दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर सवाई माधोपुर-बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 12 मई 2024 | दिल्ली – जयपुर – सवाई माधोपुर (बौंली भीषण दुर्घटना) : दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर सवाई माधोपुर के बौंली में इको कार और ट्रक के बीच हुई टक्कर में छह लोगों की जान चली गई थी। अगर इन्हें समय से हॉस्पिटल पहुंचा दिया गया होता तो शायद कुछ लोगों की जान बचाई जा सकती थी।

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर सवाई माधोपुर-बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत

MOOKNAYAKMEDIA 11 Copy 300x195 दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रारमौके पर पहुंचे एंबुलेंसकर्मी तक मूकनायक मीडिया पहुंचा और हादसे वाले दिन के हालात जाने। एंबुलेंसकर्मी ने जो भी बताया उससे मानवता पर सवाल खड़े हो रहे हैं। हादसे के बाद के खौफनाक मंजर को याद करके एंबुलेंसकर्मी भी सिहर उठता है।

कार का सिर्फ पीछे का हिस्सा बचा था

एम्बुलेंस के ड्राइवर मोहम्मद आजम ने बताया- सुबह करीब 9 बजे सूचना मिली थी। मैं हादसे वाली जगह से 2 किमी दूर था। तुरंत एम्बुलेंस लेकर रवाना हुआ और घटनास्थल पर पहुंचा। देखा कार पूरी तरह खत्म हो चुकी थी। लगभग 80 प्रतिशत हिस्सा डैमेज हो चुका था।

दोनों बच्चे पीछे बैठे थे। इनके पैरों में गंभीर चोटें आई थीं। हादसे की शिकार एक महिला की सांसें चल रही थीं। हमने तुरंत उन्हें बाहर निकाला और एम्बुलेंस में डाला ही था कि उन्होंने स्ट्रेचर पर ही दम तोड़ दिया। बाकी के 5 लोग पहले ही दम तोड़ चुके थे। कार की स्थिति देख सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि हादसा कितना भयानक था।

मम्मी-पापा को पुकार रही थी दीपाली

आजम ने बताया- रोते-बिलखते और दर्द से कराहते बच्चों को हमने एम्बुलेंस में डाला और जिला अस्पताल ले गए। अस्पताल में दीपाली (9) बार-बार मम्मी-पापा को पुकारती रही। वहां अस्पताल में जिसने भी हादसे के बारे में सुना उसकी आंखें नम हो गईं।

मंजर ये था कि हॉस्पिटल में उन मासूम बच्चों को संभालने वाला कोई नहीं था। इसके बाद गंभीर हालत होने के कारण दीपाली और उसके भाई मनन (6) को जयपुर रेफर कर दिया, जहां उनका इलाज जारी है। आजम के अनुसार, अगर तुरंत मौके पर मौजूद लोगों ने सूचना दे दी होती तो और भी जानें बचाई जा सकती थीं।

बजरी भरने के लिए खड़े रखते हैं ट्रक

नाम न बताने की शर्त पर ग्रामीण ने बताया- यहां से 5 किमी दूर बनास का एरिया है। बजरी माफिया यहां बनास से बजरी भरकर लाते हैं और यहां भण्डारण करते हैं। इसके बाद सुविधानुसार, सुबह-शाम यहां इन ट्रकों, डंपरों और पिकअप की आवाजाही लगी रहती है। जो सड़क पर ही वाहनों को खड़ा कर बजरी भरकर राज्य के अलग-अलग हिस्सों में ले जाते हैं।

एक अन्य ग्रामीण ने बताया- यहां पूरे चौबीस घंटे बजरी माफियाओं की गाड़ियां घूमती हैं। हाईवे अभी बना है। ऐसे में यहां प्राइवेट वाहन कम ही निकलते हैं। दिन-रात इन्हीं बजरी माफियाओं की गिरफ्त में यह सड़क रहती है। हादसे वाले दिन की बात बताते हुए ग्रामीण कहते हैं- जिस जगह ट्रक और कार की टक्कर हुई। वहां 8-10 दिन पहले से ही बजरी भण्डारण चल रहा था। ऐसे में वहां इनकी कार आई और हादसा हो गया।

gif 16 1715254305 दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

हादसा 5 मई को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर बौंली (सवाई माधोपुर) थाना क्षेत्र में बनास पुलिया के पास हुआ था।

gif 11 4 1715251921 दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार
बजरी माफिया ने सड़क पर ट्रक को खड़ा कर रखा था। ये ट्रक यहां बजरी भर रहा था। जैसे ही हादसा हुआ 3 लोग मौके से भाग गए।
gif 10 5 1715251949 दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

CCTV फुटेज में नजर आ रहा है कि हादसे के दौरान यहां से कई वाहन गुजरे किसी ने रोक कर मदद नहीं की।

%name दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

फोटो हादसे वाली जगह की है। यहां एक ट्रैक्टर में बजरी भरी जा रही थी, जबकि एक ट्रक अपनी बारी के इन्तजार में एक्सप्रेसवे पर खड़ा था।

हादसा होते ही भागे थे बजरी माफिया

ग्रामीणों के अनुसार, वीडियो में भाग रहे 3 लोग भी यहां बजरी भरने ही आए थे। ट्रक को एक्सप्रेस वे कर खड़ा कर बजरी भर रहे थे। जैसे ही हादसा हुआ, लोगों को बचाने की बजाय वे हाईवे के साइड में लगी रेलिंग कूदकर भाग गए। उन्हें अंदाजा था कि अब पुलिस आएगी और इसके बाद उनके कारनामे की पोल खुल जाएगी।

वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि हादसा होते ही ये 3 शख्स वहां से भाग निकले। जिस ट्रक से एक्सीडेंट हुआ, उसका ड्राइवर भी फरार हो गया। वहीं एक और ट्रक वहां से गुजरा लेकिन वह रुका नहीं। अगर किसी ने एम्बुलेंस या पुलिस को कॉल किया होता तो शायद उनकी जान बच जाती।

screenshot 2024 05 09 122245 1715237583 दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

बौंली थाना SHO अवतार सिंह ने कहा- आरोपी की तलाश के लिए टीमें गठित कर दी गई है। चिह्नित इलाकों में दबिश दी जा रही है। वहीं अवैध बजरी परिवहन की रोकथाम के लिए लगातार एमएमडीआर एक्ट के तहत बजरी के वाहनों को जब्त कर गिरफ्तारियां की जा रही है। सख्ती के साथ बजरी परिवहन को रोका जा रहा है।

पीएम मोदी ने किया था उद्घाटन

ग्रामीणों के अनुसार, 16 फरवरी को एक्सप्रेस वे का वर्चुअल उद्घाटन पीएम नरेंद्र मोदी ने किया था। मैनुअल उद्घाटन के लिए सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया मौजूद रहे थे। लगभग तीन माह बाद भी बौंली इंटरचेंज पर टोल सिस्टम चालू नहीं हुआ है। ऐसे में अवैध, बगैर नंबर के एवं ओवरलोड वाहन एक्सप्रेस वे पर बेरोकटोक जाते हैं।

हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार 

बता दें कि हादसे को लेकर मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने शोक व्यक्त किया था। वहीं पुलिस को घटना में तुरंत कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। हादसे में मुकुंदगढ़ (झुंझुनूं) हाल सीकर निवासी मनीष शर्मा (40) उनकी पत्नी अनीता शर्मा (36), सतीश शर्मा (31), पूनम (28), बुआ संतोष (50), मनीष के दोस्त कैलाश की मौके पर ही मौत हो गई थी। मनीष शर्मा के बच्चे मनन (9) और दीपाली (5) भी गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

हादसे के बाद जो सीसीटीवी फुटेज सामने आया है, उसे देखकर तो यही लगता है। घटनास्थल पर हादसे के बाद करीब 45 मिनट तक परिवार तड़पता रहा, पर कोई मदद करने नहीं आया। आसपास से गाड़ियां गुजरती रहीं। उधर, हादसे के पांचवें दिन भी आरोपी ट्रक ड्राइवर पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

बौंली DSP अंगद शर्मा ने कहा- हादसे के बाद मिली सूचना के आधार पर ट्रक को 5 घंटे बाद ही जब्त कर लिया था। टीमें गठित कर ड्राइवर की तलाश की जा रही है। अचानक मुड़ा था ट्रक। ट्रक के पीछे इको कार चल रही थी। अचानक से ट्रक ड्राइवर बिना कोई सिग्नल दिए लेफ्ट मोड़ देता है।

कुछ ही सेकेंड में इको कार ट्रक से टकरा गई। ड्राइवर ट्रक को रोकने की बजाय यू टर्न लेकर वहां से फरार हो जाता है। वीडियो में घटना स्थल से करीब 40 मीटर दूर एक और ट्रक खड़ा दिख रहा है, ट्रक के पास 3 लोग खड़े थे। हादसा होते ही तीनो लोग एक्सप्रेस वे की रेलिंग कूदकर भाग गए।

ezgifcom resize 2024 05 07t190044143 1715088649 दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

एक्सप्रेस वे पर बनास नदी से तीन-चार किलोमीटर की दूरी पर जारी अवैध बजरी खनन होता है। माफिया पूरा कारोबार एक्सप्रेस-वे किनारे ही चला रहे हैं। सड़क किनारे बड़े पैमाने पर बजरी पड़ी रहती है। 8 मई को भी कच्चे नारियलों से भरी हुई गाड़ी पलट गई। गनीमत यह रही की कोई हताहत नहीं हुआ। NHAI प्रोजेक्ट डायरेक्टर डीके चौधरी ने बताया- आचार संहिता लागू होने के कारण टोल चालू नहीं हो सका था। आचार संहिता खत्म होते ही टोल चालू करवा दिया जाएगा।

%name दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

एक्सप्रेस वे के दोनों ओर अवैध खनन

पूर्व हथडोली सरपंच भैरूलाल मीणा ने बताया- फिलहाल एक्सप्रेस वे पर निजी वाहन कम ही चलते हैं। ऐसे में यहां ट्रैफिक कम रहता है। आसपास के इलाके में बजरी माफिया अवैध खनन करते हैं। कई बार टूटी हुई रेलिंग से ये बजरी माफिया ट्रक लेकर एक्सप्रेस वे पर आ जाते हैं। बेतरतीब तरीके से ट्रक चलाते हैं और ये ही हादसे का कारण बनते हैं। इस तरफ पुलिस की गश्त भी कम ही रहती है।

यह भी पढ़ें : मंडल बनाम कमंडल 2.0 एनडीए इंडिया फिर से आमने-सामने

एक्सप्रेसवे को बने 3 महीने हुए हैं। यहां अभी टोल प्लाजा नहीं बना है। ऐसे में बजरी माफिया बेधड़क यहां हाईवे पर ट्रक दौड़ाते हैं। हथडोली गांव के पूर्व सरपंच भैरूलाल मीणा बजरी माफिया के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं। उन्होंने इस मामले पर कहा- बजरी के वाहनों ने पूरे इलाके में आतंक मचा रखा है। दिन रात बजरी के वाहन बेलगाम होकर रोड पर तांडव करते हैं। हाईवे पर ये तेज स्पीड में गुजरते हैं। यातायात नियमों का पालन नहीं करते, ऐसे में इन वाहनों के कारण इलाके में आए दिन हादसे होते हैं।

मूकनायक मीडिया को आर्थिक सहयोग दीजिए

MOOKNAYAKMEDIA DONATION 300x169 दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे पर सवाई माधोपुर बौंली में भीषण दुर्घटना में 6 की मौत, हादसे के 45 मिनट तक तड़पता रहा परिवार, 7 दिन बाद भी हाथ खाली पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर फ़रार

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This