पहल : गहलोत सरकार ने राजस्थान में उच्चशिक्षा का कायापलट किया, कई सरकारी कॉलेज इसी सत्र से होंगे आरंभ

2 min read

मूकनायक मीडिया ब्यूरो | 02 अगस्त 2020 | जयपुर : गहलोत सरकार प्रदेश के सभी क्षेत्रों में युवाओं को उच्च शिक्षा के भरपूर अवसर उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयासरत है। पिछले दो बजट में नये कॉलेज खोलने, कॉलेजों को क्रमोन्नत करने तथा स्व वित्त पोषित महाविद्यालयों को राजकीय महाविद्यालय का दर्जा देने की महत्वपूर्ण घोषणाएँ की थी। जनप्रतिनिधियों एवं स्थानीय आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए ये फैसले किये थे। इन निर्णयों की त्वरित क्रियान्विति पर जोर देते हुए 37 नये महाविद्यालय इसी शैक्षणिक सत्र 2020-21 से शुरू करने का निर्णय लिया है। 10 स्नातक महाविद्यालय स्नातकोत्तर में क्रमोन्नत करने, 5 स्व वित्त-पोषित महाविद्यालयों और 4 निजी महाविद्यालयों को राज्य सरकार के अधीन करने के लिए प्रस्तावों का अनुमोदन भी किया है। यहाँ खुलेंगे महाविद्यालय बांसवाड़ा के छोटी सरवन, गांगडतलाई, अलवर के मालाखेड़ा, कठूमर एवं रामगढ़, बीकानेर के देशनोक, बूंदी के हिंडौली, अजमेर के भिनाय, सांवर, जैसलमेर के भणियाणा, बाडमेर के सिणधरी, समदड़ी, पाटौदी, गडरा रोड एवं सेड़वा, जयपुर के कोटखावदा, बगरू, राड़ावास, जामडोली एवं कंवर नगर, झुंझुनूं के चिड़ावा, सवाई माधोपुर के मलारना डूंगर, भीलवाड़ा के गंगापुर, धौलपुर के सरमथुरा एवं बसई नवाब, भरतपुर के रूपवास एवं सीकरी, चित्तौड़गढ़ के गंगरार, दौसा के नांगल राजावतान, करौली के मासलपुर, जोधपुर के कुडी भगतासनी एवं लोहावट, सीकर के लोसल एवं फतेहपुर में, झुन्झुनूं के सूरजगढ़, चूरू के राजलदेसर में एवं नागौर के मकराना में नए कॉलेज खोले जा रहे हैं। 5 स्व वित्त-पोषित, 4 निजी महाविद्यालय राज्याधीन होेंगे चितौड़गढ़ जिले में महाराणा प्रताप महाविद्यालय, रावतभाटा और शहीद रूपाजी कृपाजी महाविद्यालय, बेगूं तथा बूंदी जिले में भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय, नैनवां, पाली जिले में आईमाता महाविद्यालय, सोजतसिटी और बारां जिले में श्री प्रेमसिंह सिंघवी महाविद्यालय, छीपाबड़ौद महाविद्यालय को सरकार के अधीन संचालित करने को मंजूरी दी है। ये सभी महाविद्यालय वर्तमान में स्व वित्त-पोषित आधार पर चल रहे हैं। इसी प्रकार, चार निजी महाविद्यालयों, श्रीगंगानगर जिले में ज्ञान ज्योति स्नातकोत्तर महाविद्यालय, श्रीकरणपुर और शहीद भगतसिंह महाविद्यालय, रायसिंहनगर तथा हनुमानगढ़ जिले में मीरा कन्या महाविद्यालय, संगरिया तथा अलवर जिले में बाबा मोहनराम किसान कॉलेज, भिवाड़ी कोे भी राज्याधीन करके संचालित करने का निर्णय लिया है। इन सभी 9 महाविद्यालयों को राज्याधीन करने के क्रम में यहां कार्यरत शैक्षणिक और अशैक्षणिक कार्मिकों को राजकीय सेवा में शामिल करने के लिए इनकी पात्रता की जांच तथा स्क्रीनिंग के लिए समितियां गठित की जाएंगी। 10 महाविद्यालय क्रमोन्नत होंगे, 22 में नए संकाय एवं विषय शुरू होंगे बाड़मेर जिले में 3, धौलपुर जिले में 2, झुंझुनूं, भीलवाड़ा, जोधपुर, अलवर और भरतपुर जिलों में राजकीय महाविद्यालयों को क्रमोन्नत भी किया जाएगा। इसके अतिरिक्त, 13 राजकीय महाविद्यालयों में स्नातक स्तर पर नवीन संकाय भी इसी सत्र से शुरू करने की अनुमति दी है। इनमें बीकानेर और राजसमंद जिलों के 2-2 और झुंझुनूं, भीलवाड़ा, धौलपुर, जयपुर, जोधपुर, नागौर, टोंक, डूंगरपुर और पाली जिलों के एक-एक महाविद्यालय शामिल हैं। जैसलमेर के 2 तथा जयपुर और सिरोही के एक-एक महाविद्यालयों में नवीन विषय शुरू होंगे। अलवर और जैसलमेर के 2-2 तथा जोधपुर जिले के एक महाविद्यालय में स्नातकोत्तर स्तर पर नवीन विषय शुरू होगा और नये पद सृजित होंगे।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

डॉ अंबेडकर की बुलंद आवाज के दस्तावेज : मूकनायक मीडिया पर आपका स्वागत है। दलित, आदिवासी, पिछड़े और महिला के हक़-हकुक तथा सामाजिक न्याय और बहुजन अधिकारों से जुड़ी हर ख़बर पाने के लिए मूकनायक मीडिया के इन सभी links फेसबुक/ Twitter / यूट्यूब चैनलको click करके सब्सक्राइब कीजिए… बाबासाहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के “Payback to Society” के मंत्र के तहत मूकनायक मीडिया को साहसी पत्रकारिता जारी रखने के लिए PhonePay या Paytm 9999750166 पर यथाशक्ति आर्थिक सहयोग दीजिए…
उम्मीद है आप बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन से अवश्य जुड़ेंगे !

बिरसा अंबेडकर फुले फातिमा मिशन के लिए सहयोग के लिए धन्यवाद्

Recent Post

Live Cricket Update

Rashifal

You May Like This