हाइड्रोपोनिक तकनीक : राजस्थान के आईआईटीयन का कमाल, बिना जमीं फल-सब्जियाँ उगाकर सात लाख सालाना कमाई

8 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो || जून 05, 2021 || जयपुर – भीलवाड़ा – कोटा : बिना जमीन के फल और सब्जियों की खेती, आपको यह जानकर थोड़ी हैरानी हो सकती है, लेकिन यह सच है। देश के कुछ हिस्सों में इस तरह की खेती की जा रही है। इस तकनीक को हाइड्रोपोनिक सिस्टम कहा जाता है। इस तरह की खेती के लिए जमीन की जगह न्यूट्रिशनल वॉटर की जरूरत होती है। राजस्थान के रहने वाले अभय सिंह और अमित कुमार IIT बॉम्बे से पास आउट हैं। दोनों मिलकर पिछले तीन साल से इस नई तकनीक से खेती कर रहे हैं। अभी हर दिन वे 500 किलो (5 क्विंटल) सब्जियों का प्रोडक्शन कर रहे हैं। और हर महीने एक फार्म से 3.5 लाख की मार्केटिंग वे कर रहे हैं। उन्होंने राजस्थान के कोटा और भीलवाड़ा में अपने फार्म लगाये हैं। तीन साल तक नौकरी की, लेकिन मन नहीं लगा अभय सिंह मूल रूप से उत्तरप्रदेश के रहने वाले हैं। हालांकि उनकी पढ़ाई-लिखाई राजस्थान में हुई है। इसके बाद वे 2010 में IIT बॉम्बे चले गये। जबकि अमित श्रीगंगानगर के रहने वाले हैं। दोनों की दोस्ती IIT बॉम्बे में हुई। पढ़ाई के दौरान अभय और अमित ने रोबोटिक सिस्टम पर काम किये। दोनों ने अवॉर्ड भी जीते। इसके बाद 2014 में दोनों की एक कंपनी में जॉब लग गयी। करीब 3 साल तक जॉब करने के बाद दोनों को लगा कि अब खुद का कुछ करना चाहिए। कुछ ऐसा काम जिसमें अर्निंग के साथ-साथ सोशल चेंज भी हो और लोगों को लॉन्ग टर्म फायदा भी मिले। चूंकि अभय और अमित दोनों ही फार्मर फैमिली से ताल्लुक रखते थे। इसलिए तय किया कि इसी सेक्टर में कुछ किया जाए ताकि किसानों को भी फायदा हो और लोगों को बेहतर फूड भी खाने को मिले। अभय और अमित ने नौकरी छोड़कर आरंभ की खेती अक्टूबर 2017 में अभय और अमित ने नौकरी छोड़ दी। इसके बाद करीब 6 महीने तक उन्होंने राजस्थान के कुछ गांवों का दौरा किया। वहां के किसानों से मिले। खास करके जो किसान ऑर्गेनिक फार्मिंग करते थे। उनसे तौर तरीके और उनके बिजनेस को समझने की कोशिश की। 28 साल के अभय कहते हैं कि तब हमने रियलाइज किया कि ऑर्गेनिक फार्मिंग करने वाले किसान या तो ज्यादा प्रोडक्शन नहीं कर पा रहे हैं या फिर उन्हें सही कीमत नहीं मिल रही। उनके लिए खेती खर्चीली साबित हो रही है और लोग महँगी सब्जियाँ खरीदना नहीं चाहते। जिससे उन्हें बेहतर मार्केट नहीं मिल पा रहा है। वहीं जो लोग हाइड्रोपोनिक तकनीक से खेती कर रहे हैं, वे भी महँगी और विदेशी सब्जियाँ ज्यादा उगा रहे हैं। इससे सब्जी की कीमत भी बढ़ जाती है और सेहत के लिए ऐसे सब्जियाँ ठीक नहीं होती। घर के छत से की फार्मिंग की शुरुआत साल 2018 में अभय और अमित ने मिलकर घर की छत से हाइड्रोपोनिक तकनीक से खेती की शुरुआत की। उन्होंने अपने छत पर ही पालक, भिंडी, टमाटर, लौकी जैसी सब्जियाँ उगाईं। इसके बाद कोटा के लोकल मार्केट में सेल किया। हालांकि शुरुआत में उन्हें कुछ खास मुनाफा नहीं हुआ। उनके लिए भी यह तकनीक महँगी पड़ रही थी। अभय बताते हैं कि इस तकनीक में आमतौर पर कोकोपीट का उपयोग मिट्टी की जगह होता है। जिसे 6 महीने या सालभर के भीतर बदलना पड़ता है। ताकि हम जिस मीडियम में प्लांट उगाते हैं, उसका PH लेवल मेंटेन रहे। ऐसे में प्रोडक्शन की कॉस्ट बढ़ जाती है। इस समस्या का हल ढूंढने के लिए अभय और उनकी टीम ने काफी रिसर्च किया। कई तरह के एक्सपेरिमेंट किये। इसके बाद उन्होंने एक ग्रोइंग चैंबर तैयार किया। इसमें कोकोपीट की जरूरत नहीं थी और न ही 6 महीने, सालभर पर मीडियम बदलने की। साल भर रिसर्च किया, ताकि लागत का खर्च कम हो सके अगले साल अभय ने Eeki foods नाम से अपनी कम्पनी बनाई। फिर कोटा में एक चौथाई एकड़ जमीन ली। यहां उन्होंने करीब 25 लाख रुपए की लागत से एक पॉलीहाउस तैयार किया। इसके बाद उसमें हाइड्रोपोनिक सिस्टम डेवलप किया और ग्रोइंग चैम्बर्स लगा दिये। इस नई तकनीक से खेती का उन्हें फायदा भी हुआ। अभय कहते हैं कि अगले साल से हमारी खेती की लागत भी कम हो गयी और प्रोडक्शन भी काफी ज्यादा बढ़ गया। इसका असर ये हुआ कि हम लोगों को मार्केट रेट पर ही प्योर और ऑर्गेनिक फूड प्रोवाइड कराने लगे। अभी राजस्थान में कोटा और भीलवाड़ा में उनके फार्महाउस अभी अभय करीब 400 घरों में अपने प्रोडक्ट पहुँचा रहे हैं। साथ ही कई दुकानदार और रिटेलर्स भी उनके कस्टमर्स हैं। राजस्थान में कोटा और भीलवाड़ा में उनके फार्महाउस हैं। जल्द ही वे दिल्ली सहित दूसरे राज्यों में भी अपने फार्महाउस लगाने वाले हैं। आज उनकी टीम में 40 लोग काम करते हैं। इसमें हर फील्ड के जानकार लोग शामिल हैं। अभय कहते हैं कि अभी हम डेवलपिंग स्टेज में हैं। जल्दी ही हम राजस्थान के बाहर भी मार्केट में शिफ्ट हो जाएंगे। हमने अपनी तैयारी लगभग पूरी कर ली है। अगले साल तक हमारा टारगेट हर महीने 40 लाख रुपए के कारोबार का है। कुछ लोगों ने अभय की कंपनी में इन्वेस्ट भी किया है। वे कहते हैं कि हम लोग हर दिन प्रोडक्शन करते हैं और फिर उसे उसी दिन मार्केट में पहुँचा देते हैं। इससे लोगों को ताजी सब्जियाँ खाने को मिलती हैं। साथ ही हम किसी तरह के पेस्टीसाइड और केमिकल भी इस्तेमाल नहीं करते हैं। क्या होती है हाइड्रोपोनिक तकनीक ? हाइड्रोपोनिक तकनीक खेती की एक ऐसी विधि है जिसमें जमीन का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इसमें एक ऐसी व्यवस्था की जाती है ताकि प्लांट के डेवलपमेंट के लिए जरूरी चीजें वॉटर मीडियम के जरिए मुहैया कराई जा सकें। इसमें आमतौर पर कोकोपीट यानी नारियल के वेस्ट से तैयार नेचुरल फाइबर का इस्तेमाल मिट्टी की जगह किया जाता है। कई बार कंकण और पत्थर का भी इस्तेमाल किया जाता है। उसके बाद पानी के जरिए जरूरी मिनरल्स प्लांट को दिया जाता है। अमेरिका, ब्रिटेन और सिंगापुर समेत दुनिया के कई हिस्सों में इस तकनीक का चलन तेजी से बढ़ रहा है। 70% से ज्यादा पानी की बचत, ऑफिस में बैठकर भी कर सकते हैं कंट्रोल इस तकनीक का सबसे बड़ा फायदा यह भी है कि इसके लिए पानी की जरूरत बहुत अधिक नहीं होती है। सामान्य खेती के मुकाबले इसमें 30% ही पानी की जरूरत होती है। इसलिए ऐसी खेती में चाहे गर्मी हो या ठंड सिंचाई के टेंशन से मुक्ति मिल जाती है। साथ ही इसे ऑटोमेटिक कंट्रोल सिस्टम के जरिए ऑफिस में बैठकर भी पौधों की देखभाल की जा सकती है। एक स्विच के जरिए पौधों में पानी और जरूरी मिनरल्स पहुँचाया जा सकता है। आप हाइड्रोपोनिक सिस्टम से खेती कैसे कर सकते हैं? देश में कई जगहों पर इसकी ट्रेनिंग दी जाती है। आप नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र से इस संबंध में जानकारी ले सकते हैं। इसके साथ ही कई प्रोफेशनल्स भी इसकी ट्रेनिंग देते हैं। आप खुद के लिए चाहें तो अपनी छत पर इस तरह की खेती कर सकते हैं। इसके लिए मार्केट में सेटअप भी मिल जाता है। आप चाहें तो एक्सपर्ट के जरिए इसे अपने घर में इंस्टॉल करा सकते हैं या फिर खुद भी लर्निंग वीडियो देखकर कर सकते हैं। इस तरह की खेती की शुरुआत 10 से 15 हजार रुपए से की जा सकती है। लेकिन, अगर आप कॉमर्शियल लेवल पर खेती करना चाहते हैं तो आपकी लागत बढ़ जाएगी। जिस तकनीक से अभय खेती करते हैं, उसमें करीब 20 लाख रुपए की जरूरत होगी। इसके लिए सरकार की तरफ से सब्सिडी मिलती है। आप बैंक से लोन लेकर भी पॉलीहाउस और हाइड्रोपोनिक सिस्टम डेवलप कर सकते हैं। वर्टिकल फार्मिंग : बिना जमीन के और किन विधियों से की जा सकती है खेती? इस विधि में घर की दीवारों पर फार्मिंग होती है। इसके लिए गमलों से बनी एक आकृति घर की दीवारों पर लगा दी जाती है। फिर उसमें ऑर्गेनिक खाद, मिट्टी डाल दी जाती है। इसके बाद फूलों के बीज लगा दिये जाते हैं। इसकी बनावट ऐसी होती है कि एक जगह पानी डालने पर सभी गमलों में पहुँच जाता है। इनडोर उगने वाले प्लांट्स इसके लिए सबसे उपयुक्त होते हैं। इस तरह की खेती की शुरुआत 8 से 10 हजार रुपए से की जा सकती है। टेरेस गार्डनिंग : फार्मिंग में घर की छत या द्वार के फर्श का इस्तेमाल इस तरह की फार्मिंग में घर की छत या द्वार के फर्श का इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए प्लांट्स की जरूरत के मुताबिक प्लास्टिक बैग (ग्रो बैग) लिए जाते हैं। उनमें खाद और मिट्टी डाल दी जाती है। फिर उसमें प्लांट्स लगा दिये जाते हैं। आप चाहे तो पुरानी बाल्टी या डिब्बे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस तरह की खेती सब्जियों और फलों के लिए बेहतर होती है। छत पर आप आसानी से फलियाँ, बैंगन, टमाटर और मिर्च जैसी सब्जियाँ उगा सकते हैं। इस तरह की खेती की शुरुआत 3 से 5 हजार रुपए से की जा सकती है। साभार : दैनिक भाष्कर मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए आर्थिक सहयोग दीजिए… उम्मीद है आप मिशन अंबेडकर से अवश्य जुड़ेंगे मूकनायक मीडिया बिरसा फुले अंबेडकार मिशन हम तभी जारी रख सकते हैं जब आप सभी बाबासाहब डॉ अंबेडकर के इस मिशन से आत्मीयता से जुड़ें ! मिशनरी कार्य आप तक पँहुचाने के लिए हमारा आर्थिक सहयोग करें। आप सब दानवीर हैं इसलिए आपसे मिशन अंबेडकर को आगे बढ़ाने हेतु आर्थिक मदद की जरुरत हैं। अत: अपनी इच्छानुसार PhonePay या Paytm 9999750166 पर क्रमशः मासिक / अर्द्धवार्षिक / वार्षिक 200, 600, 1200, 2400 या एकमुश्त 5100, 11000, 21000 दीजिए। या इससे भी इससे भी अधिक अपनी हेसियत के मुताबिक नीचे Donate link पर जाकर आर्थिक सहयोग दीजिए ताकि बिरसा फुले अंबेडकार मिशन का कारवाँ जारी रह सके। जैसे-जैसे संसाधन बढ़ेंगे.. आपका मूकनायक मीडिया आगे बढ़ेगा.. डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक / Twitter / यूट्यूब चैनल को click करके सब्सक्राइब कीजिए।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This