ओडवाडा गांव में मकानों पर बुलडोजर अमानवीय लाठीचार्ज, 440 कच्चे-पक्के मकान अतिक्रमण हटाने कि कार्रवाई जारी, ‘भाजपा के नए राजस्थान में आपका स्वागत है’ डोटासरा

6 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 16 मई 2024 | दिल्ली – जयपुर – जालोर (अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई) : ओडवाडा गांव में दो भाइयों के पारिवारिक झगड़े के मामले में हाइकोर्ट ने बड़ी संख्या में हुए निर्माण को तोड़ने के आदेश पिछले साल दिए थे। बताया जा रहा है कि जिस भूमि पर निर्माण हुए हैं, वह भूमि ओरण किस्म की भूमि है।

ओडवाडा गांव में मकानों पर बुलडोजर अमानवीय लाठीचार्ज

MOOKNAYAKMEDIA 33 Copy 300x195 ओडवाडा गांव में मकानों पर बुलडोजर अमानवीय लाठीचार्ज, 440 कच्चे पक्के मकान अतिक्रमण हटाने कि कार्रवाई जारी, भाजपा के नए राजस्थान में आपका स्वागत है डोटासराउच्च न्यायालय में सुनवाई के बाद न्यायालय ने ओरण भूमि पर निर्मित मकान को अतिक्रमण मानते हुए हटाने के आदेश जारी किये थे। न्यायालय की अनुपालना में जिला प्रशासन भी तैयारी में लग गया है। मकानों को ध्वस्त करने की इस कार्रवाई के विरोध में यहां बड़ी संख्या में पुरुष एवं महिलाएं जुट गईं।

इसके बाद पुलिस ने भीड़ को हटाने के लिए लाठी चार्ज किया। पुलिस प्रशासन ने बल प्रयोग कर महिलाओं और लोगों को हटाया गया। इसके बाद अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू की गई है। इन दौरान महिलाओं के मकानों पर बुलडोजर चला तो कई महिलाएं बिलख पड़ी तो कई बेहोश हो गईं।

राजस्थान हाई कोर्ट (Rajasthan High Court) ने जालोर (Jalore) जिले के बाड़मेर रोड स्थित ओडवाडा (Odwara) गांव में 35 एकड़ चारागाह भूमि पर बने 150 से अधिक पक्के मकान और करीब 160 कच्चे बाडे़ हटाने के आदेश दिये हैं। इस पर अमल करते हुए गुरुवार को जब जालोर प्रशासन भारी पुलिस बल के साथ अतिक्रमण हटाने पहुंचा तो वहां ग्रामीण विरोध पर उतर आए।

जबरदस्त हंगामे के बीच पुलिस की ग्रामीणों से झड़प भी हो गई, जिसमें कई महिलाएं बेहोश हो गईं। हालांकि पुलिसकर्मी नहीं रुके। उन्होंने अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई पूरी करने के लिए लाठीचार्ज किया और ग्रामीणों को वहां से खदेड़ दिया।

जहां कोर्ट का स्टे, वहां कार्रवाई नहीं

आहोर SDM शंकर लाल मीणा ने बताया कि कोर्ट के आदेशानुसार कार्रवाई की जा रही है। जहां कोर्ट का स्टे है, उन जगहों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। अतिक्रमण हटाने के दौरान कई लोगों ने हाथ जोड़कर कहा कि कार्रवाई मत कीजिए, हम कहां जाएंगे। इस पर पुलिस ने समझाइश की। लेकिन जब वो नहीं माने तो पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। मौके पर करीब डेढ़ हजार ग्रामीण हैं।

ओडवाड़ा की पूर्व सरपंच प्रमिला राजपुरोहित ने बताया कि करीब 3 साल पहले गांव के निवासी मुकेश पुत्र मुल्ल सिंह राजपुरोहित और महेन्द्र सिंह पुत्र बाबू सिंह राजपुरोहित के बीच जमीन के बंटवारे को लेकर विवाद हो गया था। दोनों भाइयों का विवाद हाईकोर्ट तक पहुंच गया। जमीन की नाप हुई तो करीब 440 मकान चारागाह भूमि में पाए गए।

इसके बाद कोर्ट के आदेश से 2022 और 2023 में कुछ कच्चे अतिक्रमण हटा दिए थे। कोर्ट के आदेश पर 150 से अधिक कच्चे मकान और करीब 160 बाड़े हटाने को लेकर गांव में मकानों को चिह्नित कर निशान लगाए गए थे।

दरअसल, ओडवाड़ा गांव के दो भाइयों के जमीन का विवाद हाईर्ट पहुंचा था, सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने पूरे ओडवाड़ा गांव की जमीन को ही ओरण भूमि बताया और 14 मई तक प्रशासन को जमीन से अतिक्रमण हटाने के निर्दश दिए। अतिक्रमण की जद में 150 गांव आए, जिन्हें तोड़ने के लिए आज प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची है, और कच्चे-पक्के मकान तोड़ने की कार्रवाई की जा रही है।

सामान निकालने के लिए कल तक का समय दिया

जानकारी के अुनसार प्रशासन की ओर से ग्रामीणों को कल तक का समय देते हुए राहत दी गई। इस बीच लोगों से अपने घरों से सामान हटा लेने को कहा गया है। शुक्रवार को प्रशासन एक बार फिर कार्रवाई शुरू करेगा। फिलहाल प्रशासन की ओर से कई घरों के बिजली कनेक्शन काट दिए गए हैं। साथ ही बुलडोजर के जरिए मकानों की बाउंड्री तोड़ी गई हैं।

440 कच्चे-पक्के मकान अतिक्रमण हटाने कि कार्रवाई जारी

मामला जालोर जिले के आहोर उपखंड क्षेत्र के ओडवाड़ा गांव का है, जहां दो भाइयों के जमीनी विवाद के मामले की सुनवाई करने के बाद हाईकोर्ट ने गांव के करीब 440 कच्चे-पक्के मकानों को तोड़ने के आदेश जारी किये हैं। कोर्ट के आदेश के अनुसार 440 घर ओरण भूमि में बने हुए हैं।

इसको लेकर पूर्व में कोर्ट के आदेश पर प्रशासन की ओर से पहले भी इन सभी घरों पर क्रॉस का निशान लगाकर चिन्हित किया गया था। मालिकों को घर खाली करने के नोटिस भी जारी किए गए थे। अब फिर से कोर्ट के आदेश के बाद 2 मई को तहसीलदार ने सभी को नोटिस जारी किये हैं। इन सभी मकान मालिकों को 14 मई तक मकान खाली करने को कहा गया था। ऐसा नहीं करने पर आज गुरुवार को प्रशासन की ओर से मकान तोड़ने और सामान जब्त करने की कार्रवाई की जा रही है।

‘भाजपा के नए राजस्थान में आपका स्वागत है’ गोविंद सिंह डोटासरा

घरों पर जेसीबी और बुल्डोजर चलता देख वहां महिलाएं बेसुध हो गईं। छोटी-छोटी बच्चियां बेघर होते ही चीखती चिल्लाने लगीं। लेकिन पुलिस की कार्रवाई नहीं रुकी। जो लोग लाठीचार्ज के बाद भी विरोध करते दिखे उन्हें पुलिस ने पकड़कर वैन में डाल दिया।

इस दौरान की कई तस्वीरें और वीडियो भी सामने आई हैं, जो इस वक्त सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इस पूरे मामले को लेकर प्रदेशभर में राजनीति भी शुरू हो गई है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘जालोर के ओडवाडा में उजड़ते आशियाने, बिलखते परिवार, महिलाओं से बर्बरता और पुलिस का क्रूर चेहरा। भाजपा के नये राजस्थान में आपका स्वागत है। शर्मनाक!’। जालोर के ओडवाडा में उजड़ते आशियाने, बिलखते परिवार, महिलाओं से बर्बरता और पुलिस का क्रूर चेहरा।

दरअसल, हाई कोर्ट ने 7 मई को चारागाह भूमि पर बने मकानों को हटाने के आदेश दिए थे। चश्मदीदों ने बताया कि चारागाह (ओरण) भूमि पर बने मकानों को हटाने के लिए आज सुबह 7 बजे जब प्रशासन और पुलिस अधिकारी वहां पहुंचे तो ग्रामीणों ने रास्ता ब्लॉक कर दिया। महिलाएं बुलडोजर और पुलिस की गाड़ियों के आगे बैठ गईं।

यह भी पढ़ें : पति की कुल्हाड़ी से हत्या कर उसके शव को टांके में छिपाया

इसके बाद जबदरस्त विरोध प्रदर्शन हुआ, और फिर मौके पर JCB के जरिए मकानों की बाउंड्री तोड़ी गई और कुछ घरों के बिजली कनेक्शन काट दिये गये। गांव में हालात बिगड़ता देख फिलहाल प्रशासन की ओर से कल तक की राहत दी है। अधिकारियों ने कहा है कि मौजूद लोगों को कल तक सामान हटाने की चेतावनी दी जा रही है। आने वाले 3 दिनों तक लगातार कार्रवाई जारी रहेगी। शुक्रवार को फिर से कार्रवाई होगी।

तीन साल पुराना है मामला

जानकारी के अनुसार ओड़वाड़ा गांव में 3 साल पहले गांव के निवासी मुकेश पुत्र मुल्लसिंह राजपुरोहित और महेन्द्रसिंह पुत्र बाबुसिंह राजपुरोहित में जमीन के बंटवारे को लेकर विवाद हो गया था। इसके बाद दोनों भाई हाईकोर्ट पहुंच गए। दोनों भाइयों की जमीन का नाप हुआ। जिसमें करीब गांव के 440 घर ओरण भूमि पर बने पाये गये। जिसके बाद कोर्ट के आदेश से 2022 और 2023 में कुछ कच्चे अतिक्रमण हटा दिये थे। अब फिर से कोर्ट के आदेश पर 150 से अधिक कच्चे मकान और 160 के करीब बाड़े बंदी हटाने को लेकर उन्हें चिन्हित किया गया है।

मूकनायक मीडिया को आर्थिक सहयोग दीजिए

%name ओडवाडा गांव में मकानों पर बुलडोजर अमानवीय लाठीचार्ज, 440 कच्चे पक्के मकान अतिक्रमण हटाने कि कार्रवाई जारी, भाजपा के नए राजस्थान में आपका स्वागत है डोटासरा

 

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This