर डॉ. सुधीर भंडारी को पद से हटाया जा सके।  उन की नियुक्ति तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के शासनकाल में हुई थी। भंडारी एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल भी रह चुके हैं।

यह भी पढ़ें : जोधपुर में महंत की अश्लील चैट और वीडियो से आक्रोश

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This