किडनी ट्रांसप्लांट केस में गिरफ्तार फोर्टिस के दोनों डॉक्टरों की15 मई तक रिमांड, नर्सिंग स्टाफ और दलालों से संपर्क में रहने वालों की जांच में जुटी पुलिस

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 12 मई 2024 | दिल्ली – जयपुर – मुंबई (ऑर्गन ट्रांसप्लांट) : ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में गिरफ्तार फोर्टिस हॉस्पिटल के दो डॉक्टर को पुलिस ने रविवार को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने डॉक्टर जितेन्द्र गोस्वामी और डॉक्टर संदीप गुप्ता को 15 मई तक पुलिस रिमांड पर भेजा है। जवाहर सर्किल थाना पुलिस ने शनिवार देर रात तक दोनों डॉक्टर के मकान और फोर्टिस अस्पताल में उनके चेंबर की जांच की थी। हालांकि पुलिस को इस दौरान कुछ नहीं मिला है। पुलिस का दावा है कि उनके पास दोनों डॉक्टर के खिलाफ पर्याप्त सबूत है।

किडनी ट्रांसप्लांट केस में गिरफ्तार फोर्टिस के दोनों डॉक्टरों की15 मई तक रिमांड

MOOKNAYAKMEDIA 13 Copy 1 300x195 किडनी ट्रांसप्लांट केस में गिरफ्तार फोर्टिस के दोनों डॉक्टरों की15 मई तक रिमांड, नर्सिंग स्टाफ और दलालों से संपर्क में रहने वालों की जांच में जुटी पुलिसपुलिस ने मामले में 10 मई को फोर्टिस हॉस्पिटल के नर्सिंग स्टाफ भानू लववंशी उर्फ भानू प्रताप को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में आरोपी भानू ने बताया कि कौन-कौन डॉक्टर इस पूरे खेल में लगे हुए हैं। इस पर उनकी भूमिका में जांच की गई तो इस बात की पुष्टि हुई कि इन डॉक्टरों ने कई ऑपरेशन किए थे।

हालांकि यह ट्रांसप्लांट वैध है या अवैध इसकी जांच करने का काम उनका नहीं है। हॉस्पिटल प्रशासन इसके लिए पूरी तरह से जिम्मेदार है। जवाहर सर्किल थाना पुलिस ने शनिवार देर रात तक फोर्टिस अस्पताल में दोनों डॉक्टर के चेंबर की जांच की थी।

पुलिस टीम ने शनिवार सुबह 2 डॉक्टरों को एसीपी गांधी नगर के ऑफिस में बुलाकर पूछताछ की थी। इस पर दोनों डॉक्टरों ने पुलिस के सवालों का कोई जवाब नहीं दिया था। इस पर दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस के अनुसार दोनों डॉक्टर सर्जरी के बाद किराए के मकानों में रहने वाले मरीजों को देखने जाते थे।

सितंबर 2023 में जितेंद्र गोस्वामी ने जॉइन किया था फोर्टिस अस्पताल

डॉक्टर जितेंद्र गोस्वामी फोर्टिस से पहले मणिपाल हॉस्पिटल में काम करता था। मणिपाल का लाइसेंस रिन्यू नहीं होने पर सितंबर 2023 में जितेंद्र गोस्वामी ने फोर्टिस जॉइन कर लिया था। डॉक्टर जितेन्द्र और संदीप गुप्ता ही फोर्टिस में ऑर्गन ट्रांसप्लांट किया करते थे। जानकारी में यह भी आया है कि इन लोगों को कई अन्य डॉक्टरों की जानकारी भी है, जो ट्रांसप्लांट कर चुके हैं।

दलालों की मदद कर रहा था नर्सिंग स्टाफ

बता दें कि ऑर्गन ट्रांसप्लांट मामले में एसएमएस के सहायक प्रशासनिक अधिकारी (एएओ) गौरव सिंह, फोर्टिस अस्पताल के ऑर्गन को-ऑर्डिनेटर विनोद सिंह, अंग प्रत्यारोपण के मामले में एमओयू की गई कंपनी मैड सफर के डायरेक्टर सुमन जाना और दलाल सुखमय नंदी से भी पूछताछ से की गई थी। पूछताछ में सामने आया था कि आरोपी रोजाना दलालों के संपर्क में रहकर उन्हें अवैध ट्रांसप्लांट के लिए मदद करता था। हॉस्पिटल में सर्जरी के बाद दलाल मरीजों को किराए के मकानों में रखते थे। जहां पर मरीजों की देखरेख के लिए भानू ही जाता था।

नर्सिंग स्टाफ और दलालों से संपर्क में रहने वालों की जांच में जुटी पुलिस

गिरफ्तार डॉक्टर कई बार किराए के मकान में मरीजों को देखने के लिए जाते थे। अब पुलिस भानू और दलालों के सीधे संपर्क में रहने वाले डॉक्टर्स की भूमिका तय करने में जुटी हुई है। इसके अलावा इस मामले में फरार चल रहे मैड सफर के अन्य डायरेक्टर राज कमल व दलाल मोहम्मद मुर्तजा अंसारी को पकड़ने के लिए पश्चिम बंगाल के अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी कर रही है।

rj 11715448206 1715521309 किडनी ट्रांसप्लांट केस में गिरफ्तार फोर्टिस के दोनों डॉक्टरों की15 मई तक रिमांड, नर्सिंग स्टाफ और दलालों से संपर्क में रहने वालों की जांच में जुटी पुलिस

एसीबी ने ऑर्गन ट्रांसप्लांट के लिए फर्जी एनओसी मामले में सवाई मानसिंह अस्पताल के एएओ गौरव सिंह, ईएचसीसी अस्पताल के ऑर्गन को-ऑर्डिनेटर अनिल जोशी और फोर्टिस अस्पताल के ऑर्गन को-ऑर्डिनेटर को विनोद सिंह को गिरफ्तार किया था।

क्या है मामला

दरअसल, एसीबी ने एसएमएस हॉस्पिटल में 31 मार्च सहायक प्रशासनिक अधिकारी गौरव सिंह और ईएचसीसी हॉस्पिटल के ऑर्गन ट्रांसप्लांट को-ऑर्डिनेटर अनिल जोशी को लेनदेन करते रंगे हाथों पकड़ा था। टीम ने मौके से 70 हजार रुपए और 3 फर्जी एनओसी भी जब्त किए थे।

%name किडनी ट्रांसप्लांट केस में गिरफ्तार फोर्टिस के दोनों डॉक्टरों की15 मई तक रिमांड, नर्सिंग स्टाफ और दलालों से संपर्क में रहने वालों की जांच में जुटी पुलिस

कार्रवाई के बाद एसीबी ने आरोपियों के घर और अन्य ठिकानों पर भी सर्च किया था। इनकी गिरफ्तारी से खुलासा हुआ था कि फोर्टिस हॉस्पिटल का को-ऑडिनेटर विनोद सिंह भी कुछ समय पहले पैसा देकर फर्जी सर्टिफिकेट लेकर गया था। एसीबी ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया था। बाद में जयपुर पुलिस ने इस केस में जांच शुरू कर दी थी।

यह भी पढ़ें : जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट को बम से उड़ाने की धमकी

पुलिस इस मामले में फरार चल रहे मैड सफर के अन्य डायरेक्टर राज कमल व दलाल मोहम्मद मुर्तजा अंसारी को पकड़ने के लिए जयपुर पुलिस पश्चिम बंगाल के अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी कर रही है।

मूकनायक मीडिया को आर्थिक सहयोग दीजिए

%name किडनी ट्रांसप्लांट केस में गिरफ्तार फोर्टिस के दोनों डॉक्टरों की15 मई तक रिमांड, नर्सिंग स्टाफ और दलालों से संपर्क में रहने वालों की जांच में जुटी पुलिस

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This